nayaindia IAF Aircraft Crash: एमपी- राजस्थान में भारतीय वायुसेना के तीन...
इंडिया ख़बर

एमपी- राजस्थान में भारतीय वायुसेना के तीन विमान क्रैश, तो क्या हवा में टकरा गए विमान?

ByNI Desk,
Share
Plane Crash
Twitter - ANI

मुरैना | IAF Aircraft Crash: शनिवार की सुबह भारतीय वायुसेना के लिए बेहद ही दुखद खबर लेकर आई वो भी दो अलग-अलग जगहों से। आज सुबह मध्य प्रदेश के मुरैना जिले के पास भारतीय वायुसेना के दो विमान सुखोई-30 और मिराज 2000 दुर्घटनाग्रस्त हो गए। इसके अलावा राजस्थान के भरतपुर जिले में भी एक चार्टर्ड विमान के क्रैश हो गया।

जानकारी के अनुसार, मध्य प्रदेश के मुरैना जिले में शनिवार सुबह एक सुखोई-30 और मिराज 2000 विमान और राजस्थान के भरतपुर में एक चार्टर्ड विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गए। दुर्घटनाग्रस्त होने की सूचना मिलते ही पुलिस और प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची और राहत बचाव कार्य शुरू किया गया। अभी दोनों ही जगहों से पायलट को लेकर पुख्ता जानकारी सामने नहीं आई है।

तो क्या आपस में टकरा गए दोनों जैट
एमपी के मुरैना में हुई विमान दुर्घटना को लेकर कहा जा रहा है कि ये हादसा दोनों फाइटर जेट के टकराने की वजह से हो सकता है, क्योंकि दोनों जैट विमान एक ही जगह पर क्रैश हुए हैं। ये हादसा हवा में दोनों फाइटर जेट के टकराने से हुआ है या नहीं, इसका पता लगाने के लिए इंडियन एयरफोर्स कोर्ट ऑफ इंक्वायरी शुरू कर दी गई है।

पायलटों को लेकर आ रही ये खबर
अभी तक की जानकारी के मुताबकि, हादसे के समय सुखोई-300 में 2 जबकि मिराज 2000 में एक पायलट सवार था। शुरुआती रिपोर्ट के मुताबिक, दोनों पायलट सुरक्षित हैं जबकि तीसरे पायलट के लिए रेस्क्यू किया जा रहा है।

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने मांगी घटना की जानकारी
भारतीय वायुसेना के एक साथ तीन विमानों के क्रैश होने की दघना के बाद रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने सीडीयस जनरल अनिल चौहान से हादसे की पूरी जानकारी मांगी है।

IAF Aircraft Crash:  वहीं दूसरी ओर राजस्थान में हुए विमान हादसे को लेकर भरतपुर के डीएम आलोक रंजन ने घटना की जानकाबताया जा रहा है कि, फाइटर जेट के क्रैश होते ही वह टुकड़ों में तब्दील हो गया और धमाके के साथ उसमें आग लग गई। गनीमत ये रही कि यह फाइटर जेट एक गांव के पास खाली पड़े खेत में क्रैश हुआ है। अगर किसी आबादी क्षेत्र में क्रैश हो जाता तो और भी बड़ा हो सकता था। पुलिस और प्रशासन की टीमें मौके पर हैं और राहत-बचाव कार्य जारी है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

    Naya India स्क्रॉल करें