nayaindia National Herald probe सोनिया, राहुल को ईडी का झटका
Trending

सोनिया, राहुल को ईडी का झटका

ByNI Desk,
Share

नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी ने नेशनल हेराल्ड मामले में पिछले साल सोनिया और राहुल गांधी से पूछताछ के बाद चुप्पी साध रखी थी। लेकिन अब अचानक ईडी ने सोनिया और राहुल गांधी सहित पूरी कांग्रेस पार्टी को बड़ा झटका दिया है। ईडी ने मंगलवार को नेशनल हेराल्ड मामले में यंग इंडियन की 751.9 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त कर ली  है। इस कंपनी में सोनिया व राहुल गांधी की 76 फीसदी हिस्सेदारी है। यंग इंडिया के खिलाफ धन शोधन के मामले में यह कार्रवाई की गई है।

ईडी द्वारा जब्त की गई संपत्तियों की सूची में दिल्ली में नेशनल हेराल्ड का ऑफिस, लखनऊ में नेहरू भवन और मुंबई में नेशनल हेराल्ड हाउस शामिल है। इस कार्रवाई की जानकारी देते हुए ईडी ने ट्विट में कहा- ईडी ने पीएमएलए, 2002 के तहत जांच किए गए धन शोधन के मामले में 751.9 करोड़ रुपए की संपत्तियों को अस्थायी रूप से संलग्न करने का आदेश जारी किया है।

ईडी की इस कार्रवाई का आलोचना करते हुए कांग्रेस नेता अभिषेक सिंधवी ने कहा- ईडी द्वारा एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड यानी एजेएल की संपत्तियों की कुर्की की खबरें प्रदेशों में चल रहे चुनावों में निश्चित हार से ध्यान हटाने की उनकी हताशा को दिखाती हैं। गौरतलब है कि कांग्रेस ने हमेशा से केंद्र पर राजनीतिक बदले के लिए केंद्रीय जांच एजेंसियों का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया है। कांग्रेस का कहना है कि धन शोध या किसी वित्तीय लेन-देन का कोई सबूत नहीं है। इस मामले में यंग इंडियन प्राइवेट लिमिटेड द्वारा समाचार पत्र चलाने वाली एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड के अधिग्रहण में धोखाधड़ी, साजिश और आपराधिक विश्वासघात के आरोप शामिल हैं।

गौरतलब है कि इस मामले में ईडी तीन अगस्त 2022 को दिल्ली की हेराल्ड बिल्डिंग में स्थित यंग इंडियन कंपनी का ऑफिस सील कर दिया था। दो और तीन अगस्त को ईडी की टीम ने सुबह से देर शाम तक नेशनल हेराल्ड के दिल्ली, मुंबई और कोलकाता समेत 16 ठिकानों पर छापेमारी की थी। इस कार्रवाई से पहले 21 जुलाई 2022 को नेशनल हेराल्ड केस में सोनिया गांधी से तीन दिन में 12 घंटे पूछताछ हुई थी। उससे पहले ईडी ने राहुल गांधी से जून में पांच दिनों में 50 घंटे से ज्यादा समय तक पूछताछ की थी।

बहरहाल, नेशनल हेराल्ड केस का मामला सबसे पहले भाजपा नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी ने 2012 में उठाया था। अगस्त 2014 में ईडी ने इस मामले में स्वत: संज्ञान लेते हुए धन शोधन का केस दर्ज किया। केस में सोनिया गांधी, राहुल गांधी और कांग्रेस के मोतीलाल वोरा, ऑस्कर फर्नांडीज, सैम पित्रोदा और सुमन दुबे को आरोपी बनाया गया था। इनमें से मोतीलाल वोरा और ऑस्कर फर्नांडीज का निधन हो चुका है। पांच राज्यों मे चल रहे चुनाव के बीच ईडी की उस कार्रवाई के बड़े राजनीतिक मायने निकाले जा रहे हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें