बूढ़ा पहाड़
गृह और वित्त मंत्रालय फड़नवीस ने रखा

महाराष्ट्र की एकनाथ शिंदे सरकार के मंत्रियों के शपथ लेने के पांच दिन बाद रविवार को मंत्रियों के बीच विभागों का बंटवारा कर दिया गया।

फड़नवीस के लिए परीक्षा का चुनाव

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने अपनी प्रतिष्ठा दांव पर लगाई है। आखिरी दिन उन्होंने भाजपा के तीसरे उम्मीदवार धनंजय महाडिक का नामांकन वापस नहीं कराया।

फड़नवीस की चलती कम होगी

भारतीय जनता पार्टी में लग रहा है कि समीकरण बदल रहा है। कई राज्यों में समीकरण बदलते दिख रहे हैं, जिनमें एक राज्य महाराष्ट्र है।

नवाब मलिक का जवाब नहीं!

नवाब मलिक खुल कर समीर वानखेड़े के खिलाफ गंभीर आरोप लगा रहे हैं और अपने बचाव में समीर वानखेड़े का परिवार धर्म, क्षेत्र आदि की दुहाई दे रहा है।

अंडरवर्ल्ड ही सत्य, सरकारें तो माया!

महाराष्ट्र खास कर देश की वित्तीय राजधानी मुंबई में अंडरवर्ल्ड ही सत्य है। सरकारें माया हैं, आनी-जानी हैं लेकिन अंडरवर्ल्ड पहले भी था, अब भी है और आगे भी रहेगा।

फड़नवीस पर मलिक ने लगाए गंभीर आरोप

फड़नवीस के सीएम रहते नोटबंदी के बाद 14 करोड़ से ज्यादा के जाली नोट पकड़े गए लेकिन सरकार ने मामले को दबाया।

देवेंद्र फडणवीस द्वारा नवाब मलिक पर लगाए गये आरोपों के बाद, पलटवार करते हुए कहा- कल मैं फोड़ूंगा हाइड्रोजन बम …

देवेंद्र फडणवीस नवाब मलिक द्वारा लगाए गए आरोपों को बेबुनियाद बताया. इसके साथ ही उन्होंने नवाब मलिक के संबंध अंडरवर्ल्ड के साथ…

अब फड़नवीस के धमाके का इंतजार

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने कहा था कि वे दिवाली के बाद धमाका करेंगे और राज्य की महाविकास अघाड़ी सरकार के नेताओं और मंत्रियों की पोल खोलेंगे।

ड्रग्स केस में नवाब मलिक ने पूर्व मुख्यमंत्री फडणवीस की पत्नी की तस्वीर शेयर कर किया घेरने का प्रयास…

मलिक ने कथित मादक पदार्थ कारोबारी के साथ पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस की एक तस्वीर ट्वीट की है. इसे साथ ही उन्होंने BJP…

भाजपा ने चुनाव प्रभारियों की घोषणा की

भारतीय जनता पार्टी ने अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए प्रभारियों के नाम का ऐलान कर दिया है। केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान सबसे अहम उत्तर प्रदेश में चुनाव लड़वाएंगे।

शिव सेना दुश्मन नहीं: भाजपा

Shivsena BJP Not enemies : मुंबई। एक तरफ महाराष्ट्र विधानसभा में सत्ता पक्ष ने भाजपा के 12 विधायकों के निलंबित करा दिया पर सदन से बाहर दोनों पार्टियों के बीच जबरदस्त सद्भाव देखने को मिला है। विधानसभा के दो दिन के विशेष सत्र से पहले विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फड़नवीस ने रविवार को दादर स्थित वसंत स्मृति भवन में पत्रकारों से बात करते हुए कहा- शिव सेना हमारी शत्रु नहीं है, वैचारिक मतभेद हैं। इसका जवाब देते हुए शिव सेना के संजय राउत ने कहा- हमारे रास्ते भले अलग हैं लेकिन हमारी दोस्ती कायम है। मोदी की नई कैबिनेट के 90 प्रतिशत मंत्री करोड़पति हैं, 42% पर आपराधिक मामले : ADR की रिपोर्ट फड़नवीस और संजय राउत के बयानों से राजनीतिक हलचल तेज हो गई है। हालांकि बाद में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि दोनों पार्टियां दुश्मन नहीं हैं लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि दोनों पार्टियां साथ मिल कर सरकार बनाने जा रही हैं। इससे पहले फड़नवीस ने कहा था कि- राजनीति में सब कुछ स्थायी नहीं होता। ध्यान फड़नवीस ने राज्य सरकार के खिलाफ तीखे तेवर अपनाए हैं लेकिन शिव सेना के प्रति उनका नजरिए नरम हो गया है। पूर्व मुख्यमंत्री फड़नवीस… Continue reading शिव सेना दुश्मन नहीं: भाजपा

कोश्यारी का रिकार्ड नहीं तोड़ सके रावत

उत्तराखंड के 20 साल के इतिहास में 10 मुख्यमंत्री बने हैं। तीरथ सिंह रावत राज्य के नौवें मुख्यमंत्री थे, जो 114 दिन पद पर रहे। अगर आठ दिन और रह जाते तो वे महाराष्ट्र के मौजूदा राज्यपाल और उत्तराखंड के दूसरे मुख्यमंत्री भगत सिंह कोश्यारी के रिकार्ड की बराबरी कर लेते। राज्य की अंतरिम विधानसभा में पहले मुख्यमंत्री नित्यानंद स्वामी के बाद कोश्यारी को मुख्यमंत्री बनाया गया था। वे 122 दिन पद पर रहे थे। हालांकि तीरथ सिंह रावत उनका रिकार्ड नहीं तोड़ पाए लेकिन कई दूसरे मुख्यमंत्रियों का रिकार्ड उन्होंने तोड़ दिया है। कई राज्यों में इससे भी कम समय के लिए मुख्यमंत्री रहे हैं। कम समय के मुख्यमंत्रियों का रिकार्ड भाजपा का भी अच्छा खासा है। हाल ही में महाराष्ट्र के भाजपा के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस तीन दिन के लिए मुख्यमंत्री बने थे। पहले कार्यकाल में वे पांच साल रहे थे। लेकिन दूसरी बार वे सिर्फ तीन दिन मुख्यमंत्री रहे और उसके बाद इस्तीफा दे दिया। राज्यपाल ने उनको एक अजीबोगरीब घटनाक्रम में तड़के शपथ कराई थी। अजित पवार उनके साथ उप मुख्यमंत्री बने थे लेकिन दो दिन के बाद ही अपने चाचा शरद पवार के साथ लौट गए और मजबूरी में फड़नवीस को इस्तीफा देना पड़ा। फड़नवीस… Continue reading कोश्यारी का रिकार्ड नहीं तोड़ सके रावत

Cabinet Expansion in India : कैबिनेट के लिए दिलचस्प नामों की चर्चा

Cabinet Expansion in India : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी कैबिनेट का विस्तार पता नहीं कब करेंगे और करेंगे भी या नहीं लेकिन उससे पहले नामों को लेकर खूब चकल्लस चल रही है। चूंकि मोदी ने मीडिया को अपने प्रशासन से दूर रखा है इसलिए उनके किसी फैसले की अग्रिम जानकारी मीडिया को नहीं मिल पाती है। यूपीए की सरकार में तो हफ्तों पहले लोगों को पता चल जाता था कि कौन-कौन मंत्री बनेगा और कुछ पत्रकार तो मंत्रियों के विभाग भी तय भी कराने लगते थे। यह काम मोदी की सरकार में नहीं हो रहा है। फिर भी अंदाजे पर या इधर-उधर के नेताओं से बातें सुन कर कुछ नामों की अटकलें लगाई जा रही हैं। कुछ नाम तो मीडिया में बहुत चर्चा में आ चुके हैं लेकिन कुछ नामों की कम चर्चा हुई है और कुछ बेहद दिलचस्प नाम हैं। यह भी पढ़ें: महाराष्ट्र में चुनाव की क्या जल्दी है? यह भी पढ़ें: आय कर की नई साइट किसका फितूर! जैसे सबसे दिलचस्प और नया नाम मनोज सिन्हा का है। वे जम्मू कश्मीर के उप राज्यपाल हैं और उनके जिम्मे में राज्य में राजनीतिक प्रक्रिया की बहाली का जिम्मा है। लेकिन उत्तर प्रदेश में एके शर्मा को लेकर जो… Continue reading Cabinet Expansion in India : कैबिनेट के लिए दिलचस्प नामों की चर्चा

फड़नवीस की पसंद को तरजीह

भाजपा की नई पीढ़ी के नेताओं में महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस का कद लगातार बढ़ रहा है। महाराष्ट्र की राजनीति में उनको पीछे धकेलने के लिए हो रही तमाम सियासत के बावजूद उनका कद छोटा नहीं हो रहा है। पार्टी के जानकार सूत्रों का कहना है कि ऐसा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पसंद से हो रहा है। ध्यान रहे पिछले कई बरसों से यह अटकल है कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की पसंद चंद्रकांत पाटिल हैं, जिनको प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया है, जबकि फड़नवीस प्रधानमंत्री की पसंद हैं। यह भी कहा जा रहा है कि फड़नवीस के बढ़ते कद से उद्धव ठाकरे और शरद पवार भी चिंतित हैं और उनको साइज में रखना चाहते हैं। यह भी पढ़ें: प्रियंका के ट्विट की अनदेखी! लेकिन प्रधानमंत्री मोदी की वजह से फड़नवीस को साइज में रखने का अभियान सिरे नहीं चढ़ रहा है। उलटे वे अपनी पसंद के लोगों को अच्छी जगहों पर नियुक्त करा रहे हैं। भारत सरकार ने हाल में आशीष चंदोरकर को विश्व व्यापार संगठन यानी डब्लुटीओ में भारत का स्थायी प्रतिनिधि नियुक्त किया है। वे अगले तीन साल तक जिनेवा में भारत के स्थायी प्रतिनिधि के तौर पर तैनात रहेंगे। चंदोरकर को फड़नवीस का करीबी… Continue reading फड़नवीस की पसंद को तरजीह

भाजपा के अंतर्कलहः न चर्चा, न खबर!

कांग्रेस पार्टी में सब कुछ ठीक नहीं है इस बात की चर्चा पिछले सात साल से चल रही है। हर बार जब कांग्रेस का कोई नेता पार्टी छोड़ता है तो इस बात की चर्चा होती है कि पार्टी खत्म होने की ओर बढ़ रही है और पार्टी आलाकमान यानी राहुल गांधी किसी लायक नहीं हैं। उनकी टीम बहुत खराब है और इसलिए कांग्रेस के नेता पार्टी छोड़ रहे हैं या पार्टी में अंतर्कलह है। लेकिन ऐसा ही कुछ भाजपा में भी होता है तो उसकी चर्चा नहीं होती है। हकीकत यह है कि इस समय कांग्रेस से ज्यादा अंतर्कलह भाजपा में चल रही है लेकिन मीडिया में न तो सामने दिख रही खबर दिखाई जाती है और न सूत्रों के हवाले से कोई खबर आती है। यह भी पढ़ें: तीरथ सिंह को उपचुनाव की चिंता उत्तर प्रदेश में पिछले तीन महीने से ज्यादा समय से तनाव है। प्रधानमंत्री के करीबी आईएएस अधिकारी एके शर्मा को दिल्ली से जाते ही प्रदेश में उप मुख्यमंत्री बनना था और गृह व कार्मिक विभाग संभालना था। लेकिन वे तीन महीने से बनारस में कोविड प्रबंधन देख रहे हैं क्योंकि मुख्यमंत्री ने उनको उप मुख्यमंत्री बनाने से इनकार कर दिया। मुख्यमंत्री का सीधे प्रधानमंत्री से… Continue reading भाजपा के अंतर्कलहः न चर्चा, न खबर!

और लोड करें