PM Modi ने 9/11 जैसी आंतकी घटना से सबक लेने को कहा, बोले अलकायदा ने..

9/11 के हमले के 20 साल पूरे होने पर पीएम मोदी ने कहा कि हमें आतंकी घटनाओं से मिले सबक को याद रखना चाहिए. उन्होंने कहा कि आगे भी हम इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि मानवीय मूल्यों…

Siddharth Shukla की मां का हाल बयान करते हुए रो पड़ी चुलबुली रहने वाली Rakhi Sawant… ( Watch Video )

एक्ट्रेस Rakhi Sawant ने Instagram में एक वीडियो डालते हुए सिद्धार्थ शुक्ला को श्रद्धांजलि दी है. वीडियो में राखी सावंत ने सिद्धार्थ शुक्ला की मां का हाल भी बताया है….

गिलानीः घाटी में पाक का हीरो!

गिलानी का दो टूक कहना होता था- इस्लाम के ताल्लुक से, इस्लाम की मोहब्बत से, हम पाकिस्तानी हैं और पाकिस्तान हमारा है!

अलगाववादी हुर्रियत नेता गिलानी के निधन पर पाकिस्तान में ढोंग, झंडा आधा झुकाकर राष्ट्रीय शोक की घोषणा…

कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान कोई मौका नहीं चूकना चाहता. यही कारण है कि जम्मू-कश्मीर में अलगाववादी हुर्रियत नेता सैयद अली शाह गिलानी के निधन पर पाकिस्तान राजनीतिक रोटियां सेकना चाहता है….

अभिनय के प्रकाश स्तंभ

जब दिलीप कुमार का जमाना था, तभी राज कपूर और देवानंद जैसे लगभग उतने ही लोकप्रिय अभिनेता भी दर्शकों के दिल पर राज कर रहे थे। इसके बावजूद जब कभी अभिनय क्षमता के शिखर की चर्चा होती थी, तो बात घूम-फिर कर दिलीप कुमार पर ही केंद्रित हो जाती थी। tragedy king Dilip Kumar : दिलीप कुमार सात दशक से भारतीय सिने उद्योग की पहचान थे। एक संपूर्ण अभिनेता के रूप में उन्होंने कई पीढ़ियों पर जो छाप छोड़ी, वह अतुलनीय ही है। हिंदी सिनेमा के पूरे इतिहास में अगर उनकी क्षमता का कोई अभिनेता हुआ, तो वे अमिताभ बच्चन ही हैं। गहन, गंभीर अभिनय से लेकर कॉमेडी और डांस से लेकर तरह-तरह की चुहलबाजियों को परदे पर उतरना इन दोनों के अलावा उस स्तर से कोई कर पाया, कहना कठिन है। लेकिन जब अमिताभ बच्चन का जमाना आया, तब तक फिल्मों का मिजाज बदल चुका था। तब फिल्मों से वे पैगाम गायब हो गया था, जो दिलीप कुमार के युग की पहचान थी। हालांकि गाना गाने की क्षमता के कारण अभिताभ दिलीप कुमार से एक कदम और आगे गए, लेकिन उनकी चंद फिल्में ही होंगी, जो दिलीप कुमार के दौर में बनी संदेश पूर्ण फिल्मों की बराबरी कर सके।… Continue reading अभिनय के प्रकाश स्तंभ

आप जैसा कोई नहीं हुआ दिलीप साब!

Dilip Kumar acting : कहते हैं कि हिंदुस्तान के हर हीरो के अंदर थोड़ा थोड़ा दिलीप कुमार हैं और जिसके अंदर जरा सा भी दिलीप कुमार नहीं हैं वह कुछ भी हो सकता है, अभिनेता नहीं होगा! इसका मतलब है कि जब तक अभिनय की दुनिया रहेगी, तब तक भौतिक रूप से दिलीप कुमार भी रहेंगे। सात जुलाई की सुबह जरूर वे इस फानी दुनिया से रूखसत हो गए लेकिन वे हमेशा रहेंगे। लोगों की यादों में रहेंगे, अपनी महान फिल्मों और बेमिसाल अभिनय के जरिए याद किए जाते रहेंगे और आने वाली कई पीढ़ियों के किसी न किसी अभिनेता के बेहतरीन अभिनय में साक्षात दिखाई देते रहेंगे। किसी ने बहुत पहले एक चुटकुला सुनाया था कि एक बच्चे ने टेलीविजन पर दिलीप कुमार की फिल्म देखी तो अपने पिता से पूछा कि ये अंकल शाहरूख खान की तरह अभिनय क्यों कर रहे हैं! आज इस लतीफे को याद करना दिलीप साब को एक श्रद्धांजलि है। वे अमिताभ बच्चन के अभिनय में हैं तो शाहरूख खान के अभिनय में भी हैं और आगे भी पीढ़ियों तक किसी न किसी के अभिनय में रहेंगे। ऐसा सिर्फ दिलीप साब के साथ है कि पीढ़ी दर पीढ़ी अभिनेताओं ने उनकी स्टाइल, उनकी संवाद… Continue reading आप जैसा कोई नहीं हुआ दिलीप साब!

राजकीय सम्मान के साथ सुपुर्द-ए-खाक हुए दिलीप कुमार, अंतिम दर्शन के लिए आई ‘वृद्ध महिला’ की नहीं हो सकी पहचान

मुंबई । RIP Dilip Kumar : आज बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता दिलीप कुमार का देहांत हो गया. राजकीय सम्मान के साथ दिलीप कुमार को अंतिम विदाई दी गई. सुबह से ही सोशल मीडिया से लेकर दिलीप कुमार के घर तक में लोगों श्रद्धांजलि देने का सिलसिला बना हुआ था. लेकिन इसी दौरान दिलीप कुमार के घर के पास एक वृद्ध महिला भी पहुंच गई. वह महिला घर के अंदर प्रवेश करना चाहती थी और बुरी तरह से रो रही थी. यहां बता दें की अस्पताल से दिलीप कुमार का पार्थिव शरीर आने के बाद से उनके घर के बाहर काफी लोगों की भीड़ जमा हो गई थी. प्रशासन को पहले से ही इसका अंदेशा था इसीलिए सिक्योरिटी का खास इंतजाम किया गया था. भीड़ की आशंका को देखते हुए भारी पुलिस बल की तैनाती की गई थी.     View this post on Instagram   A post shared by Viral Bhayani (@viralbhayani) वृद्ध महिला ने बताया खुद को रिश्तेदार RIP Dilip Kumar : पुलिस वालों ने जब महिला को अंदर जाने से रोका तो उसने खुद को मरहूम दिलीप कुमार का रिश्तेदार बताया. पुलिस कर्मियों ने उन्हें वहीं रोककर अंदर जाकर इस संबंध में पूछताछ की तो परिवार वालों ने… Continue reading राजकीय सम्मान के साथ सुपुर्द-ए-खाक हुए दिलीप कुमार, अंतिम दर्शन के लिए आई ‘वृद्ध महिला’ की नहीं हो सकी पहचान

Rajasthan: पायलट की Flight करेगी Take Off ! मिलने पहुंचे 8 विधायकों ने कहा हम साथ हैं..

जयपुर । राजस्थान में मौसमी तापमान के साथ ही सियासी तापमान भी एक बार फिर से बढ़ने लगा है. आज सचिन पायलट के खेमे के 8 विधायकों ने उनसे मुलाकात की. विधायकों ने मुलाकात के बाद कहा कि हम कांग्रेस में हैं और कांग्रेस में रहकर ही अपनी आवाज उठाएंगे. विधायकों का कहना था कि सचिन पायलट ने कांग्रेस पार्टी के लिए काफी संघर्ष किया है उन्हें बोलने का हरसंभव मौका दिया जाना चाहिए था. लेकिन ऐसा हो नहीं सका है इसीलिए काफी नाराजगी है. आज कांग्रेस के जिन 8 विधायकों ने सचिन पायलट से मुलाकात की उम्र में राजेश पारीक, जी आर खटाना, रामनिवास गावड़िया, गुरदीप सिंह, मुकेश भाकर, पीआर मीना, वेद प्रकाश सोलंकी और विश्वजीत सिंह शामिल थे. कांग्रेस में रहकर ही करेंगे विरोध मुलाकात के बाद लौटते हुए विधायक मुकेश भाकर और रामनिवास गावड़िया ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि हमने कल दौसा में आयोजित कार्यक्रम के बारे में बात की. उन्होंने कहा कि कल स्वर्गीय राजेश पायलट की पुण्यतिथि है तो हम अपने जिलों और ब्लॉक में रहकर उन्हें श्रद्धांजलि देंगे. मुकेश भाकर ने कहा कि हम सचिन पायलट के साथ मजबूती के साथ खड़े हैं और किसी भी कीमत पर इधर-उधर होने वाले… Continue reading Rajasthan: पायलट की Flight करेगी Take Off ! मिलने पहुंचे 8 विधायकों ने कहा हम साथ हैं..

RAJKUMAR KESWANI NO MORE : भोपाल गैस त्रासदी को दुनिया के सामने लाने वाले वरिष्ठ पत्रकार राजकुमार केसवानी ने दुनिया को कहा अलविदा

कोरोना ने ना जाने हमारे कितने अपनों की जान ली है। वरिष्ठ पत्रकार राजकुमार केसवानी का शुक्रवार को भोपाल में निधन हो गया। अप्रैल के पहले हफ्ते में उन्हें कोरोना हुआ था। हालांकि 21 अप्रैल को रिपोर्ट निगेटिव आ गई थी, लेकिन निजी अस्पताल में इलाज चल रहा था। राजकुमार केसवानी  लगभग एक माह से हॉस्पिटल में भर्ती थे और कोरोना से जंग लड़ रहे थे। अंत में जिंदगी की जंग हार गये और अंनत यात्रा पर निकल पड़े। ठीक एक साल पहले 20 मई को उनके पिता लक्ष्मण दास का भी निधन हो गया था। वे कोरोना से पीड़ित थे। इसे भी पढ़ें INDIAN VARRIANT RESTRICTION : सरकार ने इंडियन वैरिएंट शब्द पर लगाई पाबंदी..मीडिया कंपनी से कंटेट हटाने को कहा भोपाल गैस त्रासदी को दुनिया के सामने लाने वाले पहले पत्रकार राजकुमार केसवानी भोपाल गैस त्रासदी को दुनिया के सामने लाने वाले पहले पत्रकार थे। गैस कांड की रिपोर्टिंग ने उन्हें दुनियाभर में मशहूर किया। न्यूयॉर्क टाइम्स के लिए भी उन्होंने गैस त्रासदी की इंवेस्टिगेटिव सिरीज की थी। वे भास्कर में लगातार कई दशकों से मशहूर कॉलम ‘आपस की बात’ लिख रहे थे। वे 2003 में दैनिक भास्कर इंदौर के रेसिडेंट एडिटर बने थे। 2004 से 2010 तक भास्कर… Continue reading RAJKUMAR KESWANI NO MORE : भोपाल गैस त्रासदी को दुनिया के सामने लाने वाले वरिष्ठ पत्रकार राजकुमार केसवानी ने दुनिया को कहा अलविदा

मानवाधिकार और स्वतंत्रता के ‘चैंपियन’ थे बंगबंधु: मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज बंगलादेश के संस्थापक बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान को उनकी 101वीं जयंती पर श्रद्धांजलि दी और उन्हें मानवाधिकारों और स्वतंत्रता का ‘चैंपियन’ निरूपित किया।

आनंदीबाई जोशी का जज्बा नारियों को प्रेरित करता रहेगा : शिवराज

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आनंदीबाई जोशी की पुण्यतिथि पर उन्हें याद करते हुए विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की है।

मोदी ने सेना को सौंपे अर्जुन टैंक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकवादी हमले में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि भारत शांति में विश्वास करता है लेकिन वह हर कीमत पर अपनी संप्रभुता की रक्षा करेगा।

विपक्षी दलों ने आंदोलन के दौरान मारे गए किसानों को श्रद्धांजलि दी

तृणमूल कांग्रेस ने आज संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर बहस में भाग लिया और जारी आंदोलन के दौरान मारे गए किसानों को श्रद्धांजलि के रूप में कुछ देर का मौन रखा।

मोदी और राजनाथ ने लाला लाजपत राय को श्रद्धांजलि अर्पित की

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने महान स्वतंत्रता सेनानी लाल लालपत राय को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की है।

नेताजी एक सच्चे नायक थे, जो एकता में विश्वास रखते थे : ममता

‘देशनायक’ सुभाष चंद्र बोस को उनकी 125वीं जयंती के उपलक्ष्य में श्रद्धांजलि देते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शनिवार को कहा कि नेताजी एक सच्चे नायक थे

और लोड करें