बच्चों के लिए COVID-19 टीकाकरण अभियान शुरू होने के बाद किसे प्राथमिकता दी जाएगी..पढ़ें पूरी रिपोर्ट

राष्ट्रीय टीकाकरण तकनीकी सलाहकार समूह (एनटीएजीआई) के अध्यक्ष डॉ एनके अरोड़ा ने कहा कि एक बार भारत में बच्चों के लिए कोरोना टीकाकरण अभियान शुरू होने के बाद गंभीर बीमारियों वाले बच्चों को प्राथमिकता दी

3 महीने से कम उम्र के गोद लिए बच्चे को ही दिया जाता है मैटरनिटी लीव – सुप्रीम कोर्ट ने छुट्टी नियमों पर केंद्र को नोटिस जारी..

12 सप्ताह के मातृत्व लाभ का लाभ उठाने के लिए एक व्यक्ति को तीन महीने से कम उम्र के बच्चे का दत्तक ( Adoption ) माता-पिता होना चाहिए।

स्मार्ट हो रहीं आंगनबाड़ी, सीएम योगी ने आंगनबाडी में इंफेंटोमीटर और स्मार्टफोन बांटे, दस्तक अभियान को सफल बनाया

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्मार्ट आंगनबाड़ी को बच्चों के सर्वांगीण विकास की नींव बताया है। सीएम योगी ने कहा है कि साढ़े चार साल पहले तक आंगनबाड़ी महज धरना-प्रदर्शन के लिए पहचानी जाती थी।

दर्दनाक : एक दिन की नवजात का दो बार हुआ सौदा, पहले मां ने फिर खरीदार ने भी बेचा…

पहली बार एक मां ने अपनी नवजात बच्ची को महज 6,000 रुपये के लिए किसी दूसरे के हाथों बेच दिया. बताया गया कि मां की आर्थिक…

देश छोड़ने वालों पर तालिबान बरसा रहा है कोड़े, काबुल एयरपोर्ट से आई विचलित करने वाले तस्वीरें …

तस्वीरों में साथ देखा जा सकता है कि देश छोड़कर भागने वाले लोगों पर किस तरह तालिबान कहर बनकर टूट रहा है. बताया जा रहा है कि देश छोड़कर जाना चाहने वाले लोगों को तालिबान के लड़ाके काबुल एयरपोर्ट के अंदर

अगले महीने संभव बच्चों की वैक्सीन

कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए चल रही वैक्सीनेशन अभियान के बीच अच्छी खबर है। अगले महीने यानी अगस्त में बच्चों की वैक्सीन आ सकती है।

स्कूल खोले जा सकते हैं, सीरो सर्वे में बड़ी संख्या में बच्चों में कोरोना एंडीबॉडी मिली

सीरे सर्वे में पता चला है कि बड़ी संख्या में बच्चे कोरोना से संक्रमित होकर ठीक हो चुके हैं। छोटे बच्चों में भी एंडीबॉडी मिली है। तभी आईसीएमआर ने भी कहा है कि स्कूल खोले जा सकते हैं।

जिन्हें कोरोना ने कहीं का नहीं छोड़ा

COVID crisis children risk | मां और पिता कोरोना से मर गए और दोनों बच्चे अपने चाचा और चाची के पास हैं। 14 जून की रात ओडिशा के कई स्थानीय टीवी चैनलों पर लोगों ने इस सात साल की बच्ची को झूला झुला कर अपने डेढ़ महीने के भाई को सुलाने की कोशिश करते देखा। दिहाड़ी पर काम करने वाले उसके चाचा देबाशीष के लिए अपने परिवार के अलावा दो अतिरिक्त बच्चों को पालना बहुत मुश्किल है। वह चाहता था कि जिला प्रशासन या सरकार उसकी मदद करे।… कोरोना ने देश के कितने घरों की जिंदगियों को इस तरह उलट-पलट कर दिया है।  यह भी पढ़ें: आर्थिकी भी खलास! लेखक: सुशील कुमार सिंह COVID crisis children risk | कृष्णा की उम्र केवल सात साल है। उसकी मां कटक के एक अस्पताल में नर्स थी और पिता भुवनेश्वर में ईस्ट कोस्ट रेलवेज़ के मुख्यालय में काम करता था। अप्रैल के पहले हफ्ते तक कृष्णा के घर में सब ठीक चल रहा था और वह अपनी ऑनलाइन पढ़ाई में व्यस्त थी। मगर अचानक उसकी गर्भवती मां कोरोना की चपेट में आ गई। एक लड़के को जन्म देने के सात दिन बाद मां चल बसी। पिता कमलेश दोनों बच्चों यानी नवजात बेटे और… Continue reading जिन्हें कोरोना ने कहीं का नहीं छोड़ा

पति ने जब BJP में शामिल होने को कहा, तो AAP पार्टी से पार्षद पत्नी ने दे दिया तलाक

सूरत | आपने भी अक्सर ये देखा होगा कि एक घऱ में ही अलग-अलग पार्टियों को पसंद करने के कारण लोगों में मतभेद हो जाते हैं. लेकिन क्या आपने कभी सुना है कि राजनीतिक संकट के कारण पति-पत्नी का तलाक हो गया हो. अगर नहीं तो पढें पूरी खबर. यह ताजा मामला गुजरात के सूरत शहर का है. जहां एक पति-पत्नी के तलाक का कारण राजनीतिक विचारधाराएं हैं. ऐसा भी नहीं है कि दोनों कम पढ़े लिखे हों या फिर दोनों के बीच कोई और मतभेद रहा हो. इस जोड़े में पति और पत्नी दोनों ही इंजिनियर हैं, यहां बता दें कि इस जोड़े में से पत्नी रुता दूधागरा आम आदमी पार्टी से नगर पार्षद है और पति भाजपा का नेता है. दोनों के ही बीच अक्सर इस बात को लेकर विवाद होता रहता था कि दोनों में से कौन सी पार्टी बेहतरक कार्य करती है. लेकिन बीते कुछ दिनों से इनके बीच का विवाद लगातार एक विशेष कारण से बढ़ता जा रहा था. पत्नी का आरोप है कि पति मुझे भाजपा में शामिल करवाना चाहते थे आम आदमी पार्टी से पार्षद रुता दूधागरा का कहना है कि उसका पति उसपर लगातार भाजपा में शामिल होने के लिए दबाव बना… Continue reading पति ने जब BJP में शामिल होने को कहा, तो AAP पार्टी से पार्षद पत्नी ने दे दिया तलाक

Corona Relief : वैज्ञानिकों ने बच्चों के लिए खास तैयार की ‘लॉलीपॉप टेस्टिंग किट’, जानें क्या है खास

नई दिल्ली |  कोरोना की तीसरी लहर को लेकर वैज्ञानिकों की भविष्यवाणी पर लगातार काम हो रहा है. इसी कड़ी में अब विशेषज्ञों ने बच्चों कोरोना टेस्ट करने के लिए एक नई तकनीक आजाद किया है. वैज्ञानिकों ने बच्चों के लिए  तैयार किये गये टेस्ट का नाम भी बच्चों के हिसाब से लॉलीपॉप टेस्टिंग किट दिया है. डॉक्टरों की टीम ने इसे एक लॉलीपॉप की तरह ही डिज़ाइन किया है. जिस बच्चे का कोरोना टेस्ट किया जाना है उसे या लॉलीपॉप चूसने के लिए दे दिया जाता है. थोड़ी देर बच्चे के इसे चूसने के बाद इसमें लगे स्टीकर में बच्चे का स्वैब का नमूना आ जाता है और उसे बाद में जांच के लिए लैब भेज दिया जाता है. लॉलीपॉप टेस्टिंग किट के स्वाद पर भी विशेष ध्यान बता दें कि इस लॉलीपॉप टेस्टिंग किट से ऑस्ट्रिया में किंडर गार्डन के बच्चों पर इसका पहला टेस्ट भी किया जा चुका है. भारत के साथ दुनिया भर के देश अपने बच्चे को सुरक्षित करने के लिए प्रयासरत हैं. कई देशों की सरकारें अब बच्चों पर विशेष ध्यान दे रही है. विशेषज्ञों का कहना है कि इस तकनीक से बच्चों को किसी तरीके की परेशानी नहीं होती और उनका आसानी से स्वैब लिया… Continue reading Corona Relief : वैज्ञानिकों ने बच्चों के लिए खास तैयार की ‘लॉलीपॉप टेस्टिंग किट’, जानें क्या है खास

Right Or Wrong:  लैब में तैयार हुआ ‘मां का दूध’, बाजार में बिकने के लिए तैयार

नई दिल्ली |  नवजात बच्चों के लिए मां का दूध एक वरदान की तरह होता है. कई गायनोलॉजिस्ट और विशेषज्ञों का मानना है कि नवजात बच्चे की मानसिक और शारीरिक क्षमता को बढ़ाने के लिए मां के दूध से अच्छा कुछ नहीं होता. लेकिन अगर हम आपको यह कहे कि आने वाले कुछ दिनों में अब नवजात शिशु के लिए मां का दूध भी बाजार से आने वाला है तो यह सुनकर आपको थोड़ा अजीब जरूर लगेगा. लेकिन जो सच्चाई है और इस तरह की टेक्नोलॉजी डिवेलप की जा चुकी है. महिलाओं द्वारा किए गए एक स्टार्टअप में नवजात बच्चों के लिए ब्रेस्ट मिल्क को साइंस लैब में तैयार करने का तरीका खोज निकाला गया है.अब ये बाजार में आने के बाद कितना सही होगा ये तो आने वाला समय ही बताएगा. मौजूद होंगे सभी पोषक तत्व बायोमिल्क नाम की एक स्टार्टअप कंपनी ने दावा किया है कि अब वह नवजात बच्चों के लिए लैब में तैयार किए गए दूध देने को तैयार है. कंपनी की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार महिलाओं के स्तन कोशिकाओं से दूध को तैयार करने में उन्हें कामयाबी मिल चुकी है. इस संबंध में कंपनी की ओर से दावा किया जा रहा है… Continue reading Right Or Wrong: लैब में तैयार हुआ ‘मां का दूध’, बाजार में बिकने के लिए तैयार

Corona Epidemic : नेत्रहीन माता-पिता ने नौ माह की इकलौती संतान को खोया

नई दिल्ली | अपने नेत्रहीन माता-पिता (Blind parents) की इकलौती संतान नौ माह के कृशु की दिल्ली के एक सरकारी अस्पताल (Government hospital) में कोरोना (Corona) के कारण मौत हो गई जबकि उसका पिता एक अन्य अस्पताल (Hospital) में संक्रमण से जूझ रहा है। पूर्व भाजपा विधायक जितेंद्र सिंह ‘शंटी’ (former BJP MLA Jitendra Singh ‘Shunty’) ने बृहस्पतिवार शाम को ओल्ड सीमापुरी के एक शवदाहगृह में कृशु को दफनाया। दो दिनों में यह दूसरी बार है जब जितेंद्र सिंह (Jitendra Singh) ने इतने छोटे बच्चे को दफनाया है। कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान 2,000 से अधिक अनजान लोगों का सम्मानपूर्वक अंतिम संस्कार कर चुके सिंह (59) ने बुधवार शाम को उसी जगह के पास पांच महीने की परी को दफनाया था जहां कृशु अब हमेशा के लिए सो गया है। कृशु के एक रिश्तेदार ने बताया कि वह अपने माता-पिता की इकलौती संतान था जो पूर्वी दिल्ली में दिलशाद गार्डन (Dilshad Garden) में रहते हैं। उन्होंने रोते हुए कहा, दोनों माता-पिता नेत्रहीन हैं। रिश्तेदार ने बताया कि कृशु की मां करीब 18 दिन पहले कोरोना वायरस से संक्रमित हुई थी और चूंकि उसने बच्चे को स्तनपान कराया था तो वह भी बीमार हो गया। कुछ दिनों पहले कृशु को… Continue reading Corona Epidemic : नेत्रहीन माता-पिता ने नौ माह की इकलौती संतान को खोया

Child Rights Protection Commission की नई पहल, बच्चों को मानसिक तनाव से बचाने के लिए शुरू की टेली काउंसलिंग सेवा

भोपाल| कोरोना (Corona) का खतरा सभी के लिए घातक बनता जा रहा है और कोरोना (Corona) के मामलों में लगातार इजाफा हो रहा है इस महामारी का असर अब सभी लोगों पर दिखने लगा है बच्चों में भी मानसिक तनाव (Mental Stress) बढ़ रहा है कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के चलते बच्चों (Child) में मानसिक तनाव (Mental Stress) बढ़ रहा है, बच्चों के इस तनाव को कम करने के लिए बाल अधिकार संरक्षण आयोग (Child Rights Protection Commission) ने संवेदना नाम से टोल फ्री टेली काउंसलिंग सेवा (Toll Free Tele Counseling Service) की शुरुआत की है। आधिकारिक तौर पर दी गई जानकारी के अनुसार, कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के चलते मानसिक रूप से प्रभावित हो रहे बच्चों के लिए बाल अधिकार संरक्षण आयोग (Child Rights Protection Commission) ने नई पहल की है। इसे भी पढ़ें – Shravan Rathod Death : श्रवण के पत्नी-बच्चे भी कोरोना पाॅजिटिव,  जोड़ीदार नदीम ने कहा- मेरा शानू अब नहीं रहा आयोग ने ‘संवेदना’नाम से टोल फ्री टेली काउंसलिंग (Toll Free Tele Counseling Service) शुरू की है। इसके लिए टोल फ्री नम्बर 1800-1212-830 जारी किया गया है, जिस पर बच्चे कॉल कर विशेषज्ञों से बात कर अपनी समस्या का समाधान पा सकते हैं। कोरोना (Corona) के दौरान… Continue reading Child Rights Protection Commission की नई पहल, बच्चों को मानसिक तनाव से बचाने के लिए शुरू की टेली काउंसलिंग सेवा

अभिनेत्री जेसिका बील ने कहा, दूसरे बच्चे के जन्म के बाद जीवन में आया बदलाव

लॉस एंजेलिस| अभिनेत्री जेसिका बील (Jessica Beal) जब से दूसरी बार मां बनी है तब से उनकी जिंदगी बदल गई है। उन्होंने कहा, दो बच्चे होने का मतलब है ढेर सारा काम करना, हर समय बस पागलपंती और मस्ती से भरा जीवन। उन्होंने कहा “मेरे एक बहुत समझदार मित्र ने कहा, ‘एक ही बच्चा बहुत है और दूसरा बच्चा हजार के बराबर है। ठीक उसी तरह जैसे मैन-ऑन-मैन डिफेंस यानी एक ही व्यक्ति यहां और एक ही वहां। अभिनेत्री को अपने पॉप स्टार पति जस्टिन टिम्बरलेक (husband Justin Timberlake) के साथ दो बच्चे (Children) हैं, सिलास 6 और फनीस, 10 महीने का है। उन्होंने कहा, उन्हें कुछ मिनटों के लिए भी रोने देना मुश्किल है। इसे भी पढ़ें – Covid 19 ने लगाए India Open Badminton 2021 पर ब्रेक, 11 से 16 मई तक होना था आयोजन हम इस तरह नींद की ट्रेनिंग (training) ले रहे हैं। फिन ने अच्छा काम किया। हमने कभी सिलास के साथ नींद की ट्रेनिंग (training) का बड़े पैमाने पर पालन नहीं किया। मुझे लगता है कि यह इसलिए क्योंकि वह पहला बच्चा (Child) था, हम घबराए हुए थे, हम इस बारे में सोच भी नहीं सकते थे। लेकिन अब लगता है कि हम यह कर… Continue reading अभिनेत्री जेसिका बील ने कहा, दूसरे बच्चे के जन्म के बाद जीवन में आया बदलाव

आंदोलन स्थलों पर न के बराबर दिख रही महिलाओं की हिस्सेदारी

कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन को महीनों हो चुके हैं। शुरूआत में बॉर्डर पर बच्चों, बुजुर्गों और महिलाओं की भागीदारी नजर आई।

और लोड करें