Republican Party

तो जो बाइडेन क्या करें?

राष्ट्रपति की मंशा समाज में गुस्से को बढ़ाने के बजाय सबको साथ लेकर चलने की है। इसलिए वे टकराव के बजाय समझौते का रुख अपनाए हुए हैं। मगर इससे रिपब्लिकन पार्टी पर कोई फर्क पड़ रहा है, अगर इसका...

बाइडेन के अच्छे, भले सौ दिन!

पृथ्वी के साढ़े सात अरब लोगों की सांस दो संकटों में अटकी है। एक, कोविड-19 के विषाणुओं से। दूसरे, तानाशाह-नीच प्रवृत्ति के उन नेताओं से जो वायरस से अपनी सत्ता और साम्राज्यवादी मंसूबों का मौका मानते हैं। चीन और...

क्या होगा सोशल मीडिया का?

फेसबुक, ट्विटर और गूगल को राहत नहीं मिल रही है। कुछ महीने पहले अमेरिकी प्रतिनिधि सभा में उनके मुख्य कार्यकारी अधिकारियों को पेश होना पड़ा था। तब ये डेमोक्रेटिक पार्टी के निशाने पर थे।

देश, कौम का जिंदा होना क्या?

इसे जानना हो तो दुनिया पर गौर करें। एक अमेरिका है और दूसरा भारत! एक अमेरिका है और उसके आगे रूस या चीन हैं। क्या फर्क बूझ पड़ता है? फर्क यह कि अकेले अमेरिका जिंदा और जिंदादिल देश है।
- Advertisement -spot_img

Latest News

COVID-19 Update: देश में 24 घंटे में सामने आए 81 हजार के करीब नए संक्रमित, 3303 मरीजों ने तोड़ा दम, इन राज्यों में भी...

नई दिल्ली | देश में कोरोना संक्रमितों (COVID-19) की गिरती संख्या से बढ़ी राहत मिली है। देश में पिछले...
- Advertisement -spot_img