ब्राजील के वैज्ञानिकों ने निकाला कोरोना का तोड़, सांप के जहर से रुकेगा वायरस का प्रसार

एक प्रकार के सांप के जहर में एक अणु ने बंदर की कोशिकाओं में कोरोना वायरस प्रजनन को रोक दिया।

दुनिया में कोरोना का कहर, अमेरिका में 90 हजार नए केस

कोरोना वायरस की नई लहर दुनिया में कहर बरपाने लगी है। गुरुवार को पूरी दुनिया में साढ़े छह लाख से ज्यादा मामले आए। इससे पहले के हफ्ते में नए केसेज की संख्या साढ़े चार लाख तक पहुंच गई थी।

डेल्टा चेचक की तरह फैल सकता, टीका लगाए लोगों में भी

कोरोना वायरस के डेल्टा वैरिएंट को लेकर अमेरिका में एक अध्ययन हुआ है, जिसकी रिपोर्ट बेहद चिंता में डालने वाली है। इस अध्ययन की अंतिम रिपोर्ट अभी प्रकाशित नहीं हुई है

Corona update: डेल्टा पहुंचा 111 देशों में,  संक्रामक क्षमता अन्य वैरिएंट्स की तुलना में ज्यादा

Corona update Delta Variant : जिनेवा। कोरोना वायरस की दूसरी लहर में भारत में तबाही मचाने वाला डेल्टा वैरिएंट दुनिया के 111 देशों में फैल गया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन, डब्लुएचओ ने इसे लेकर दुनिया के देशों को आगाह किया है। डब्लुएचओ ने कोरोना संक्रमण के बारे में साप्ताहिक अपडेट में कहा है कि आने वाले दिनों में यह दुनिया में सबसे ज्यादा फैलने वाला वैरिएंट हो सकता है। इसका कारण यह है कि यह बाकी वैरिएंट्स के मुकाबले ज्यादा तेजी से फैलता है। डब्लुएचओ ने कहा है कि इस वैरिएंट के तेजी से फैलने से दुनिया के देशों के स्वास्थ्य ढांचे पर दबाव बढ़ेगा। डब्लुएचओ ने मंगलवार को जारी कोविड-19 के अपने साप्ताहिक अपडेट में कहा कि डेल्टा वैरिएंट ( Corona update Delta Variant ) के कारण कोविड-19 के मामले बढ़ने की जानकारी डब्लुएचओ के तहत आने वाले सभी क्षेत्रों से सामने आई है। मंगलवार 13 जुलाई तक, कम से कम 111 देशों, क्षेत्रों व इलाकों ने डेल्टा स्वरूप के मिलने की पुष्टि की है और इसके बढ़ने की आशंका है, जो आने वाले महीनों में वैश्विक स्तर पर हावी स्वरूप बन जाएगा। Read also:  Olympic 2021 : अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के अध्यक्ष का बड़ा फैसला, कोरोना से बचाव… Continue reading Corona update: डेल्टा पहुंचा 111 देशों में, संक्रामक क्षमता अन्य वैरिएंट्स की तुलना में ज्यादा

खतरा !  एक ही महिला में कोरोना के 2 वैरिएंट मिलने से 5 दिनों में मौत , वैज्ञानिकों ने कहा- अपनी तरह का पहले केस

नई दिल्ली | 2 variants in one female : दुनियाभर के देश कोरोना महामारी को लेकर त्रस्त हैं. ऐसे में लोगों की उम्मीदें अब कोरोना की वैक्सीन से ही लगी हुई है. टीकाकरण की गति भी अब विश्व भर में काफी तेज है. इसके बाद भी मायावी कोरोना नए-नए रंग-रूप लेकर हमारे सामने आ रहा है. ऐसा ही एक मामला बेल्जियम से सामने आया है जहां एक 90 वर्ष की महिला की कोरोना से हुई मौत ने वैज्ञानिकों की भी चिंता बढ़ा दी है. बताया जा रहा है कि इस महीना में एक नहीं बल्कि दो अलग-अलग तरह के कोरोना वैरीअंट पाए गए हैं. डॉक्टर भी महिला की कोरोना रिपोर्ट देखकर हैरान रह गये और उनका कहना था कि यह अपनी तरह का एक विरला ही केस है. वैज्ञानिकों ने लगाया यह अनुमान 2 variants in one female : वैज्ञानिकों ने माना है कि जरूर इस महिला की कोई ट्रेवलिंग हिस्ट्री रही होगी और यह अलग-अलग तरह के लोगों के संपर्क में आई होगी. वैज्ञानिकों का कहना है कि अलग-अलग लोगों से ही महिला को कोरोना का संक्रमण हुआ होगा यहीं कारण है कि अलग-अलग वेरिएंट देखने को मिले हैं. हालांकि इस महिला की मौत के बाद से अब एक… Continue reading खतरा ! एक ही महिला में कोरोना के 2 वैरिएंट मिलने से 5 दिनों में मौत , वैज्ञानिकों ने कहा- अपनी तरह का पहले केस

corona update delta variant: डेल्टा वैरिएंट 96 देशों में पहुंचा

corona update delta variant : नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस की दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार डेल्टा वैरिएंट दुनिया के 96 देशों में पहुंच चुका है। विश्व स्वास्थ्य संगठन, डब्लुएचओ ने पहले ही इसे वैरिएंट ऑऱफ कंसर्न यानी चिंताजनक वैरिएंट बताया था और अब आधी दुनिया में इसके फैलने के बाद आशंका जताई है कि आने वाले कुछ महीनों में यह ज्यादा हावी हो जाएगा। यानी इसके और कई देशों में फैलने का खतरा है। हालांकि डब्लुएचओ ने कहा कि डेल्टा प्लस अभी वैरिएंट ऑफ कंसर्न नहीं है। डब्लुएचओ ने यह भी बताया है कि ब्रिटेन में पहली बार मिला अल्फा वैरिएंट अब तक 172 देशों तक पहुंचा है। ब्रिटेन में एक बार फिर वायरस तेजी से फैल रहा है। डब्लुएचओ ने कोरोना महामारी पर इस हफ्ते जारी अपडेट में कहा है कि डेल्टा वैरिएंट ( corona update delta variant ) 96 देशों में पाया गया है। हालांकि, अब तक इस वैरिएंट की पहचान करने की क्षमता बहुत सीमित है। इसलिए हो सकता है कि इसके बारे में कम डाटा सामने आया हो। यह भी सच है कि कई देशों में इसी वैरिएंट की वजह से नए केस काफी ज्यादा बढ़ गए हैं। डब्लुएचओ ने कहा कि डेल्टा वैरिएंट… Continue reading corona update delta variant: डेल्टा वैरिएंट 96 देशों में पहुंचा

विशाल उल्कापिंड तेजी से आ रहा Earth की ओर, वैज्ञानिकों ने माना- टकराया तो धरती का विनाश निश्चित!

नई दिल्ली | Huge Meteorite : दुनिया में दो सालों से कोरोना महामारी रूकने का नाम नहीं ले रही और लोगों को लगातार शिकार बना रही है, वहीं इसी बीच एक और मुसीबत की खबर सामने आने लगी है। अब नासा के वैज्ञानिकों ने खुलासा किया है कि बेहद बड़ा उल्कापिंड (Huge Meteorite) पृथ्वी की तरफ बढ़ रहा है जो पृथ्वी के लिए खतरा उत्पन्न कर सकता है। पृथ्वी की ओर बढ़ रहे इस खतरे को वैज्ञानिकों ने 23 जून को देखा था, जिसके बाद से हड़कंप मचा हुआ है। ये इतना बड़ा है कि शुरुआत में इसे एक ग्रह के तौर पर देखा गया, लेकिन स्टडी और रिसर्च में ये ग्रह नहीं बल्कि एक उल्कापिंड निकला। ये भी पढ़ें:- Ujjain: कालों के काल ‘Mahakal’ के आज से खुले दर्शन, श्रद्धालुओं को रखना होगा इन बातों का ध्यान पृथ्वी से टकराता है तो पृथ्वी की तबाही निश्चित! एस्ट्रोनॉमर्स भी इस 62 मीटर बड़े उल्कापिंड को स्पेस से पृथ्वी की ओर आते देख शॉक्ड हैं। एस्ट्रोनॉमर्स ने बताया कि 23 जनवरी 2031 को ये पृथ्वी के सबसे नजदीक होगा। ऐसे में इस उल्कापिंड को स्टडी करने के लिए अभी उनके पास 10 साल का समय है। वैज्ञानिकों का मानना है कि ये… Continue reading विशाल उल्कापिंड तेजी से आ रहा Earth की ओर, वैज्ञानिकों ने माना- टकराया तो धरती का विनाश निश्चित!

Delta Plus Variant बना बड़ा खतरा

भारत की स्थिति यह है कि इस वेरिएंट का फैलाव दस राज्यों और करीब पौने दो सौ जिलों में हो चुका है। इससे महाराष्ट्र में पहली मौत भी हो चुकी है। विशेषज्ञ ये बता चुके हैं कि ये वेरिएंट पुराने तमाम वेरिएंट की तुलना में अधिक तेजी से फैलता है। इसका संक्रमण अपेक्षाकृत जल्दी फेफड़े तक पहुंच जाता है। देखते-देखते कोरोना वायरस का Delta Plus Variant एक बड़े खतरे के रूप में उभर गया है। और ये बात सिर्फ भारत की नहीं है, जहां ये वेरिएंट सबसे पहले पहचान में आया था। भारत की स्थिति यह है कि इस वेरिएंट का फैलाव दस राज्यों और करीब पौने दो सौ जिलों में हो चुका है। इससे महाराष्ट्र में पहली मौत भी हो चुकी है। विशेषज्ञ ये बता चुके हैं कि ये वेरिएंट पुराने तमाम वेरिएंट की तुलना में अधिक तेजी से फैलता है और इसका संक्रमण अपेक्षाकृत जल्दी फेफड़े तक पहुंच जाता है। अब तक कोरोना वायरस के बने वैक्सीन इस पर कितने प्रभावी हैं, इस बारे में अभी अनुमान ही लगाए जा रहे हैँ। अलग-अलग टीकों के बारे में अलग- अलग अनुमान लगे हैँ। बहरहाल, भारत की समस्या तो यह भी है कि यहां टीकाकरण की रफ्तार धीमी है। अब… Continue reading Delta Plus Variant बना बड़ा खतरा

Delta Plus Update: डेल्टा की चपेट में पूरी दुनिया, डब्लुएचओ की चेतावनी

Delta Plus Update : नई दिल्ली। दुनिया भर में एक बार फिर कोरोना वायरस के केसेज बढ़ने लगे हैं और ऐसा भारत में दूसरी लहर लाने वाले वायरस के डेल्टा वैरिएंट की वजह से हो रहा है। दुनिया के अनेक देशों में डेल्टा वैरिएंट की वजह से तेजी से नए केस बढ़ रहे हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन, डब्लुएचओ के प्रमुख टेड्रोस एडेनम गैब्रिएसस ने दुनिया के 85 देशों में फैल चुके इस वैरिएंट को लेकर दुनिया के देशों के लिए चेतावनी जारी की है। इस बीच ब्रिटेन, ब्राजील, ऑस्ट्रेलिया, बांग्लादेश सहित कई देशों में नए सिरे से पाबंदियां लगाई जा रही हैं और लॉकडाउन किए जा रहे हैं। दक्षिण अफ्रीका में डेल्टा वैरिएंट की वजह से स्थिति बिगड़ रही है। वहां एक दिन में 18 हजार नए केस मिले हैं। पुर्तगाल में सरकार ने कहा है कि वहां मिल रहे नए केसेज में से 50 फीसदी केस डेल्टा वैरिएंट के हैं, जबकि राजधानी लिस्बन में 70 फीसदी मामले डेल्टा वैरिएंट के हैं। ऑस्ट्रेलिया की राजधानी सिडनी में अब तक डेल्टा वैरिएंट के 80 केस मिले हैं और इसकी वजह से सिडनी में शनिवार को दो हफ्ते के सख्त लॉकडाउन का ऐलान किया गया। कोरोना से जंग जीत चुके और करीब… Continue reading Delta Plus Update: डेल्टा की चपेट में पूरी दुनिया, डब्लुएचओ की चेतावनी

डेल्टा प्लस वैरिएंट क्या है, क्या ये कोरोना की तीसरी लहर की चेतावनी है… आइए जानते हैं इसके सारे सवालों के जवाब

कोरोना वायरस ने हमारे जीवन में वर्ष 2020 में एंट्री मारी थी। तब लेकर अब तक यह अपने कई रूप बदल चुका हैं। कोरोना की दूसरी लहर हाल ही में होकर गुज़री है। और कोरोना का नया रूप डेल्टा प्लस भारत में आतंक मचाने आ चुका है। कोरोना का डेल्टा प्लस वायरस भी तेजी से अपने पैर फैला रहा है। महाराष्ट्र, तमिलनाडु, पंजाब, मध्य प्रदेश और राजस्थान में डेल्टा प्लस वैरिएंट के कई मामले देखे जा चुके है। महाराष्ट्र में इस वैरिएंट से एक ( what is delta plus varriant ) मौत भी हो चुकी है। कोरोना की दूसरी लहर से अभी तक लोग बाहर भी नहीं आए है कि कोरोना का बदलता हुआ रूप आ गया है। इसके बारे में सुनकर लोग डरे हुए हैं। कोरोना की दूसरी लहर ने जमकर तबाही मचाई थी।  केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया है कि कोरोना वायरस का डेल्टा प्लस वैरिएंट भारत के अलावा अभी 9 देशों में पाया गया है। ये देश हैं- अमेरिका, यूके, पुर्तगाल, स्विजरलैंड, जापान, पोलैंड, नेपाल, चीन, रूस। जहां तक बात वायरस के डेल्टा वैरिएंट की है तो यह भारत सहित दुनिया के 80 देशों में पाया गया है। भारत में कोरोना की दूसरी लहर की वजह भी… Continue reading डेल्टा प्लस वैरिएंट क्या है, क्या ये कोरोना की तीसरी लहर की चेतावनी है… आइए जानते हैं इसके सारे सवालों के जवाब

क्या कोरोना की पहली और दूसरी लहर से हम कुछ सीख पाये हैं.. तीसरी लहर भी 6 से 8 हफ्तों में आने की संभावना -डॉ रणदीप गुलेरिया

नई दिल्ली |  भारत में हाल ही में कोरोना की दूसरी लहर के मामलों में गिरावट होनी शुरु हुई है। सरकारों ने अनलॉक की प्रक्रिया शुरु कर दी है। लेकिन जैसे ही बाजार खुले है लोगों ने बाजारों में भीड़ लगानी शुरु कर दी है। बाजार की कुछ तस्वीरें वायरल हो रही है जिसमें लोग बिना मास्क, सामाजिक दूरी के बाजारों में बीड़ लगा रहे है। कोरोना की दूसरी लहर से हम पूरी तरह से उबरे भी नहीं है कि अगले 6-8 हफ्तों में कोरोना वायरस की तीसरी लहर दस्तक दे सकती है। यह आशंका एम्स के निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने व्यक्त की है। डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने यह भी संकेत दिए है कि तीसरी लहर से बचा नहीं जा सकता है। जब दूसरी लहर का प्रकोप चल रहा था उस समय ही कुछ एक्सपर्ट्स ने तीसरी लहर की चेतावनी ज़ारी कर दी थी। लापरवाही के चलते तीसरी लहर जल्द आएगी हाल ही में डॉ. रणदीप गुलेरिया ने एनडीटीवी से बातचीत में कहा कि राज्य सरकारों ने लॉकडाउन में छूट देनी शुरु कर दी है। बाजारों में फिर से भीड़ बढ़ने लगी है। ऐसा लग नहीं रहा है कि कोरोना की दूसरी लहर हमें अभी बर्बाद करके गुज़री है।… Continue reading क्या कोरोना की पहली और दूसरी लहर से हम कुछ सीख पाये हैं.. तीसरी लहर भी 6 से 8 हफ्तों में आने की संभावना -डॉ रणदीप गुलेरिया

अब क्या घर पर भी मास्क लगाकर बैठना होगा..वैज्ञानिकों ने किया खुलासा

वाशिंगटन : कोरोना का संक्रमण इतना ज्यादा फैल गया है कि ऐसै लगता है घरों में भी मास्क लगाकर ही रहें। घर में किसी से बात करते वक्त मास्क लगाएं। नहीं तो कोई वायरस आ जाएगा। कुछ समय पहले वैज्ञानिकों ने इस बात की आशंका जताई थी कि आने वाले समय में कोरोना वायरस इतना भयावह हो जाएगा कि ङरों में मास्क लगाकर रहना होगा। घर में, बंद कमरे में बिना मास्क लगाए बातचीत करने से कोरोना वायरस संक्रमण फैलने का जोखिम सबसे अधिक है। इस बात का खुलासा एक अध्यन में हुआ है। इस अनुसंधान में यह बताया गया है कि बोलते वक्त मुंह से अलग-अलग आकार की श्वसन बूंदें निकलती हैं और उनमें अलग अलग मात्रा में वायरस हो सकता है। ये बात तो सभी को पता होगी कि हमारे शरीर से हर वक्त सैकड़ों की संख्या में वायरस चिपके रहते है। अध्ययन के अनुसंधानकर्ताओं के मुताबिक, सबसे चिंताजनक बूंदे वे हैं जिनका आकार मध्यम है और जो कई मिनट तक हवा में रह सकती हैं। उन्होंने पाया कि ये बूंदे हवा के प्रवाह से ठीक-ठाक दूरी तक पहुंच सकती हैं। also read: क्या इंसान 150 साल तक जीवित रह सकता है..आइये जानते है स्टडी क्या कहती है वायरस… Continue reading अब क्या घर पर भी मास्क लगाकर बैठना होगा..वैज्ञानिकों ने किया खुलासा

क्या है फ्रांस की खूनी ग्लेशियर की कहानी, आइये जानते है वैज्ञानिकों का जुबानी

फ्रांस : क्या आपने कभी किसी ग्लेशियर को लाल होते देखा है..सभी का जवाब ना ही आएगा और काफी हद तक यह सच भी है लेकिन फ्रांस के एल्प्स की पहाड़ियों पर ग्लेशियर लाल होने लगे है। सफेद ग्लेशियर अचानक से लाल होने लगे है। इसे अलग-अलग कयास लगाए जा रहे है। कोई इसे नरसंहार की निशानी बता रहा है तो कोई इसे जीवों के कत्लेआम से जोड़ रहा है। लेकिन वैज्ञानिकों ने ऐसी किसी भी आशंका से इनकार किया है। वैज्ञानिको द्वारा इसकी जांच की जा रही है। इसे विज्ञान की भाषा में ग्लेशियर का खून कहा जाता है और इसकी सच्चाई का पता लगाने के लिए एक प्रोजेक्ट भी शुरू किया गया है। also read: ड्रैगन की नापाक हरकत! पूर्वी लद्दाख में गरजे चीनी लडाकू विमान, भारत भी चौकस, तैयार किए Rafale वैज्ञानिकों का एल्पएल्गा प्रोजेक्ट लिवसाइंस की रिपोर्ट के अनुसार फ्रांस में अचानक से ग्लेशियर के लाल होने के बाद वैज्ञानिकों द्वारा इसकी जांच की जा रही है। फ्रांस के वैज्ञानिकों ने इसके लिए एल्पएल्गा प्रोजेक्ट की शुरुआत की है। ग्लेशियर में यह खून 3,280 फीट से लेकर 9,842 फीट तक ही जमा हुआ है। इतनी ऊंचाई में जमा खीन की इस प्रोजेक्ट के द्वारा जांच की जा… Continue reading क्या है फ्रांस की खूनी ग्लेशियर की कहानी, आइये जानते है वैज्ञानिकों का जुबानी

Good News: AIIMS निदेशक का बड़ा बयान, कहा- बच्चों के संक्रमित होने के कोई पुख्ता सबूत नहीं, ना हों परेशान

नई दिल्ली | देशभर में कोरोना के मामले अब कम होने लगे हैं. इसी बीच AIIMS के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया का एक बड़ा बयान आया है. डॉक्टर गुलेरिया ने कहा है कि कोरोना वायरस के कारण यह लहरें नहीं आती है बल्कि वायरस के अपने स्वरूप बदलने के कारण परेशानियां बढ़ती. उन्होंने कहा कि स्पष्ट तौर पर अगर बात करें तो अभी तक इस बात की कोई प्रमाण नहीं है कि कोरोना की तीसरी लहर से बच्चे ज्यादा प्रभावित होने वाले हैं. उन्होंने कहा कि मैं अपने देश के वैज्ञानिकों और विशेषज्ञों का मजाक नहीं उड़ाना चाहता, लेकिन यह सच है कि अब तक हमें इस संबंध में कोई पुख्ता सबूत नहीं मिले मुझे तीसरी लहर आएगी और इससे बच्चे ज्यादा प्रभावित होंगे. लॉकडाउन से कम होता है इंफेक्शन का फैलाव प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा कि इसमें कोई शक नहीं है कि लॉकडाउन के कारण इंफेक्शन के फैलाव में कमी आती है. उन्होंने कहा कि देश के कई राज्यों में अब लॉकडाउन में कुछ छूट दी गई है. उन्होंने कहा कि ऐसे भी देश की जनता को कितने दिनों तक घरों में कैद किया जा सकता है. हालांकि डॉ गुलेरिया नहीं है… Continue reading Good News: AIIMS निदेशक का बड़ा बयान, कहा- बच्चों के संक्रमित होने के कोई पुख्ता सबूत नहीं, ना हों परेशान

Corona Alert: इंसानों में मिला कुत्तों वाला कोरोना वायरस, वैज्ञानिकों ने कही ये बात

New Delhi: विश्वभर में कोरोना के कारण अब देश की सरकारें सतर्क हैं. लगभग सभी देशों के वैज्ञानिक अभी भी कोरोना पर लगातार रिसर्च कर रहे हैं. आसे में अब वैज्ञानिकों ने निमोनिया से पीड़ित कुछ लोगों में कुत्तों में पाए जाने वाले एक नयी तरह के कोरोनावायरस का पता लगाया है. यह कहने, सुनने में भले खतरनाक लग सकता है, लेकिन इसका विश्लेषण करने के बाद लगता है कि इसकी वजह से आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है. मलेशिया के सरवाक के एक अस्पताल में आठ लोगों में कुत्तों का कोरोनावायरस पाए जाने के बारे में अत्यधिक सम्मानित अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों के एक समूह ने नैदानिक ​​​​संक्रामक रोगों से संबंधित विभाग को सूचित किया है. तो क्या इसका यह मतलब निकाला जाए कि कुत्ते इंसानों में कोरोनावायरस फैला सकते हैं. कुत्तों के कोरोना वायरस पूरी तरह से अलग सबसे पहले स्पष्ट करने वाली बात यह है कि कुत्तों का कोरोनावायरस क्या है. यह जान लेना महत्वपूर्ण होगा कि यह सार्स-कोवी-2, जो वायरस कोविड-19 का कारण बनता है,से काफी अलग है,. कोरोनावायरस परिवार को वायरस के चार समूहों में विभाजित किया जा सकता है: अल्फा, बीटा, गामा और डेल्टा कोरोनावायरस. सार्स-कोवी-2 बीटाकोरोनावायरस समूह में आता है, जबकि कुत्तों के कोरोनावारस… Continue reading Corona Alert: इंसानों में मिला कुत्तों वाला कोरोना वायरस, वैज्ञानिकों ने कही ये बात

और लोड करें