Naya India

मधुमेह संबंधी आंख व गुर्दे की बीमारी की जटिलताओं को रोक सकती है नई दवा

Diabetic Eye :- एक नए अध्ययन से पता चला है कि एक नई प्रकार की अवरोधक दवा मधुमेह से पीड़ित लोगों में माइक्रोवस्कुलर मधुमेह संबंधी जटिलताओं, जैसे मधुमेह संबंधी आंख और गुर्दे की बीमारी को रोकने में मदद कर सकती है। गौरतलब कि मधुमेह, अनियंत्रित रक्त शर्करा के स्तर की विशेषता वाली बीमारी है। एक अनुमान के मुताब‍िक यह वैश्विक स्तर पर हर 11 व्यक्तियों में से एक को प्रभावित करती है। इलाज होने पर भी, यह बीमारी शरीर की छोटी रक्त धमनियों, जिन्हें माइक्रोवैस्कुलचर के रूप में जाना जाता है, को प्रभावित करके जीवन-परिवर्तनकारी परिणाम पैदा कर सकती है। उन लोगों के लिए उपचार उपलब्ध है, जो मधुमेह संबंधी आंख और गुर्दे की बीमारी जैसी सूक्ष्मवाहिका संबंधी जटिलताओं को विकसित करते हैं, ये उपचार प्रगति में देरी नहीं करते हैं।

कार्डियोवास्कुलर डायबेटोलॉजी जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में कहा गया है कि अंततः इनके परिणामस्वरूप रोगियों में अंधापन और गुर्दे की विफलता हो सकती है। शोध दल की रुचि सभी रक्त वाहिकाओं की सुरक्षात्मक परत में थी, जिसे ग्लाइकोकैलिक्स कहा जाता है। मधुमेह में यह परत क्षतिग्रस्त मानी जाती है। दो माउस मॉडल में, शोधकर्ताओं ने दिखाया कि इस सुरक्षात्मक परत को होने वाले नुकसान को रोककर, मधुमेह संबंधी आंख और गुर्दे की बीमारी के विकास को रोका जा सकता है। यूके स्थित ब्रिस्टल मेडिकल स्कूल: ट्रांसलेशनल हेल्थ साइंसेज (टीएचएस), और अध्ययन के वरिष्ठ लेखक एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. रेबेका फोस्टर ने कहा, “हमारे निष्कर्ष रोमांचक हैं, क्योंकि हमने दिखाया है कि एक प्रकार की दवा मधुमेह की जटिलताओं को रोकने में सक्षम हो सकती है, जो मधुमेह से पीड़ित वयस्कों के लिए एक वैश्विक स्वास्थ्य समस्या है।

अध्ययन के अनुसार, यह ‘हेपरानेज़ इनहिबिटर’ का उपयोग करके हासिल किया गया था। हेपरानेज कैंची की तरह काम करता है, ग्लाइकोकैलिक्स स्तर को नुकसान पहुँचाता है। हेपरानेज़ अवरोधक इस क्षति को होने से रोकते हैं। अध्ययन में कहा गया है कि शोधकर्ताओं ने इन दवाओं का एक नया वर्ग विकसित किया है, जिसे मरीजों के इलाज के लिए दवा के रूप में सफलतापूर्वक विकसित किया जा सकता है। हम वर्तमान में नैदानिक ​​उपयोग के लिए अवरोधकों के अपने नए वर्ग को आगे बढ़ाने के लिए अनुसंधान कर रहे हैं। ब्रिस्टल मेडिकल स्कूल (टीएचएस) में रिसर्च एसोसिएट और संबंधित लेखिका डॉ. मोनिका गेमेज़ ने कहा, “वर्तमान में वैश्विक वयस्क आबादी का 8 प्रतिशत से अधिक मधुमेह से पीड़ित है, हमें उम्मीद है कि मरीज़ भविष्य में हमारे निष्कर्षों से लाभान्वित हो सकते हैं। (आईएएनएस)

Exit mobile version