kishori-yojna
नीतीश ने मोदी को दिखाया रास्ता

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीशकुमार ने ऐसा काम कर दिखाया है, जो उन्हें नेताओं का नेता बना देता है। पिछले कुछ दिनों से उनकी छवि गठबंधन-बदलू नेता की बन रही थी लेकिन उन्होंने बिहार की विधानसभा से राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर के खिलाफ प्रस्ताव पारित करवाकर एक चमत्कार-सा कर दिया है। वह प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित हुआ है याने भाजपा के विधायकों ने भी नागरिकता रजिस्टर को रद्द कर दिया है।यह वही नागरिकता रजिस्टर है, जिसके कारण दिल्ली में दंगे हो रहे हैं, सारे देश में सैकड़ों शाहीन बाग उग आए हैं और सारी दुनिया में भारत की छवि गारत हो रही है। इसी रजिस्टर के प्रस्ताव ने सारे देश में गलतफहमी का अंबार खड़ा कर दिया है। मुसलमान यह मानकर चल रहे हैं कि यह हिंदुत्ववादी मोदी सरकार मुसलमानों को छांट-छांटकर देश-निकाला दे देगी। यह धारणा बिल्कुल निराधार है लेकिन राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर के तहत नागरिकों से जो सवाल पूछे जाने हैं, उन्होंने इस गलतफहमी को मजबूत कर दिया है। संसद में गृहमंत्री के बयानों और संसद के बाहर दिए गए भाजपा नेताओं के उकसाऊ भाषणों ने इस गलतफहमी को अंधविश्वास में बदल दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस आश्वासन के बावजूद कि राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर जैसी किसी योजना पर… Continue reading नीतीश ने मोदी को दिखाया रास्ता

बिहार में जातिय जनगणना?

पटना। राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर, एनपीआर का फॉर्मेट बदलने और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर, एनआरसी को नहीं लागू करने का प्रस्ताव पास कराने के बाद अब बिहार सरकार ने इस साल शुरू होने वाली जनगणना को लेकर एक बड़ा प्रस्ताव पास कराया है। दिल्ली में साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले सरकार ने जाति आधारित जनगणना कराने का फैसला किया है। चुनाव से पहले सोशल इंजीनियरिंग में जुटे नीतीश कुमार ने पिछड़ी जातियों को गोलबंद करने के लिए यह बड़ा दांव चला है। गौरतलब है कि बिहार में ज्यादातर पार्टियां जाति आधारित जनगणना की मांग करती रही हैं। राजद के साथ साथ जदयू भी राज्य में जातीय आधार पर जनगणना कराने की वकालत करती रही है। एनआरसी के विरोध के बाद विपक्षी पार्टियों और जदयू की सहमति से जाति आधारित जनगणना कराने का प्रस्ताव गुरुवार को विधानसभा से पारित हो गया। 2015 के चुनाव में जब राजद और जदयू दोनों मिल कर लड़े थे तब भी दोनों पार्टियों ने जाति आधारित जनगणना का मुद्दा उठाया था। लालू प्रसाद जातीय आधार पर जनगणना को लेकर कई बार सवाल उठा चुके हैं और नीतीश कुमार भी कई मंचों से यह बात कह चुके हैं कि जातीय आधारित जनगणना जरूरी है।… Continue reading बिहार में जातिय जनगणना?

तेल एवं गैस क्षेत्रों के विवादों के समाधान के लिए समिति का गठन

सरकार ने तेल एवं गैस क्षेत्रों के विवादों के समाधान के लिए एक विशेषज्ञ समिति का गठन किया है। विवादों की वजह से इस क्षेत्र में निवेश प्रभावित हो रहा है।

और लोड करें