कांग्रेस ने सीडीएस फैसले को गलत बताया

कांग्रेस ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ-सीडीएस की नियुक्ति को अस्पष्ट करार देते हुए इस पद को सृजित करने को लेकर सरकार से सवाल पूछे हैं कि आखिर इस पद पर नियुक्त व्यक्ति का काम क्या होगा।

सरकार ने सैन्य मामलों का नया विभाग बनाया, सीडीएस होंगे इसके प्रमुख

नई दिल्ली। सरकार ने रक्षा मंत्रालय में सैन्य मामलों का एक नया विभाग बनाया है और नवनियुक्त चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत इसके प्रमुख होंगे। मंगलवार को जारी एक सरकारी आदेश में यह जानकारी दी गई। थल सेना प्रमुख के रूप में तीन साल का कार्यकाल पूरा कर चुके जनरल रावत को सोमवार को देश का पहला सीडीएस नामित किया गया था। आदेश के अनुसार नए विभाग के पास तीनों सेनाओं – थल सेना, नौसेना और वायु सेना से संबंधित कार्य होंगे। इसके अलावा मौजूदा नियमों और प्रक्रियाओं के अनुसार पूंजीगत खरीद को छोड़कर सेवाओं के लिए विशिष्ट खरीद की भी जिम्मेदारी नए विभाग के पास होगी। इस आदेश में कहा गया है कि विभाग संयुक्त और थिएटर कमानों की स्थापना सहित संचालन में सहयोग के जरिए संसाधनों के अधिकतम उपयोग के लिए सैन्य कमांड के पुनर्गठन की सुविधा सुनिश्चित करेगा। इसके अलावा यह संयुक्त योजनाओं और आवश्यकताओं के एकीकरण के जरिए सैन्य सेवाओं में खरीद, प्रशिक्षण और स्टॉफ की नियुक्ति की प्रक्रिया में समन्वय लाएगा। साथ ही विभाग सेना में स्वदेश निर्मित उपकरणों के इस्तेमाल को बढ़ावा देगा। इसे भी पढ़ें : केरल विधानसभा में सीएए को वापस लेने की मांग वाला प्रस्ताव पारित राष्ट्रपति रामनाथ… Continue reading सरकार ने सैन्य मामलों का नया विभाग बनाया, सीडीएस होंगे इसके प्रमुख

जनरल रावत के वैचारिक झुकाव का असर ‘गैर राजनीतिक संस्था’ सेना पर नहीं पड़ना चाहिए: कांग्रेस

नई दिल्ली। कांग्रेस ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ (सीडीएस) के तौर पर जनरल विपिन रावत की नियुक्ति को लेकर मंगलवार को कई सवाल खड़े किए और कहा कि रावत के वैचारिक झुकाव का असर ‘गैर राजनीतिक संस्था’ सेना पर नहीं पड़ना चाहिए। पार्टी ने यह दावा भी किया कि इस मुद्दे पर सरकार ने पहला ही कदम गलत उठाया है। लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने ट्वीट कर कहा बिपिन रावत जी के वैचारिक झुकाव का असर गैर राजनीतिक संस्था सेना पर नहीं पड़ना चाहिए।’’ पार्टी प्रवक्ता मनीष तिवारी ने कहा बहुत ही अफसोस और पूरी जिम्मेदारी के साथ कहना चाहता हूं कि सीडीएस के संदर्भ में सरकार ने पहला ही कदम गलत उठाया है। इसे भी पढ़ें : सुप्रीम कोर्ट के लिए यादगार बना 2019 इस निर्णय के दुष्प्रभाव के बारे में समय बताएगा। उन्होंने सवाल किया कि सरकार का यह फैसला परेशानियों और अस्पष्टताओं से क्यों भरा पड़ा है? उल्लेखनीय है कि सेना प्रमुख के पद से मंगलवार को सेवानिवृत्ति के बाद जनरल रावत ने नवगठित सीडीएस का पदभार संभाला है। उनकी नियुक्ति का आदेश सरकार द्वारा सोमवार को जारी किया गया था।

पहले सीडीएस के लिए तैयारी पूरी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त को लाल किले से भाषण में ऐलान किया था कि सरकार चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ, सीडीएस की नियुक्ति करेगी। इसके लिए सरकार की तैयारी पूरी हो गई है। पहला सीडीएस कौन होगा, कहां रहेगा, उसका दफ्तर कहां होगा यह सब कुछ तय कर लिया गया है।

और लोड करें