Commonwealth Games में भाग नहीं लेगी भारतीय हॉकी टीम, कोरोना के साथ ब्रिटेन भी है कारण

कोरोना महामारी सो जुड़ी चिंता और देश के यात्रियों के प्रति ब्रिटेन के भेदभाव वाले व्यवहार के काऱण भारतीय हॉकी टीम ने Commonwealth Games से हटने का निर्णय…

जैसे को तैसा : इंग्लैंड के नागरिकों को अब भारत में प्रवेश के लिए गुजरना होगा खुद के बनाए हुए नियमों से…

भारत सरकार ने अब साफ कर दिया है कि जो प्रतिबंध ब्रिटेन द्वारा भारतीय नागरिकों के लिए लगाए गए हैं अब ब्रिटिशर्स को भी उन्हीं नियमों को झेलना पड़ेगा…

ब्रिटेन ने भारत के दबाव में Covishield को दी मान्यता, लेकिन कोविन सर्टिफिकेट को मंजूरी नहीं

भारत सरकार के दबाव के आगे ब्रिटेन की सरकार को झुकना पड़ा है और Britain ने भारत की कोविशील्ड वैक्सीन लगवाए लोगों को अपने यहां बिना क्वारंटीन के प्रवेश अनुमति (Britain Recognized Covishield) दे दी है।

बाइडेन की ये चाल

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के साथ अपने देश का नया त्रिगुट बना कर बाकी यूरोप के साथ चीन विरोधी गठजोड़ की संभावना को झटका दिया है।

मुंबई के हीरानंदानी अस्पताल में अक्षय कुमार की मां की हालत नाजुक, यूके में शूट से वापस लौटे अभिनेता: रिपोर्ट

मां अरुणा भाटिया कुछ दिनों से अस्वस्थ हैं और कथित तौर पर मुंबई के हीरानंदानी अस्पताल में आईसीयू में हैं। अभिनेता पिछले कुछ हफ्तों से यूके में अपनी फिल्म सिंड्रेला की शूटिंग कर रहे थे।

यही तो मूल प्रश्न है

केरल हाई कोर्ट ने केंद्र से पूछा है कि कोविशील्ड की दो खुराकों के बीच 84 दिन का अंतराल टीके की उपलब्धता पर आधारित है या उसकी असर पर।

इस देश ने भारत को ‘रेड लिस्ट’ से निकाल कर ‘एम्बर’ लिस्ट में किया शामिल, 10 दिन तक होटल क्वारंटीन में रहने की आवश्यकता नहीं..

ब्रिटेन ने भारत को रेड लिस्ट से निकाल कर एम्बर लिस्ट में डाल दिया है। इसके तहत जिन भारतीयों ने कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज ले ली है।  उनको अब 10 दिन तक होटल क्वारंटीन में रहने की जरूरत नहीं होगी.

3 Idiots के रैंचो की तरह इस डिलीवरी ब्वॉय ने की एक महिला की सफल डिलीवरी

रैंचो को रोल प्ले कर रहे आमिर खान ने वीडियो कॉल पर एक महिला की डिलीवरी कराता है। ( Delivery boy made delivery ) क्योंकि बारिश की वजह से उसे अस्पताल पहुंचाने में असफल नहीं थे। ये तो हमने बात की फिल्मी किस्से की, लेकिन ऐसा ही एक सीन असल जिंदगी में घटित हुई है जहां एक डिलीवरी ब्वॉय ने फोन की मदद से एक महिला की डिलीवरी कराई है।

अंधानुकरण तो ठीक नहीं

अब ताजा विवाद ब्रिटेन में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच महामारी संबंधी तमाम प्रतिबंधों को हटाने के जॉनसन सरकार के फैसले से खड़ा हुआ है। इस निर्णय के लिए प्रधानमंत्री जॉनसन की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आलोचना हुई है।

अजब- गजब: ब्रिटेन के सैकड़ों लोगों का दावा – हमने एलियंस के साथ बनाए यौन संबंध

नई दिल्ली | Britishisers Sex With Aliens : विश्व भर में लोगों को एलियंस में खासा रूची रहती है. यहीं कारण है कि इनसे जुड़ी हुई कोई भी खबर चटकारे ले कर लोगों द्वारा पढ़ी जाती है.. ताजा मामला ब्रिटेन से जुड़ा हुआ है यहां के लोग अजीबो-गरीब दावे कर रहे हैं. ऐसा दावा करने वाले लोगों की संख्या भी एक दो नहीं हैं बल्कि 100 से ज्यादा लोग इस बात का दावा कर रहे हैं कि उन्होंने एलियंस के साथ यौन संबंध बनाए हैं. ऐसे दावे करने वाले लोगों का कहना है कि दूसरे ग्रह के प्राणी उफनसे संपर्क में हैं और उन्होंने उनके साथ सेक्स भी किया है. इन लोगों की बातों पर विश्वास करने का कोइ भी खास कारण नहीं है क्यों कि इनमें से किसी के भी पास इस बात को लेकर पुख्ता सबूत नहीं है. लेकिन आश्चर्य की बात तो ये है कि इतनी बड़ी संख्या में यो लोग ऐसे दावे क्यों कर रहे हैं. जानकारों का कहना है कि इनकी संख्या इतनी अधिक है कि सबको मानसिक रूप से बीमार कहना भी संभव नहीं है. 300 से ज्यादा ब्रिटिश लोग कर रहे हैं दावा Britishisers Sex With Aliens : बता दें कि अब ब्रिटेन… Continue reading अजब- गजब: ब्रिटेन के सैकड़ों लोगों का दावा – हमने एलियंस के साथ बनाए यौन संबंध

टीका ही है बचाव

इस बीच राहत की कोई बात है, तो वो यही कि जो लोग संक्रमित हो रहे हैं, उनकी स्थिति उतनी गंभीर नहीं हो रही है, जैसा पहले हुआ था। पहले नए मामलों के साथ मृत्यु की जो दर थी, अभी वो उससे बहुत कम है। वैक्सीन के दोनों डोज ले चुके लोगों को शायद ही अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत पड़ रही है। Vaccine protection delta variant : ब्रिटेन दुनिया के उन देशों में है, जहां सबसे ज्यादा टीकाकरण हुआ है। इसके बावजूद अब अब देश पर कोविड-19 महामारी की तीसरी लहर का खतरा मंडराने लगा है। ब्रिटेन में ताजा लहर की वजह कोरोना वायरस का डेल्टा वैरिएंट बना है। और यही वजह है कि अब दुनिया ब्रिटेन को एक टेस्ट केस के रूप में देख रही है। विशेषज्ञ ये चेतावनी दे चुके हैं कि अब दुनिया भर में डेल्टा वैरिएंट की मुख्य वैरिएंट हो गया है। स्वाभाविक है कि ब्रिटेन में इसकी वजह से कैसे हालात बनते हैं, उसे देखने में पूरी दुनिया की दिलचस्पी है। गौरतलब है कि ब्रिटेन दुनिया का पहला देश बना है, जहां टीकाकरण की दर ऊंची है, फिर भी जहां कोरोना वायरस का सबसे अधिक संक्रामक माना जा रहा डेल्टा वैरिएंट तेजी से… Continue reading टीका ही है बचाव

कोविड खत्म नहीं हो रहा!

लगभग सौ देशों में डेल्टा वैरिएंट पंहुचने और ब्रिटेन से ले कर बांग्लादेश में पैनिक प्रमाण है कि कोरोना की महामारी लंबी चलेगी। नए-नए वैरिएंट और उनका तेजी से पूरी दुनिया में फैलना किसी के न समझ में आने वाली पहेली है। पहले का ब्रिटेन में मिला अल्फा वैरिएंट भी कोई 172 देशों में जा पहुंचा है। माना जा रहा था कि ऑस्ट्रेलिया, जापान में चाकचौबंद बंदोबस्तों से कोरोना लगभग खत्म। लेकिन दोनों अभी वायरस से जूझते हुए हैं। उत्तर कोरिया ने पूरी दुनिया में डंका बजाया था कि उसके यहां वायरस घुसा नहीं लेकिन इसी सप्ताह उसके तानाशाह राष्ट्रपति किम ने पगलाए-घबराए अंदाज में अधिकारियों पर ऐसी गाज गिराई, जिससे लग रहा है कि वहां महामारी ने बहुतों को मारा है। ध्यान रहे चीन इस देश का ग़ॉडफादर है। अपनी वैक्सीन-अपने तरीकों का बैकअप दे रखा है बावजूद इसके महामारी से फड़फड़ाए राष्ट्रपति किम! य​ह भी पढ़ें: यह अछूत होना नहीं तो क्या? ब्रिटेन में 67 प्रतिशत लोगों ने एक और 47 प्रतिशत ने दोनों टीके लगवा लिए हैं और कम संक्रमण व हर्ड इम्युनिटी से वहां महामारी पर पूरा कंट्रोल बनता लगता था लेकिन डेल्टा वैरिएंट के केसेज ने सब गड़बड़ा दिया है वैसे ही जैसे ऑस्ट्रेलिया में… Continue reading कोविड खत्म नहीं हो रहा!

अकेले वैक्सीन से नहीं रूकेगा कोरोना

इसमें संदेह नहीं है कि 21 जून के बाद भारत में वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ी है और हर दिन औसतन 50 लाख से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लग रही है। यह भी सही है कि कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी आई है और पिछले करीब एक हफ्ते से मरने वालों की संख्या भी एक हजार से नीचे है। लेकिन सवाल है कि क्या अकेले वैक्सीनेशन के सहारे कोरोना को रोका जा सकता है? इसका जवाब किसी के पास नहीं है क्योंकि वैक्सीनेशन के बाद दुनिया के दूसरे देशों की तरह भारत में इस बात का आकलन नहीं हो रहा है कि नए वैरिएंट्स पर यह कितना कारगर हो रहा है। हालांकि यह दावा किया जा रहा है कि भारत की वैक्सीन अल्फा और डेल्टा दोनों वैक्सीन पर कारगर हो रही है लेकिन हकीकत यह है कि डेल्टा वैरिएंट के ही कई नए स्ट्रेन आ गए हैं, जिनमें एक डेल्टा प्लस है। इसके बारे में अभी तक वस्तुनिष्ठ अध्ययन नहीं हो पाया है। य​ह भी पढ़ें: दुनिया के देशों में फिर तबाही शुरू अकेले वैक्सीन या कोरोना को संभालने का बेहतर प्रबंधन वायरस के संक्रमण को रोकने में कारगर नहीं है, इसकी मिसाल केरल में देखने को मिल रही है।… Continue reading अकेले वैक्सीन से नहीं रूकेगा कोरोना

दुनिया के देशों में फिर तबाही शुरू

भारत में जिस समय एक दिन में चार लाख केसेज आए थे उस दिन दुनिया में आठ लाख केस आ रहे थे यानी दुनिया में कितने केसेज आ रहे थे उनमें से आधे अकेले भारत में आ रहे थे।  लेकिन भारत में अब 40 हजार के आसपास केसेज रोज आ रहे हैं लेकिन दुनिया में चार लाख केस रोज आ रहे हैं। यानी भारत में जितने केस आ रहे हैं उससे दस गुना केसेज दुनिया में आ रहे हैं। इसका मतलब है कि भारत में पीक के मुकाबले केसेज की संख्या में दस गुना कमी आ गई है लेकिन दुनिया में अब भी उतने ही केस आ रहे हैं। यह चिंता की बात है। दुनिया में सर्वाधिक संक्रमित अमेरिका में अब केसेज काबू में हैं लेकिन ब्राजील, रूस, ब्रिटेन जैसे देशों में संकट कम नहीं हो रहा है। ब्रिटेन में तो बड़ी गिरावट के बाद फिर से संक्रमितों की संख्या में बेतहाशा बढ़ोतरी हो रही है। य​ह भी पढ़ें: यह अछूत होना नहीं तो क्या? सोचें, ब्रिटेन में 70 फीसदी लोगों को कम से कम एक डोज लग गई है और 50 फीसदी लोगों पूरी तरह से वैक्सीनेट हो चुके हैं इसके बावजूद वहां केसेज बढ़ रहे हैं। ब्रिटेन में… Continue reading दुनिया के देशों में फिर तबाही शुरू

Corona Virus 3rd Wave : क्या सर्दियों में फिर रूह कंपा देगा कोरोना का नया वैरिएंट, भारत फिर होगा लॉक..जानें एक्सपर्ट की राय

लंदन | समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक ब्रिटेन में इस साल सर्दियों में कोरोना वायरस अपना नया वैरिएंट ( Corona Virus 3rd Wave) दिखाएगा। इस वर्ष भी सर्दियां रूह कंपाने वाली निकलेगी। कोरोना का नया वारिएंट सर्दियों में सक्रिय होगा। वैसे तो कोरोना की तीसरी लहर को बच्चों के लिए प्रभावकारी बताया था। लेकिन रिपोर्ट की मानें तो साल के अंत तक बच्चे और बुजुर्ग बड़ी संख्या में इस वायरस की चपेट में आ सकते हैं। इस साल भी विंटर सीजन बड़ी ही मुश्किलों भरा हो सकता है। कोविड-19 ने हमारे जीवन में साल 2020 में प्रवेश किया था। 2020 को राम का नाम लेकर अलविदा किया था। यह सोचकर कि आने वाला साल खुशियां लेकर आएगा। लेकिन 2021 तो वास्तव में 21 ही निकला। यह साल इतना भयावह रहा है हालत सभी के सामने है। अस्पतालों के सामने अपनी जान के लिए गिड़गिड़ाते मरीज, शमशान घाट में अपने परिजनों के अंतिम संस्कार के लिए लगी लंबी लाइन। यह सब हमने देखा है इसकी भयावहता को महसूस किया है। कोरोना की दूसरी लहर हाल ही में गुजरी है कि एक्टपर्ट एक बार फिर चेताने लगे है। तीसरी लहर की आशंका ब्रिटेन को परेशान कर रही है। क्योंकि वैज्ञानिकों ने… Continue reading Corona Virus 3rd Wave : क्या सर्दियों में फिर रूह कंपा देगा कोरोना का नया वैरिएंट, भारत फिर होगा लॉक..जानें एक्सपर्ट की राय

और लोड करें