राष्ट्रपति के अभिभाषण के बीच कांग्रेस सांसद का हंगामा

विपक्षी दलों के बहिष्कार के बीच राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के संसद के केंद्रीय कक्ष में संयुक्त सदन को संबोधित करने के दौरान आज कांग्रेस के लाेकसभा सदस्य रवनीत सिंह बिट्टू ने हंगामा किया और कृषि संबंधी तीनों कानून वापस लेने की मांग की।

बसपा करेगी राष्ट्रपति अभिभाषण का बहिष्कार

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने तीनों कृषि कानून वापस लेने की किसानों की मांग का समर्थन करने हुए राष्ट्रपति के अभिभाषण का बहिष्कार करने का फैसला किया है।

राष्ट्रपति भाषण का होगा बहिष्कार

संसद का बजट सत्र शुरू होने से पहले विपक्षी पार्टियों ने बड़ा फैसला किया है। लगभग समूचे विपक्ष ने सत्र के पहले दिन राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण का बहिष्कार करने का फैसला किया है।

विपक्ष ने किया संसद का बायकॉट

कृषि से जुड़े विवादित विधेयकों को ध्वनि मत से पास किए जाने और राज्यसभा के आठ सांसदों को निलंबित किए जाने के विरोध में विपक्षी पार्टियों ने संसद सत्र के बहिष्कार का ऐलान किया है।

चीनी सामानों के बहिष्कार का क्या होगा?

भारत और चीन के बीच सीमा विवाद सुलझाने के लिए बने तंत्र की बैठक के बाद दोनों देशों की सेना लद्दाख में विवाद की सभी जगहों से पीछे हटने लगी है। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवाल और चीन के विदेश मंत्री वांग यी के बीच हुई वार्ता के बाद दोनों देशों के विदेश मंत्रालयों ने अपने अपने बयान जारी किए।

सोनू निगम ने की चाइनीज प्रॉडक्ट्स का बहिष्कार करने की अपील

बॉलीवुड के जाने-माने पार्श्वगायक सोनू निगम ने लोगों से चाइनीज सामान का बहिष्कार करने की अपील की है। भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर जारी गतिरोध के

कंगना ने चाइनीज प्रोडक्ट्स बॉयकॉट करने की अपील की

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने लोगों से चाइनीज प्रोडक्ट्स को बॉयकॉट करने की अपील की है। कंगना रनौत की टीम ने इंस्टाग्राम पर उनका वीडियो शेयर किया है जिसमें

चीन का बहिष्कार क्या संभव?

कुछ साल पहले तक जब नवरात्रि आती थी तो मैं नौ दिनों तक व्रत रखता था। व्रत में मैं अनाज का त्याग कर देता था। मंगलवार को व्रत रखता व उस दिन अन्न ग्रहण नहीं करता था।

ट्रेड वार में दिखावा नहीं होना चाहिए

कहा जा रहा है कि भारत ने चीन के खिलाफ ट्रेड वार शुरू कर दिया। यानी आर्थिक मोर्चे पर चीन को घेरने और झटका देने का काम शुरू हो गया है।

चाहत खन्ना ने चीनी सामानों का बहिष्कार करने का आग्रह किया

अभिनेत्री चाहत खन्ना सभी चीनी एप्लिकेशन का बहिष्कार कर रही हैं और कोरोनावायरस को लाने के लिए चीन को जिम्मेदार ठहराया है।

विपक्ष के सदस्यों ने सदन का किया बहिर्गमन

राजस्थान विधानसभा में विपक्ष भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सदस्यों ने आज पंद्रहवीं विधानसभा के चतुर्थ सत्र में राज्यपाल कलराज मिश्र के अभिभाषण का बहिष्कार करते हुए सदन का बहिर्गमन किया।

आप ने संसद के संयुक्त सत्र का बहिष्कार किया

नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी ने मंगलवार को संविधान दिवस पर लोकसभा व राज्यसभा के संयुक्त सत्र का बहिष्कार करते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को संविधान को नष्ट करने के बाद दिवस मनाने का कोई अधिकार नहीं है। राज्यसभा में आप के नेता संजय सिंह ने कहा भाजपा को इसे नष्ट करने के बाद संविधान दिवस मनाने का कोई अधिकार नहीं है। इसलिए आप ने संयुक्त संसद सत्र का बहिष्कार करने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि भाजपा संवैधानिक मूल्यों को आहत कर रही है। सिंह ने कहा राजभवन का खुलेआम दुरुपयोग किया जा रहा है और संविधान दिवस मनाने का ढोंग किया जाता है। इसे भी पढ़ें : दिल्ली में जहरीले रसायन से 3 की मौत भाजपा की तानाशाही रवैये से बाबा साहेब की आत्मा रो रही होगी। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में भाजपा ने जिस तरह से सरकार बनाई, विपक्ष उससे नाखुश है। शनिवार को देवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता अजित पवार ने उप मुख्यमंत्री की शपथ ली थी। इसके बाद शिवसेना, कांग्रेस और राकांपा ने भाजपा व अजित पवार सरकार को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी।

विपक्ष ने संविधान दिवस समारोह का किया बहिष्कार

मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस सहित सभी विपक्षी दलों ने आज संसद के केन्द्रीय कक्ष में आयोजित संविधान दिवस समारोह का बहिष्कार किया और सत्ताधारी दल भाजपा पर लोकतंत्र की हत्या करने

जेएनयू एकेडमिक काउंसिल की बैठक का बहिष्कार

नई दिल्ली। जवाहर लाल नेहरू विश्विद्यालय की एकेडमिक काउंसिल की 152 वीं बैठक में शिक्षक संघ के सचिव को भाग लेने से रोकने पर हंगामा खड़ा हो गया और इस घटना के विरोध में कार्यकारी परिषद के सदस्य और शिक्षक संघ के पूर्व अध्यक्ष प्रो. सच्चिदानंद सिन्हा ने बैठक का बहिष्कार किया। जवाहर लाल नेहरू शिक्षक संघ के अध्यक्ष अतुल सूद और सचिंव अविनाश द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार जवाहर लाल नेहरू प्रशसन ने नियमानुसार शिक्षक संघ के अध्यक्ष को बैठक के लिए आमंत्रित किया तो अध्यक्ष ने इसके लिए अपने प्रतिनिधि को वहां भेज जो शिक्षक संघ के सचिव है। सचिवको बैठक में भाग लेने के लिए पहले अनुमति दी गई लेकिन बाद में प्रशासन ने उन्हें बैठक में भाग लेने से मना कर दिया। शिक्षक संघ का आरोप है कि प्रशासन ने उपर के दबाव के कारण यह कदम उठाया है। इस घटना के विरोध में श्री सचिदानंद सिन्हा ने बैठक का वही बहिष्कार कर दिया। गौरतलब है कि ये शिक्षक जेएनयू में आउट सोर्सिंग का विरोध कर रहे है। इसके अलावा ऑन लाइन परीक्षा का विरोध कर रहे हैं। शिक्षक संघ का कहना कि दिन प्रति दिन कैम्पस में शिक्षकों और प्रशासन के बीच टकराव बढ़ता जा… Continue reading जेएनयू एकेडमिक काउंसिल की बैठक का बहिष्कार

और लोड करें