2023 के बाद ‘कमलनाथ’ दिल्ली शिफ्ट हो जाएंगे..

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ का नया धमाका.. बोले हमारे नेताओं ने कहा कि आप दिल्ली शिफ्ट हो जाइए….मैंने कहा  मैं नहीं शिफ्ट होउंगा

दिग्विजय किसके लिए फायदेमंद क्यों हानिकारक…

दिग्विजय सिंह का मतलब संघ के आंख की किरकिरी, जिसकी राजनीति में सक्रिय मौजूदगी पर भाजपा नए सिरे से नफा नुकसान का आकलन करने को मजबूर हुआ.

क्रॉस वोटिंग: नाथ कांग्रेस में बवाल से नया सवाल….!

उमंग ने जताई थी चिंता, अनजान नहीं थे कमलनाथ.. अब मुकेश की सख्त मांग

जोर का झटका धीरे से.. भाजपा के क्षत्रप धराशाई क्यों…

2023 विधानसभा चुनाव में जोर-शोर से जुट चुकी भाजपा को आखिर क्यों मध्य प्रदेश के नगरीय निकाय चुनाव में भाजपा को जोर का झटका धीरे से लगा

चिंता आदिवासी की ब्रांडिंग नमो-शिवाय की…

देश के साथ मध्य प्रदेश में ओबीसी यदि राजनीति की धुरी बना हुआ तो दलित के साथ आदिवासी को लुभाने की होड़ से इनकार नहीं किया जा सकता..

कमलनाथ बचाएंगे कांग्रेस या उद्धव सरकार…!

उद्धव सरकार बचाने के लिए सोनिया ने संकटमोचक कमलनाथ को बनाया पर्यवेक्षक

‘सजग’ शिवराज की सोच पर ‘सख्त’ विष्णुदत्त की मोहर…

अपराधिक प्रवृत्ति के उम्मीदवारों से भाजपा ने अंततः पल्ला झाड़ लिया है.. फिलहाल निकाय चुनाव के लिए संदेश बड़ा

कसौटी पर भाजपा की बूथ विस्तारक योजना

भाजपा इस व्यवस्था और खास तौर से जवाब दे कार्यकर्ता की दम पर जीत की गारंटी मानकर आगे बढ़ रही और जिन विधानसभा सीटों पर कांग्रेस का कब्जा है..

‘कसौटी’ पर  बूथ विस्तार, गांव में नहीं ‘परिवारवाद’…!

कमलनाथ कांग्रेस द्वारा नगर निगम के महापौर उम्मीदवार घोषित किए जाने के बाद सबकी नजर दावेदारों के बीच कड़ी मशक्कत और भाजपा के अधिकृत उम्मीदवार के एलान का

साध्वी का संकल्प: सियासत और सवाल…

ओरछा में शिवराज के साथ उमा ने दिए अब कदमताल के संकेत I अयोध्या आंदोलन के दौरान जिसके तीखे तेवर और आक्रामक अंदाज ने कभी साध्वी उमा भारती को एक पहचान दी थी..

‘समय’ आ गया या फिर नाथ को ‘अभय दान’…!

कांग्रेस हाईकमान का कमलनाथ को अभय दान .. यानी मध्य प्रदेश को लेकर कांग्रेस के नाथ को फ्री हैंड पहले ही मिल चुका है

मिशन 23 के लिए ‘टर्निंग प्वाइंट’  पचमढ़ी मंथन

संबंधों की सियासत, योजनाओं की रीपैकेजिंग, रीलॉन्चिंग जिताएगी चुनाव

भाजपा में ‘पीढ़ी बदल’ भगत की संघ वापसी

भाजपा में करीब डेढ़ दशक बाद नई पीढ़ी का निर्माण और नए चेहरों को स्थापित करने का बड़ा काम कर संगठन महामंत्री सुहास भगत की सम्मानजनक संघ वापसी सुनिश्चित हो गई

क्या कांग्रेस की कमान संभालेंगे कमलनाथ…!

सवाल पांच राज्यों के चुनाव परिणाम ने जब कांग्रेस को आत्ममंथन के लिए मजबूर कर दिया

महाराजा ‘झुकेगा’ मोदी और देश के लिए..

केंद्रीय मंत्री उन भारतीयों के बीच घुटने के बल बैठ कर बात कर रहे है जो महाराजा है.. हाई प्रोफाईल नेता लेकिन लो प्रोफाईल नजर आ रहे है।

और लोड करें