खेल के तपस्वियों को सलाम!

नीरज चोपड़ा को सलाम! रवि दहिया और बजरंग पूनिया को भी सलाम! पीवी सिंधु, मीराबाई चानू और लवलिना बोरगोहेन को नमन! मनप्रीत सिंह के नेतृत्व में खेली भारतीय हॉकी टीम को नमन

भारत के लिए सबसे सफल ओलंपिक, नीरज ने मिल्खा को समर्पित किया पदक

पदकों की संख्या के लिहाज से टोक्यो ओलंपिक भारत का सबसे सफल ओलंपिक बन गया है। भारत को इस मुकाबले में एक स्वर्ण के साथ कुल सात पदक मिले हैं।

हरियाणा के छोरे ने Tokyo में गाड़ दिया लट्ठ, देश का नाम स्वर्णिम अक्षरों में कराया अंकित, ‘गोल्डन ब्वाॅय’ नीरज चोपड़ा को बधाईयों का तांता

नीरज को चारों ओर से लगातार बधाई मिल रही है। भारत के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री सहित खेल जगत, राजनीतिक जगत और देशवासी उन्हें बधाईयां दे रहे हैं। उनके परिवार में दिवाली सा माहौल हो गया है। Tokyo Olympics 2020 में भारत का यह पहला स्वर्ण पदक है। इसी के साथ अब भारत की झोली में कुल 7 मेडल आ गए हैं।

125 साल पहले शुरु हुए ओलंपिक में पहली बार के विजेताओं को नहीं दिया कोई गोल्ड पदक, आधुनिक ओलंपिक में एक भी महिला खिलाड़ी नहीं थी..

टोक्यो ओलंपिक का आगाज 23 जुलाई से होने जा रहा है। टोक्यो में कोरोना के मामले फिर से बढ़ने लगे है। इस कारण वहां पर 22 जुलाई तक आपातकाल की घोषणा की गई है। और 23 जुलाई से ओलंपिक 2021 शुरु होगा। ओलंपिक खेलों का आयोजन आज से 125 साल पहले हुआ था। साल 1896 में रोमन सम्राट थियोडोसियस द्वारा 1500 साल पहले प्रतिबंधित किए जाने के बाद एथेंस में प्राचीन यूनान की खोई हुई परंपरा ओलंपिक खेलों को दोबारा जीवित किया गया। अतीत की प्रतियोगिताओं की तरह एथेंस खेलों में भी सिर्फ पुरुष प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया। ( Olympics started 125 years ago ) यह आधुनिक ओलंपिक में एकमात्र ऐसा खेल था जिसका हिस्सा महिला प्रतिभागी नहीं थी। 6 से 15 अप्रैल तक हुए इन खेलों में 14 देशों के 241 खिलाड़ियों ने अपना करिश्मा दिखाया। खिलाड़ियों ने एथलेटिक्स (ट्रैक एवं फील्ड), साइकिलिंग, तैराकी, जिम्नास्टिक, भारोत्तोलन, कुश्ती, तलवारबाजी, निशानेबाज और टेनिस की 43 स्पर्धाओं में भाग लिया था। also read: 2016 में रियो आलंपिक में नहीं खेल पाई थी विनेश फोगाट लेकिन अब चाचा महावीर सिंह फोगाट की कप्तानी में घर लाएगी गोल्ड विजेताओं को स्वर्ण पदक नहीं ये दिया गया ( Olympics started 125 years ago ) पहली बार… Continue reading 125 साल पहले शुरु हुए ओलंपिक में पहली बार के विजेताओं को नहीं दिया कोई गोल्ड पदक, आधुनिक ओलंपिक में एक भी महिला खिलाड़ी नहीं थी..

Women’s Hockey : गोलकीपर सविता ने बताया कि, टॉप टीमों के खिलाफ खेलने के लिए हमने सही लय हासिल की

भारतीय महिला हॉकी टीम (Indian women’s hockey Team) की उपकप्तान और गोलकीपर सविता (Savita) का मानना है कि टीम ने पिछले कुछ वर्षों से खुद को एक मजबूत दावेदार के रूप में पेश किया है और अब वह बड़ी उपलब्धियों को हासिल करने के लिए तैयार है।

भारत के दिग्गज हॉकी प्लेयर Ravinder Pal Singh ने दुनिया को कहा अलविदा, कोरोना के कारण हुआ निधन

कोरोना ने पुरे भारत में कोहराम मचा रखा है। कोरोना लोगों की जान का दुश्मन बना बैठा है। आये दिन किसी ना किसी के मौत की खबर मिलती ही रहती है। अब खेल जगत से एक और बुरी खबर आई है। भारतीय हॉकी टीम के पूर्व सदस्य और मॉस्को ओलंपिक 1980 के स्वर्ण पदक विजेता रविंदर पाल सिंह ने करीब दो सप्ताह कोरोना संक्रमण से जूझने के बाद शनिवार की सुबह लखनऊ में अंतिम सांस ली। वह 65 वर्ष के थे। इसे भी पढ़ें UP : यमुना नदी में बहती मिली कई लाशें, कोरोना से मौतों की आशंका, लोग करने लगे जल प्रवाह! नहीं रहे रविंदर पाल सिंह रविंदर पाल सिंह को 24 अप्रैल को विवेकानंद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। पारिवारिक सूत्रों के अनुसार वह कोरोना संक्रमण से उबर चुके थे और टेस्ट नेगेटिव आने के बाद कोरोना वॉर्ड से बाहर थे। शुक्रवार को उनकी हालत अचानक बिगड़ी और उन्हें वेंटिलेटर पर रखना पड़ा। उसके बाद उनकी मृत्यु हो गई। भारत में कोरोना के केस बढ़ते ही जा रहे है। एक जिन में 4 लाख के पार मामले मिल रहे है। और करीब 4 हजार लोगों की मौत हो रही है। रविंदर पाल सिंह ने विवाह नहीं किया लॉस… Continue reading भारत के दिग्गज हॉकी प्लेयर Ravinder Pal Singh ने दुनिया को कहा अलविदा, कोरोना के कारण हुआ निधन

कुश्ती रैंकिंग : रोम में स्वर्ण जीतने के बाद पुनिया, विनेश टॉप पर लौटे

रोम में हुए मातेओ पालिकोन रैंकिंग सीरीज में स्वर्ण पदक जीतने के बाद भारतीय पहलवान बजरंग पुनिया विश्व कुश्ती रैंकिंग में 65 किग्रा फ्रीस्टाइल वर्ग में फिर से टॉप पर पहुंच गए हैं।

कुश्ती : विनेश ने रोम रैंकिंग सीरीज में जीता स्वर्ण

एशियाई और राष्ट्रमंडल खेलों की स्वर्ण पदक विजेता विनेश फोगाट ने कनाडा की डियाना विकर को हराकर रोम में हुए मातेओ पेलिकोन रैंकिंग सीरीज में स्वर्ण पदक जीत लिया।

दुती चंद का गोल्डन डबल

भारत की सबसे तेज धाविका दुती चंद ने पहले खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स में आज 200 मीटर का स्वर्ण पदक जीत लिया। उन्होंने इससे पहले कल 100 मीटर का स्वर्ण पदक भी जीता था।

दुती चंद ने जीता 100 मीटर का स्वर्ण पदक

भारत की सबसे तेज धाविका दुती चंद ने पहले खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स में आज कलिंगा स्टेडियम में 100 मीटर का स्वर्ण पदक जीत लिया।

क्वार्टर फाइनल में हारी वीनेश, कांसे रेस में

एशियाई कुश्ती चैम्पियनशिप में भारत की स्वर्ण पदक की उम्मीदों को शुक्रवार को एक बड़ा झटका लगा। एशियाई खेलों की स्वर्ण पदक विजेता महिला पहलवान वीनेश फोगाट चैम्पियनशिप में 53 किलोग्राम भारवर्ग के क्वार्टर फाइनल में हार गई हैं।

ओलम्पिक विजेताओं की पुरस्कार राशि में भारी बढ़ोत्तरी

ओलम्पिक खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाले खिलाड़ियों को तीन करोड़ रुपये रजत पदक को दो करोड़ रुपये और कांस्य पदक जीतने वाले को एक करोड़ रुपये मिलेंगे।

निशानेबाजी : अपूर्वी, दिव्यांश ने जीते स्वर्ण

इन्सब्रुक (आस्ट्रिया)। अनुभवी भारतीय निशानेबाज अपूर्वी चंदेला और दिव्यांश सिंह पंवार ने यहां जारी मीटन कप इंटरनेशनल निशानेबाजी चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीत लिए। अपूर्वी ने महिलाओं की 10 मीटर एयर राइफल के फाइनल में 251.4 का स्कोर किया और स्वर्ण पदक अपने नाम किया। इसी स्पर्धा में अंजुम मुदगिल को 229 के स्कोर के साथ कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा। इसे भी पढ़ें : अंडर-19 विश्व कप : भारत ने जीता टॉस, गेंदबाजी का फैसला दिव्यांश ने पुरुषों के 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा में 249.7 के स्कोर के साथ स्वर्ण पदक हासिल किया। दीपक कुमार को 228 के स्कोर के साथ कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा। चार निशानेबाज पहले ही टोक्यो ओलंपिक खेलों के लिए कोटा हासिल कर चुके हैं। टोक्यो ओलंपिक इस साल 24 जुलाई से शुरू होंगे।

जीना खिट्टा का शानदार प्रदर्शन जारी, 10 मीटर एयर राइफल में जीता स्वर्ण पदक 

गुवाहाटी। हिमाचल प्रदेश की जीना खिट्टा ने 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा में शानदार फार्म जारी रखते हुए खेलो इंडिया युवा खेलों में 251.3 अंक के स्कोर से स्वर्ण पदक अपने नाम किया। पंजाब की जसमीन कौर और सिफ्ट कौर ने क्रमश: रजत और कांस्य पदक अपनी झोली में डाले। इसे भी पढ़ें : इंडोनेशिया मास्टर्स के पहले ही दौर में हारे श्रीकांत, सौरभ जीना ने राष्ट्रीय प्रतियोगिता में भी शानदार प्रदर्शन दिखाया था जिसमें उन्होंने स्टार निशानेबाज मेहुली घोष और अपूर्वी चंदेला को शिकस्त दी थी। अब उसकी निगाहें ओलंपिक पदक पर लगी हुई हैं। उन्होंने कहा मेरा सपना है कि मैं ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला निशानेबाज बनूं। इस साल मैं सीनियर आईएसएसएफ विश्व कप में भाग लेकर स्वर्ण पदक जीतने का लक्ष्य बनाये हूं।

टेटे : पायस, मुनमुन ने राष्ट्रीय स्कूल गेम्स में जीते स्वर्ण

वडोदरा। मौजूदा राष्ट्रीय चैम्पियन दिल्ली के टेबल टेनिस खिलाड़ी पायस जैन और पश्चिम बंगाल की मुनमुन कुंडू ने स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इंडिया की देखरेख में सामा इंडोर स्पोर्ट्स स्टेडियम में आयोजित यूटेटे 65वीं राष्ट्रीय स्कूल गेम्स टेबल टेनिस चैम्पियनशिप के यू-17 वर्ग में क्रमश: लड़के और लड़कियों का खिताब जीत लिया। इंडिया नम्बर-3 पायस ने जहां लड़कों के रोमांच से भरपूर फाइनल में पश्चिम बंगाल के अनिकेत सेन चौधरी को 12-10, 9-11, 12-10, 11-7 से हराया, वहीं मुनमुन ने दिल्ली की वंशिका भार्गव को एकतरफा मुकाबले में 11-7, 11-6, 11-4 से हराकर चैम्पियन बनने का गौरव हासिल किया। मुकाबले के बाद पायस ने कहा मैंने शुरुआत में कुछ गलतियां कीं। अनिकेत भी अच्छा खेल रहे थे। पहले सेट के बाद, मैं 8-10 से हार गया था। मैंने सोचा कि अब मैं आक्रामक होकर खेलूंगा और इसी बात ने मुझे मैच जीतने में मदद की। दिल्ली के लिए पायस के अलावा श्रेयांश गोयल और तिशा कोहली ने भी यू-19 वर्ग में सोना जीता। तिशा ने लड़कियों के फाइनल में महाराष्ट्र की विधि शाह को 11-6, 8-11, 11-9, 12-10 से हराया। इसे भी पढ़ें : विराट टेस्ट में नंबर वन, लाबुशेन की लंबी छलांग अदिति सिन्हा, तेजल काम्बवे, विधी की महाराष्ट्र… Continue reading टेटे : पायस, मुनमुन ने राष्ट्रीय स्कूल गेम्स में जीते स्वर्ण

और लोड करें