इस देश में महामारी से पहले से ही लोग पहनते है मास्क, आइये जानते है भारत के बाहर होने वाली कुछ अजीबो-गरीब चीजों के बारे में..

दुनिया में कुछ ऐसी अजीबो-गरीब चीजे होती है जिनसे हम बेखबर होते है। भारत में कुछ ऐसी चीजें है जिनमें से कुछ को तो हम जानते है औक कुछ चीजो से हम बेखबर है। जहां हन रह रहे होते है वहां की चीजे हमें ज्यादा खास नहीं लगती है। अपने देश से बाहर की घटनाओं से हम ज्यादा प्रभावित होते है। हमारे आम जीवनशैली में कुछ ऐसे वाकये होते हैं, जिन्हें अमूमन नहीं देखा जाता। हालांकि कुछ देशों में ऐसी आम बातें हैं, जिसके बारे में जानने के बाद भारत के लोग भौचक्के भी हो जाएंगे। चलिए हम आपको ऐसे की कुछ अजीबोगरीब वाकये के बारे में बताते हैं.. इसे भी पढ़ें Delhi High Court :  गिड़गिड़ाइए, उधार लीजिए या चुराकर लाइए लेकिन कहीं से भी ऑक्सीजन लेकर आइए… रूस में रखने होते है दो पासपोर्ट भारत में एक ही पासपोर्ट पर लगभग सारे काम हो जाते हैं।  यदि घरेलू उड़ान भर रहे हैं तो उसके लिए कोई पासपोर्ट की जरूरत नहीं होती है। लेकिन विदेश जाना हो तो पासपोर्ट होना बेहद जरूरी है। लेकिन रूस में घरेलू यात्रा के लिए अलग और विदेश जाने के लिए दूसरा पासपोर्ट रखना होता है।   इस देश में नहीं होते गलियों के नाम… Continue reading इस देश में महामारी से पहले से ही लोग पहनते है मास्क, आइये जानते है भारत के बाहर होने वाली कुछ अजीबो-गरीब चीजों के बारे में..

कोरोना की चपेट में आये सोनू सूद, घर पर ही हुए क्वारंनटीन

कोरोना काल में मजदूरों के मसीहा और मायनगरी के सितारे सोनू सूद कोरोना संक्रमित पाये गए है. इस बात की जानकारी सोनु सूद ने ट्वीट कर बताई. सोनु सूद ने खुद को घर में क्वारंनटीन कर लिया है. कोरोना का कोई धर्म नहीं है इसलिए कोरोना सभी पर अपना कहर बरसा रहा है.गरीब,अमीर सभी कोरोना से संक्रमित हो रहे है.सरकार ने सभी को मास्क और सामाजिक दूरी का पालन करने के निर्देश दिए है. राजस्थान, दिल्ली, मध्यप्रदेश ,उतरप्रदेश में कोरोना के हालात बेकाबू होते जा रहे है. लगभग सभी राज्यों की सरकारों ने नाइट कर्फ्यु का ऐलान कर दिया है. दिल्ली और राजस्थान की सरकार ने वीकेंड लॉकडाउन लगा दिया है.सरकार ने कहा है कि स्थित नियंत्रण में नहीं आई तो संपूर्ण लॉकडाउन लग सकता है. सरकार ने जनता से सतर्क रहने की अपील की है. इसे भी पढ़ें Report :  देश में नहीं उठाए गये सख्त कदम तो जून तक प्रतिदिन होगी 2,320 मौतें सोनू सूद ने ट्वीट कर बताया सोनू सूद ने ट्वीट में लिखा मैं सभी को बताना चाहता हूं कि आज सुबह मेरा कोविड टेस्ट पॉजिटिव आया है. मैंने सावधानी के साथ खुद को क्वारनटीन कर लिया है और अपना ख्याल रख रहा हूं. लेकिन चिंता मत… Continue reading कोरोना की चपेट में आये सोनू सूद, घर पर ही हुए क्वारंनटीन

दाम घटने से विदेशों में बढ़ी भारतीय प्याज की मांग

प्याज की महंगाई से पिछले महीने तक देश के उपभोक्ता परेशान थे, लेकिन अब रबी सीजन की फसल की आवक बढ़ने पर दाम में भारी गिरावट आई है। दाम घटने से विदेशों में भारतीय प्याज की मांग बढ़ गई है।

विदेश दौरे पर रवाना हुए राहुल गांधी

पार्टी के स्थापना दिवस से ठीक एक दिन पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी व्यक्तिगत यात्रा पर विदेश चले गए हैं। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इस बात की पुष्टि की है।

मेरी परवरिश पारंपरिक और आधुनिक : प्रियंका

देश और विदेश में मशहूर बॉलीवुड अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा जोनस का कहना है कि उनके व्यक्तित्व को आकार देने में उनकी परवरिश की भूमिका अहम है।

फंसे भारतीयों के लिए उड़ाने बढ़ेगी

कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से दुनिया के अलग अलग देशों में फंसे अपने नागरिकों को वापस लाने के लिए वंदे भारत मिशन का चौथा चरण तीन जुलाई से शुरू होगा।

वंदे भारत मिशन में अब तक 1.4 लाख भारतीय लौटे

लॉकडाउन के कारण विदेशों में फंसे भारतीयों को स्वदेश लाने के लिए वंदेभारत मिशन के अंतर्गत अब तक साढ़े चार सौ से अधिक उड़ानों से एक लाख सात हजार से अधिक लोग

विदेशों से भारतीयों की घर-वापसी

विदेशों में काम करनेवाले लाखों भारतीयों को भारत लाने का बीड़ा अब भारत सरकार ने उठाया है। यह स्वागत योग्य कदम है। भारतीयों की यह घरवापसी शायद इतिहास की बेजोड़ घटना होगी।

किस दबाव में लाए जा रहे हैं प्रवासी?

भारत सरकार ने दुनिया भर में फंसे प्रवासियों को समझा दिया था कि इस समय सरकार उनको निकाल कर लाने की स्थिति में नहीं है।

विदेश से इसी हफ्ते वापस आएंगे भारतीय

केंद्र सरकार ने दुनिया के दूसरे देशों में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए दिशा-निर्देश और मानक संचालन प्रक्रिया जारी कर दी है। सरकार इसी हफ्ते प्रवासी भारतीयों को विशेष विमानों के जरिए निकालेगी।

विदेश से वापस लाए जाएंगे भारतीय

कोरोना वायरस के दुनिया भर में बढ़ते संक्रमण के बीच भारत सरकार दुनिया के दूसरे देशों में फंसे भारतीयों को वापस लाने जा रही है। सरकार ने कहा है कि विदेश में फंसे लोगों को सात मई से चरणबद्ध तरीके से वापस लाया जाएगा।

विदेश से निकाले जाएंगे भारतीय नागरिक

दुनिया भर के देशों में भारतीय दूतावास ने उन भारतीय नागरिकों से संपर्क करना शुरू कर दिया है जो कोरोना वायरस महामारी की वजह से लागू लॉकडाउन के बाद घर वापस लौटना चाहते हैं।

प्रवासियों की ऐसी उपेक्षा क्यों?

सबसे पहले कुछ तथ्यों को देखते हैं, उससे अंदाजा होगा कि दुनिया के देश अपने प्रवासियों के बारे में क्या सोचते हैं, उनके साथ कैसा बरताव करते हैं और संकट के समय उनकी कैसे मदद करते हैं।

चीन में फिर बढ़ रहे हैं कोविड-19 के मामले

चीन में कोरोना वायरस के 46 नए मामलों में से 10 स्थानीय संक्रमण से जुड़े हैं।

सर, ये आपकी लापरवाही है!

केंद्र सरकार को अब ख्याल आया है कि 18 जनवरी के बाद देश में 15 लाख लोग विदेश से आए, जिनमें सबकी निगरानी नहीं हो पा रही है। सवाल है कि इस निगरानी को सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी किसकी थी? कोरोना वायरस फैल रहा है, ये चर्चा तब शुरू हो चुकी थी। इसके बावजूद विदेश से आने वाले यात्रियों के बारे में कोई स्पष्ट निर्देश जारी नहीं किए गए, तो इसके लिए उन लोगों या राज्य सरकारों को दोषी नहीं ठहाराय जा सकता। लेकिन अब केंद्र सरकार ऐसा ही करती दिख रही है। आशंका तो यह है कि आगे चल कर उनमें से कुछ पर महामारी कानून के तहत मामला दर्ज कर लिया जाए। लेकिन सच्चाई यह है कि 16 मार्च तक केंद्र ने सभी देशों से आने वाले यात्रियों को एकांत में रखने का निर्देश जारी नहीं किया था। ये सूची धीरे-धीरे बढ़ाई गई। फिर यह भी गौरतलब है कि यात्री तभी हवाई अड्डों से आगे गए, जब उनके इमिग्रेशन की प्रक्रिया पूरी हुई। क्या इसके बाद किसी यात्री की जिम्मेदारी रह जाती है कि वह खुद एकांत में जाए? मगर अब कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने राज्यों के मुख्य सचिवों को पत्र लिखकर विदेश से भारत आए यात्रियों… Continue reading सर, ये आपकी लापरवाही है!

और लोड करें