nayaindia Verdict Against Mukhtar Ansari In Gangster Act Case On May 20 गैंगस्टर एक्ट मामले में मुख्तार अंसारी के खिलाफ फैसला 20 मई को
उत्तर प्रदेश

गैंगस्टर एक्ट मामले में मुख्तार अंसारी के खिलाफ फैसला 20 मई को

ByNI Desk,
Share

वाराणसी। अतिरिक्त जिला न्यायाधीश-4, गाजीपुर, दुर्गेश कुमार (Durgesh Kumar) की सांसदों और विधायकों के मामलों की विशेष अदालत जेल में बंद गैंगस्टर मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) के मामले में 20 मई को गैंगस्टर एक्ट के तहत फैसला सुनाएगी। करंडा थाने (Kuranda Police Station) में अंसारी को दो मामलों में आरोपी बनाए जाने के बाद गाजीपुर पुलिस ने 2009 में तीसरी बार उसके खिलाफ गैंगस्टर एक्ट (Gangster Act) में मामला दर्ज किया था। अतिरिक्त जिला सरकारी वकील (आपराधिक) गाजीपुर, नीरज श्रीवास्तव ने कहा कि मुख्तार के वकील द्वारा लिखित दलीलें प्रस्तुत करने के साथ उसके खिलाफ मामले की सुनवाई शनिवार को पूरी हो गई। इस मामले के रिकॉर्ड के अनुसार, मोहम्मदाबाद के एक मीर हसन (Mir Hassan) ने 2009 में सोनू यादव (Sonu Yadav) के खिलाफ हत्या के प्रयास का मामला दर्ज कराया था। पुलिस जांच के दौरान मुख्तार पर इस मामले में आपराधिक साजिश रचने का आरोप लगाया गया था।

ये भी पढ़ें-http://नेपाल में हिमस्खलन से 3 की मौत, 12 घायल 

मुख्तार 2009 में करंडा थाना क्षेत्र में हुए कपिलदेव सिंह हत्याकांड (Kapil Dev Singh Murder Case) में भी आरोपी था। इस बीच, मऊ पुलिस ने मुख्तार अंसारी के शार्प शूटर अनुज कनौजिया (Anuj Kanojia) की पत्नी रीना राय (Reena Rai) और उसके रिश्तेदार शिवरतन पर गैंगस्टर एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है। दोनों को मऊ पुलिस ने दो महीने पहले रंगदारी के एक मामले में झारखंड से गिरफ्तार किया था। मऊ के अंचल अधिकारी (शहर) धनंजय मिश्रा ने बताया कि फरार कनौजिया गिरोह की गतिविधियों को रीना राय और शिवरतन संचालित कर रहे थे। मार्च में झारखंड से गिरफ्तारी के बाद दोनों के खिलाफ जांच के दौरान ये तथ्य सामने आए हैं। उन्होंने कहा कि राय जबरन वसूली और अन्य आपराधिक गतिविधियों में शामिल था और अपने गिरोह को संचालित करने में कनौजिया की सहायता कर रहा था। कनौजिया मुख्तार का शार्प शूटर (Sharp Shooter) है।

कनौजिया पर एक लाख रुपए के नकद इनाम की घोषणा की गई थी। उसने अपना गिरोह बना लिया था जिसे रीना राय के सहयोग से संचालित किया जा रहा था। रीना राय मऊ पुलिस के रडार पर तब आई जब हंसनाथ यादव (Hansnath Yadav) ने 28 फरवरी को चिरैयाकोट पुलिस थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई थी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि उसे अनुज कन्नोजिया की पत्नी रीना राय द्वारा व्हाट्सएप कॉल पर नकद भुगतान करने की धमकी दी जा रही थी। उसके बाद मामले की जांच के लिए एक टीम गठित की गई। मऊ पुलिस ने मार्च के पहले सप्ताह में झारखंड के जमशेदपुर जिले के परसुडीह थाना क्षेत्र के बारीगोड़ा इलाके में उसके रिश्तेदारों के घर से उसे गिरफ्तार किया था। (आईएएनएस)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें