भाजपा के सहयोगियों की दुर्दशा

किसी जमाने में कांग्रेस ने अपने सहयोगियों का जैसा हाल किया था, आज भाजपा वैसा ही अपने सहयोगियों के साथ कर रही है।

ठाकरे के पास प्रबंधकों की कमी

महाराष्ट्र के घटनाक्रम के बाद इस तरह की कई खबरें आई हैं कि मुख्यमंत्री को महीनों से पता था कि उनकी पार्टी में बगावत की तैयारी हो रही है।

पवार के तटस्थ होने से संकट

एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार ने हाथ खड़े कर दिए हैं। उन्होंने कहा है कि यह शिव सेना का आंतरिक संकट है और उसे ही निपटाना चाहिए।

फड़नवीस की मदद कौन कर रहा है?

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस अचानक इतने ताकतवर कैसे हो गए कि वे चुनौती देकर सरकार को हरा रहे हैं और तीसरी बार मुख्यमंत्री की कुर्सी तक पहुंचते दिख रहे हैं?

पवार ने पांच वोट कहां से जुगाड़े?

महाराष्ट्र में विधान परिषद की 10 सीटों के लिए हुए चुनाव में भाजपा के बाद सबसे अच्छा प्रदर्शन एनसीपी का रहा।

महाराष्ट्र में अकेले पड़ी कांग्रेस

राज्यसभा चुनाव में तो उसके उम्मीदवार इमरान प्रतापगढ़ी जैसे तैसे जीत गए, लेकिन विधान परिषद के चुनाव में कांग्रेस का दूसरा उम्मीदवार नहीं जीत सका।

विपक्ष क्या यशवंत सिन्हा को सपोर्ट करेगा?

शरद पवार, फारूक अब्दुल्ला और गोपाल कृष्ण गांधी के इनकार के बाद यशवंत सिन्हा का नाम चर्चा में है। लेकिन सवाल है कि विपक्ष कैसे उनका समर्थन कर सकता है?

सोनिया के बीमार होने से कांग्रेस परेशान

राष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष का उम्मीदवार तय करने में जो मुश्किलें आ रही हैं उसका एक कारण सोनिया गांधी का बीमार होना भी है।

सुरजेवाला की ताकत कम होगी क्या?

कांग्रेस में कायदे से केसी वेणुगोपाल को सबसे ताकतवर महासचिव होना चाहिए था लेकिन अनेक कारणों से उनकी ताकत नहीं बन पाई है।

सोनिया को अस्पताल से छुट्टी मिली

कोरोना संक्रमित होने के बाद स्वास्थ्य संबंधी समस्या आने पर पिछले हफ्ते सोनिया गांधी को अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

आज तय होगा विपक्षी उम्मीदवार?

पहले ममता बनर्जी की पहल पर आम आदमी पार्टी, तेलंगाना राष्ट्र समिति और कम्युनिस्ट पार्टियां नाराज थीं तो अब ममता बनर्जी नाराज हैं।

सभी अग्निवीरों को नौकरी देने के खतरे

यह केंद्र सरकार का सिग्नेचर तरीका बन गया है कि पहले कोई फैसला कर ले, उसे जोर जबरदस्ती लागू कर दे और फिर उसमें सुधार-संशोधन करे।

बिहार में मजबूरी का नाम भाजपा

भाजपा की केंद्र सरकार जो भी फैसला करती है या सिद्धांत के तौर पर भाजपा के नेता जिस बात पर बयान देते हैं, उसकी सहयोगी जनता दल यू उसे खारिज कर देती है।

भाजपा व केंद्र के हर मुद्दे का विरोध

बिहार में भाजपा की सहयोगी जनता दल यू ने केंद्र सरकार के हर फैसले और भाजपा की हर नीतिगत बात का विरोध करने का फैसला किया है।

अपनी पार्टी की सफाई कर रहे हैं नीतीश

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सिर्फ अपनी सहयोगी भारतीय जनता पार्टी को ही ठीक नहीं कर रहे हैं, बल्कि अपनी पार्टी की सफाई भी कर रहे हैं।

और लोड करें