Corona crisis:  MGNREGA बना ग्रामीणों का सहारा, सात लाख नए लोगों को मिला रोजगार

लखनऊ| राज्य में कोरोना (Corona) महामारी का प्रकोप काफी बढ़ गया है रोज कोरोना के मामलों में वृद्धि हो रही है कोरोना संक्रमण से बुरे हालात के बावजूद महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी (MGNREGA) ग्रामीणों के रोजगार (Employment) का सहारा बना हुआ है। महज 14 दिनों में सात लाख से ज्यादा लोगों को इससे रोजगार मिला है। ग्राम विकास विभाग के आंकड़ों के अनुसार, गत 14 अप्रैल को सूबे के 74 जिलों में 9,51,583 ग्रामीण मनरेगा की विभिन्न योजनाओं में कार्य कर रहे थे, जबकि गत एक अप्रैल को मनरेगा की विभिन्न योजनाओं में कार्य करने वाले ग्रामीणों की संख्या 2,24,106 थी। मात्र 14 दिनों में मनरेगा में कार्य करने वाले ग्रामीणों की संख्या में 7,27,477 का इजाफा हुआ है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) की मंशा है कि वर्तमान समय में सूबे के ग्रामीण इलाकों में रह रहे लोग कोरोना (Corona) से बचने के लिए रोजगार (Employment) की तलाश में शहर ना आए। ग्रामीणों को उनके गांव में ही सरकार रोजगार मुहैया करायेगी। मुख्यमंत्री की इस मंशा को जानने के बाद अब गांव में जल संरक्षण संबंधी कार्य मनरेगा (MGNREGA) के तहत कराए जाने लगे हैं। इसे भी पढ़ें – अजी छोड़िए पाक से तुलना ! जितनी… Continue reading Corona crisis: MGNREGA बना ग्रामीणों का सहारा, सात लाख नए लोगों को मिला रोजगार

सफलता: जैश-ए-मोहम्मद के दो आतंकियों को भारतीय सेना ने किया ढ़ेर

New Delhi: भारतीय सेना (Indian Army) को एक और बड़ी कामयाबी (Great Success) हासिल हुई है. भारतीय सेना के सुरक्षाबलों ने दोनों आतंकवादियों को ढ़ेर कर दिया है. जानकारी के अनुसार दक्षिण कश्मीर (South Kashmir) के कांडीपोरा (Kandipora) के एक मकान में दो आतंकवादियों (Terrorists) के छिपे होने की सूचना सुरक्षा बलों को मिली थी. कल शाम के छह बजे तक भारतीय सेना ने आतंकवादियों को कई बार आत्मसमर्पण (Surrender) करने का मौका दिया. इसके बाद भी आतंकवादी गोली बारी (Firing) करते रहे. इसके बाद आतंकवादियों ने गांव के एक मकान के लोगों को बंदी बनाकर वहां से भागने का प्रयास किया. लेकिन भारतीय सेना के जवानों ने आतंकियों की इस साजिश को नाकाम कर दिया. साथ ही, मकान में फंसे ग्रामीणों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया. देर रात तक आतंकी रूक-रूक कर फायरिंग करते रहे. इसके बाद मौका मिलते ही सेना के जवानों ने आतंकियों को मार गिराया. जैश-ए-मोहम्मद संगठन के थे आतंकी दोनो आतंकवादियों के बारे में अबतक मिली जानकारी के अनुसार दोनों ही जैश-ए-मोहम्मद संगठन के बताए जा रहे है. हालांकि अभी जांच एजंसियों द्वारा इसकी जांच की जा रही है. साथ ही सेना का सर्च ऑपरेशन अब भी ज़ारी है. सेना के जवानों को आस-पास के… Continue reading सफलता: जैश-ए-मोहम्मद के दो आतंकियों को भारतीय सेना ने किया ढ़ेर

दिल्ली-गुरुग्राम सीमा पर ग्रामीणों ने पुलिस पर पथराव किया

दिल्ली-गुरुग्राम सीमा पर एक गांव के सैकड़ों निवासियों ने हरियाणा शहर में प्रवेश ना दिए जाने पर पुलिस पर पथराव किया। दोनों तरफ से किसी के घायल होने की कोई रिपोर्ट नहीं है।

दिल्ली: ग्रामीणों ने बिजली बिल माफ करने की मांग की

राष्ट्रीय राजधानी के गांवों ने दिल्ली सरकार से अपील की है कि कोरोना वायरस लॉकडाउन के चलते करीब डेढ़ महीने से वाणिज्यिक गतिविधियां बंद हैं और कमाई हो नहीं रही है,

तीन राजधानी योजना को लेकर अमरावती बंद

अमरावती। आंध्र प्रदेश सरकार की राज्य में तीन राजधानियों को विकसित करने की योजना के खिलाफ गुरुवार को बंद बुलाया गया। राज्य की राजधानी के रूप में अमरावती के विकास के लिए अपनी जमीनें देने वाले किसानों और अन्य ग्रामीणों सहित 29 गांवों के लोग सड़कों पर उतर आए वाईएसआर कांग्रेस पार्टी सरकार से विशाखापत्तनम और कुरनूल को दो अन्य राज्य की राजधानियों के रूप में विकसित करने के प्रस्ताव को रद्द करने की मांग की। प्रदर्शन के दौरान महिलाओं ने वेलागापुडी स्थित राज्य सचिवालय जाने वाली सड़क को जाम कर दिया है। इस वजह से अपने कार्यालय जाने के लिए राज्य सचिवालय के कर्मचारियों को अन्य मार्गो का प्रयोग करना पड़ रहा है। हाथों में सरकार विरोधी नारों वाले पोस्टर थामें किसान सुबह से ही विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, जिनकी मांग है कि सिर्फ अमरावती को ही राजधानी के तौर पर विकसित किया जाए। किसी अनचाही घटना से बचने के लिए अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किए गए हैं। वहीं कुछ क्षेत्रों में प्रदर्शन में विपक्षी दल तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) के नेता भी शामिल हुए। अमरावती के लिए 33,000 एकड़ जमीन देने वाले किसानों को डर है कि राज्य की तीन राजधानियों के विकास से उनके हित प्रभावित… Continue reading तीन राजधानी योजना को लेकर अमरावती बंद

और लोड करें