आम आदमी लगा जोर का झटका, रसोई गैस सिलेंडरो की कीमतों में 73.5 रुपए का बड़ा उछाल

LPG Gas Cylinder Price : अगस्त की शुरुआत आम आदमी के लिए बहुत बुरी हुई है। पहले दिन ही एलपीजी गैस सिलिंडर की कीमतों ने होश उड़ा दिए। इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (IOC) ने 19 Kg कमर्शियल गैस सिलेंडर (Gas Cylinder ) के दाम में 73.5 रुपये प्रति सिलेंडर की बढ़ोतरी की गई है. दिल्ली में 19 किग्रा कमर्शियल गैस सिलेंडर का दाम 1,500 रुपये से बढ़कर 1623 रुपये प्रति सिलेंडर हो गया है. इसे भी पढ़े- जीका वायरस से संभल कर, महाराष्ट्र में सामने आया पहला केस, केरल में 63 मामले LPG Gas Cylinder Price : हालांकि, घरेलू उपयोग वाले 14.2 किग्रा बिना सब्सिडी की रसोई गैस सिलेंडर (LPG cylinder) की कीमतों में इजाफा नहीं किया गया है. इस हिसाब से दिल्ली में 14.2 किग्रा बिना सब्सिडी वाले रसोई गैस सिलेंडर (LPG cylinder) की कीमत 834.50 रुपये है. गौरतलब है कि जुलाई में तेल कंपनियों ने घरेलू रसोई गैस सिलेंडर (LPG cylinder) का दाम 25.50 रुपये की बढ़ोतरी की थी. इसके बाद अब दिल्ली में बिना सब्सिडी वाले 14.2 किग्रा सिलेंडर का दाम बिना बदलाव के 834.50 रुपये, कोलकाता में 861 रुपये, मुंबई में 834.50 रुपये और चेन्नई में 850.50 रुपये प्रति सिलेंडर है. इसे भी पढ़े- Tokyo Olympics : सिंधु सिल्वर… Continue reading आम आदमी लगा जोर का झटका, रसोई गैस सिलेंडरो की कीमतों में 73.5 रुपए का बड़ा उछाल

आखिर कहां तक जाएंगे पेट्रोल-डीजल के दाम, जानिए आपके शहर का हाल….

Petrol-Diesel Price : बढ़ते पेट्रोल-डीजल के दामों से आज देश का हर आम नागरिक परेशान है। भारत में पेट्रोल (Petrol) के दाम आज लगातार पाँचवें दिन रिकॉर्ड उच्चतम स्तर पर स्थिर रहे। डीजल (Diesel) के मूल्य में भी लगातार सातवें दिन कोई बदलाव नहीं किया गया। अग्रणी तेल विपणन (Leading Oil Marketing) कंपनी इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन के अनुसार, आज दिल्ली में पेट्रोल 101.84 रुपये और डीजल 89.87 रुपये प्रति लीटर पर पर रहा। भारत के दूसरे शहरों में भी पेट्रोल-डीजल के दामों में कोई बदलाव नहीं हुआ। देश में पेट्रोल-डीजल (Petrol-Diesel) के रेट की रोजाना समीक्षा होती है और उसके आधार पर हर दिन सुबह छह बजे से नई कीमतों को क्रियान्वित किया जाता है। इसे भी पढ़े- Big News : राजस्थान में सूर्यनगरी जोधपुर में खुलने जा रहा पहला फॉरेंसिक स्टडी इंस्टीट्यूट, 2 कोर्स से होगी शुरुआत देश के चार महानगरों में आज पेट्रोल और डीजल के दाम इस प्रकार रहे: शहर का नाम——पेट्रोल (रुपये/लीटर)——(डीजल रुपये/लीटर) दिल्ली———————101.84—————————89.87 मुंबई-———————107.83————————— 97.45 चेन्नई———————-102.49-————————–94.39 कोलकाता——————102.08———————-—93.02 कब कम होंगे पेट्रोल-डीजल के दाम Petrol-Diesel Price : ईंधन (Fuel) की बढ़ती कीमतों से आम जनता त्रस्त है। केंद्र सरकार यदि एक्साइज ड्यूटी में कुछ कटौती करती है तो आम लोगों राहत मिस सकती है. लेकिन, फिलहाल ऐसा… Continue reading आखिर कहां तक जाएंगे पेट्रोल-डीजल के दाम, जानिए आपके शहर का हाल….

Bajaj Chetak की नई स्कूटर Enfield bullet से भी ज्यादा है महंगी

Mumbai: देश में स्कूटर का एक अलग ही क्रेज देखा गया है. एक जमाना था जब भारत में स्कूटर को शान की सवारी मानी जाती थी. एक बार फिर से बाजार में स्कूटी की मांग में बढ़ोतरी हुई है. खासकर कॉलेज जानेवाली युवतियों और कामकाजी महिलाओं में स्कूटी जबरदस्त डिमांड बढ़ी है. इसकी वजह से टीवीएस की स्कूटी, होंडा की एक्टिवा और हीरो की भी कई स्कूटी बाजार में आयीं. ऐसे में बजाज ने भी अपने बजाज चेतक इलेक्ट्रिक स्कूटर के साथ फिर से दमदार वापसी की है. कंपनी ने लॉन्चिंग के बाद बजाज चेतक की कीमत दो बार बढ़ा चुकी है. वहीं पिछले हफ्ते कंपनी ने दोबारा बजाज चेतक की बुकिंग शुरू की थी, लेकिन 48 घंटे में कंपनी को बुकिंग बंद करनी पड़ गई.बजाज चेतक का इलेक्ट्रिक मोटर 5.36 bhp का पीक पावर और 16 Nm टॉर्क जेनरेट करता है. स्कूटर में 3kWh लिथियम-आयन बैटरी पैक दिया गया है. इसकी बैटरी को 1 घंटे में 25 फीसदी और 5 घंटे में फुल चार्ज किया जा सकता है. कंपनी का दावा है कि चेतक में दी गई बैटरी की लाइफ करीब 70 हजार किलोमीटर तक है. कीमतों में हुआ 42% का इजाफा दरअसल, बजाज चेतक 14 जनवरी 2020 को… Continue reading Bajaj Chetak की नई स्कूटर Enfield bullet से भी ज्यादा है महंगी

खाद्य पदार्थों की कीमतों में उछाल, खुदरा महंगाई बढ़कर हुई 5.52 फीसदी

नई दिल्ली। राष्ट्रीय सांख्यिकीय कार्यालय (NSO) द्वारा सोमवार को जारी आंकड़ों के अनुसार मार्च महीने में खुदरा महंगाई बढ़कर 5.52 फीसदी हो गई है। मुख्य रूप से खाद्य पदार्थों की कीमतों में बढ़ोत्तरी के चलते खुदरा महंगाई में तेजी आई है। उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (CPI) आधारित खुदरा महंगाई फरवरी में 5.03 फीसदी पर रही थी। यह भी पढ़ें:-  कोरोना से जंग में भारत को मिला एक और हथियार, इस वैक्सीन को आपात इस्तेमाल की मंजूरी यह भी पढ़ें:- ड्रेस को लेकर निशाने पर प्रियंका चोपड़ा, ट्रोलर्स ने कहा- लगता है कुछ पहनना भूल गई एक्ट्रेस आंकड़ों के अनुसार, खाद्य पदार्थों में मार्च महीने में कीमतों में वृद्धि की दर बढ़कर 4.94 फीसदी हो गई। इससे पहले के महीने में यह 3.87 फीसदी थी। फ्यूल और लाइट कैटेगरी में महंगाई मार्च महीने में 4.50 फीसदी पर रही। यह फरवरी महीने में 3.53 फीसदी पर रही थी। यह भी पढ़ें:- Rajasthan: RU नहीं करेगा छात्रों को प्रमोट, यूजी और पीजी के टाइमटेबल जारी यह भी पढ़ें:- महाराष्ट्र में 10वीं-12वीं की परीक्षाएं स्थगित होने के बाद राजस्थान सरकार का भी बड़ा फैसला, इन कक्षाओं के विद्यार्थी होंगे प्रमोट आपको बता दें कि इस महीने की शुरुआत में भारतीय रिजर्व बैंक ने वित्त वर्ष 2020-21 की जनवरी से… Continue reading खाद्य पदार्थों की कीमतों में उछाल, खुदरा महंगाई बढ़कर हुई 5.52 फीसदी

अपना सिस्टम क्रोनी या भ्रष्ट, निकम्मा?

भारत का कौन खरबपति फिलहाल मन ही मन बम-बम होगा? जवाब है मुकेश अंबानी और उनकी जियो कंपनी। देश की पुरानी-स्थापित टेलीकॉम कंपनियां बरबादी की कगार पर हैं। ये दिवालिया होंगी तो जियो टेलीकॉम की चांदी है। भारत में सरकार, अदालत, मीडिया सबका कैसे इस्तेमाल कर एकाधिकार बना देश को, लोगों को चूना लगाना है, बिना लाइसेंस के टेलीकॉम की झुग्गी-झोपड़ी बना कर सीडीएमए तकनीक से सस्ती सेवा के बहाने रिलायंस कम्युनिकेशन का बाजार में छा कर बाकी कंपनियों को नानी याद कराते हुए, ग्राहकों को, बैंकों को चूना लगाने की दास्तां को लोग भूले नहीं हैं तो मुफ्त सेवा से जियो की एकाधिकारी रणनीति को भी हर समझदार बूझता है। क्रोनी पूंजीवाद और भ्रष्ट सिस्टम, निकम्मी सरकार व नेताओं के राज में अरबपति-खरबपति कैसे बना जाता है इसकी भारत दास्तां दुनिया में इसलिए् अनूठी है क्योंकि अच्छी-अच्छी विदेशी कंपनियां, देश के पुराने घराने (टाटा, बिड़ला, वाडिया) भी धागे से लेकर पेट्रोलियम-गैस, रिटेल, टेलीकॉम जैसे तमाम धंधों में चोरी, ऊपर से सीनाजोरी के अंदाज में मां भारती को लूटने में जैसे निर्लज्ज रहे हैं वैसे पुतिन के क्रोनी खरबपति भी नहीं रहे! इस वास्तविकता में भारत का राजा कोई हो, मनमोहन सिंह हों या नरेंद्र मोदी हमेशा सिस्टम, अफसर क्रोनी… Continue reading अपना सिस्टम क्रोनी या भ्रष्ट, निकम्मा?

बीस साल में पहली बार घटेगी आय कर वसूली!

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद से ही केंद्र सरकार इस बात के लिए अपनी पीठ थपथपा रही है कि इससे आय कर देने वालों की संख्या बढ़ी है पर अब खबर आ रही है कि इस साल दो दशक में पहली बार ऐसा हो सकता है कि आय कर की वसूली कम हो जाए। आय कर विभाग के जानकार सूत्रों के मुताबिक आय कर वसूली का लक्ष्य पूरा करना तो दूर की बात है इस बार पहली बार ऐसा होगा कि वसूली कम हो सकती है। बताया जा रहा है कि भारत के कॉरपोरेट और आय कर संग्रह में 20 साल में पहली बार गिरावट हो सकती है। केंद्र की नरेंद्र मोदी की सरकार ने चालू वित्त वर्ष में यानी 31 मार्च को खत्म हो रहे वित्तीय वर्ष में साढ़े 13 लाख करोड़ रुपए के कर संग्रह का लक्ष्य लेकर चल रही है। यह पिछले साल के लक्ष्य से 17 फीसदी ज्यादा है। लेकिन, 23 जनवरी तक आय कर विभाग सिर्फ केवल 7.3 लाख करोड़ रुपए का संग्रह ही कर पाया है। यह पिछले साल इसी अवधि में की गई कर वसूली से साढ़े पांच फीसदी कम है। आय कर संग्रह के इन आंकड़ों की जानकारी न्यूज एजेंसी रॉयटर्स को… Continue reading बीस साल में पहली बार घटेगी आय कर वसूली!

और लोड करें