बूढ़ा पहाड़
बिहार में शराबबंदी और रहस्यमय मौतें

बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपनी जिद में जब से शराबबंदी की है तब से रहस्यमय मौतों की संख्या में बड़ी बढ़ोतरी हो गई है।

बिहार में मौतों का तांडव! 3 दिन में 32 की संदिग्ध मौत, लोग कह रहे जहरीली शराब बनी कारण

बिहार के कई जिलों में होली के मौके पर पिछले 3 दिनों में संदिग्ध परिस्थितियों में 32 लोगों की मौत होने से हाहाकार मचा हुआ है। इसके अलावा भागलपुर और बांका में एक-एक व्यक्ति की आंखों की रोशनी छिन गई है।

उमा भारती ने शराब दुकान में की तोड़ फोड़

एक शराब दुकान पर अपने समर्थकों के साथ पहुंचकर शराब का उग्र विरोध किया और उन्होंने एक पत्थर भी दुकान में दे मारा।

Bihar में फिर जहरीली शराब का कहर! 3 लोगों की मौत, गांव में दहशत

सीवान जिले में 3 लोगों की मौत हो गई है। जिसका कारण जहरीली शराब हो बताया जा रहा है। इस घटना के बाद से पूरे गांव में दहशत का माहौल है।

नीतीश शराबबंदी को लेकर महिलाओं का टटोलेंगे मन!

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार फिर से एक यात्रा पर निकलने वाले हैं। संभवत: पंचायत चुनाव के बाद मुख्यमंत्री राज्य के सभी जिलों का दौरा करेंगे और विकास कार्यों का जायजा लेंगे।

बिहार में आज सरकारी कर्मचारी से लेकर पुलिस अधिकारी तक लेंगे शराब नहीं पीने की शपथ

पटना के ज्ञान भवन में नशामुक्ति दिवस के दिन बिहार में शराब नहीं पीने को लेकर शपथग्रहण कार्यक्रम रखा गया है।

शराबबंदी पर सख्ती मतलब वसूली बढ़ाना

बिहार में जहरीली शराब पीकर दर्जनों लोग मरे हैं। त्योहारों के बीच ये मौतें हुई हैं। समूचे बिहार में गली गली में शराब बिक रही है।

नीतीश कुमार की शराबबंदी!

मुख्यमंत्री ने शराबबंदी पर फिर से अभियान शुरू किए जाने पर जोर दिया और कहा कि लोगों को फिर से बताना होगा कि यह बहुत गंदी चीज है।

कानून को शराब की पटकनी

बिहार में जहरीली शराब पीकर मरने वालों की खबर दिल दहलाने वाली थी। जिस प्रांत में पूर्ण शराबबंदी हो, उसमें दर्जनों लोग शराबपान के चलते मर जाएं और सैकड़ों लोग अधमरे हो जाएं, इसका अर्थ क्या निकला?

और लोड करें