5 लाख से अधिक किसानों को लाभ देने के लिए युद्धस्तर पर काम, 25 अक्टूबर के बाद गन्ना पेराई शुरू

यूपी में गन्ना पेराई शुरु हो रही है जिस के लिए चीनी मिलें नए सिरे से तैयार होना शुरू हो गई हैं। किसानों को लाभान्वित करने के लिए चीनी मिलों के विस्‍तार का काम युद्धस्‍तर पर किया जा रहा है।

रॉबर्ट वाड्रा ने प्रियंका गांधी की सुरक्षा पर जताई चिंता, कहा- वो किसी से डरने वाली नहीं…

प्रियंका गांधी ने भी पत्रकारों से बातचीत करते हुए पुलिस पर बदसलूकी के आरोप लगाए थे. प्रियंका गांधी ने कहा था उन्हें धक्के मार कर जीप के अंदर बैठाया…

लखीमपुर खीरी जाने के लिए पंजाब के सीएम चन्नी ने मांगी अनुमति, लिखा यूपी सरकार को पत्र

पंजाब नागरिक उड्डयन विभाग ने आज उत्तर प्रदेश सरकार को पत्र लिखा है. इस पत्र के लिखे जाने का कारण पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के हेलीकॉप्टर को…

कानून भले लागू न हो, रद्द नहीं करेंगे!

क्या किसी सभ्य समाज में इस बात की कल्पना की जा सकती है कि कोई सरकार अपने नागरिकों से इस किस्म की लड़ाई में उलझे? भारत सरकार अपने नागरिकों से ऐसी लड़ाई में उलझी है, जिससे सबका नुकसान हो रहा है।…

किसान विरोधी माहौल को और तेज किया जा रहा!

हमारा मध्यम वर्ग बड़ा पाखंडी है। सात साल पहले तक या दो साल पहले तक भी कई मामलों में यह अपने विचार कुछ और बताता था लेकिन आज ज्यादा मुखर होकर कुछ और।

जी भर कर खा लें प्याज, आने वाले 3 महीने काटने में ही नहीं खरीदनें में भी आने वाले हैं आंसू…

प्याज विक्रेताओं का मानना है कि इस साल भी सितंबर से लेकर नवंबर तक प्याज के दाम काफी बढ़ जाएंगे. जानकारों का मानना है कि मानसून में देरी के कारण…

लाठी चार्ज के बाद

इससे टकराव का माहौल और गहरा गया है। लेकिन यह भी साफ है कि भाजपा ऐसे टकराव की फिक्र नहीं करती।

किसानों ने दी चेतावनी, छह सितंबर तक का समय दिया

हरियाणा के करनाल में किसानों पर हुए लाठीचार्ज के खिलाफ किसानों ने सोमवार को घरौंडा अनाज मंडी में बड़ी पंचायत की।

किसान आंदोलन: खट्टर और कैप्टेन आमने-सामने

हरियाणा के करनाल में किसानों पर पुलिस के लाठी चलाने की घटना को लेकर हरियाण और पंजाब के मुख्यमंत्री आमने सामने आ गए हैं।

INSO के स्थापना दिवस पर हरियाणा के रोहतक में किसानों ने किया विरोध प्रदर्शन, ट्रैक्टरों से लगाए बैरिकेड्स

सत्तारूढ़ जजपा की छात्र इकाई इंडियन नेशनल स्टूडेंट्स ऑर्गनाइजेशन (INSO) के यहां गुरुवार को स्थापना दिवस समारोह मनाया गया। इस  दौरान किसानों के एक समूह ने विरोध प्रदर्शन किया। स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए पुलिस के लिए कठिन समय था क्योंकि ट्रैक्टर पर सवार किसानों ने कार्यक्रम स्थल के पास लगाए गए बैरिकेड्स को धक्का दे दिया।

महंगाई के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन

farmers protest against inflation : चंडीगढ़/नई दिल्ली। केंद्र सरकार के बनाए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ सात महीने से ज्यादा समय से आंदोलन कर रहे किसानों ने गुरुवार को महंगाई के खिलाफ प्रदर्शन किया। पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस के दामों में बढ़ोतरी और दूसरी चीजों की बढ़ती कीमतों के खिलाफ दिल्ली की सीमा से लेकर पंजाब और हरियाणा में कई जगह किसानों ने प्रदर्शन किया। किसान आंदोलन का नेतृत्व कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा ने इस प्रदर्शन का ऐलान किया था। संयुक्त किसान मोर्चा की अपील पर किसानों ने सुबह 10 बजे से दोपहर 12 बजे तक प्रदर्शन का किया। प्रदर्शनकारियों ने अपने ट्रैक्टर और दूसरी गाड़ियों को सड़क के किनारे खड़ा कर दिया और पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस की बढ़ती कीमतों को लेकर केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। कई जगहों पर विरोध के लिए किसान एलपीजी के खाली सिलिंडर भी लेकर पहुंचे थे। कुछ जगहों पर किसान बैलगाड़ी और ऊंटगाड़ी से आंदोलन में पहुंचे। आंदोलनकारी किसानों ने 12 बजे कुछ मिनटों के लिए अपनी गाड़ियों के हॉर्न बजाए और कहा कि यह सरकार को नींद से जगाने के लिए किया गया है। पंजाब और हरियाणा में कई जगह प्रदर्शन कर रहे किसानों ने जरूरी वस्तुओं की… Continue reading महंगाई के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन

यूपी में किसान वोट बांटने का खेल

UP Farmers Vote | उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले किसानों का वोट बांटने का खेल शुरू हो गया है। कहने की जरूरत नहीं है कि इस खेल के पीछे कौन है लेकिन एक तीर से दो शिकार करने का प्रयास हो रहा है। इसमें कितनी सफलता मिलेगी, यह नहीं कहा जा सकता है लेकिन प्रयास गंभीरता से हो रहा है। तभी शेखर दीक्षित की अध्यक्षता में एक राष्ट्रीय किसान मंच बनाया गया है। एक ब्राह्मण का किसान राजनीति करना मामूली बात नहीं है। ध्यान रहे इस समय किसान केंद्र व राज्य सरकार दोनों से नाराज हैं तो ब्राह्मण उत्तर प्रदेश सरकार से नाराज हैं। इस दोनों की नाराजगी को आवाज देगा राष्ट्रीय किसान मंच। भागवत का डीएनए बयान गलत, जगद्गुरू राम भद्राचार्य ने की आलोचना इस मंच ने अपना काम शुरू भी कर दिया है। शेखर दीक्षित ने ऐलान किया है कि अगले कुछ दिन में संगठन में एक करोड़ सदस्य जोड़े जाएंगे। उन्होंने यह भी ऐलान किया है कि ये मंच राजनीतिक होगा और इसके सदस्य चुनाव लड़ेंगे। उनका कहना है कि जब तक किसान के प्रतिनिधि खुद संसद और विधानसभाओं में नहीं पहुंचेंगे तब तक किसानों की बात नहीं सुनी जाएगी। उन्होंने भाजपा को भी निशाना… Continue reading यूपी में किसान वोट बांटने का खेल

किसान इमरजेंसी का विरोध क्यों कर रहे हैं?

केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में करीब सात महीने से आंदोलन कर रहे किसान 26 जून को इमरजेंसी की बरसी के मौके पर देश भर में विरोध प्रदर्शन करेंगे। कांग्रेस पार्टी के नेता इससे परेशान हुए हैं। उनको लग रहा है कि उन्होंने किसानों के आंदोलन का समर्थन किया और अब किसान कांग्रेस को ही शर्मिंदा करने का काम कर रहे हैं। सवाल है कि किसान क्यों ऐसा कर रहे हैं? क्या संयुक्त किसान मोर्चा में राकेश टिकैत, गुरनाम सिंह चढूनी और योगेंद्र यादव के बीच सब कुछ ठीक नहीं है और उनके आपसी विवाद की वजह से ऐसा हो रहा है? या केंद्र सरकार किसानों से बातचीत की पहल करने जा रही है और सरकार के साथ किसी किस्म की सहमति बनी है, जिसके बाद किसान कांग्रेस को शर्मिंदा करने वाला काम कर रहे हैं? यह भी पढ़ें: कांग्रेस ने अपना नुकसान किया देर-सबेर इसका पता चल जाएगा कि किसान क्यों ऐसा कर रहे हैं लेकिन बड़ा सवाल यह है कि अगर किसानों की मंशा कांग्रेस को शर्मिंदा करने की है तो उन्होंने जून के पहले हफ्ते में ऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी पर प्रदर्शन क्यों नहीं किया? ध्यान रहे आंदोलन कर रहे किसानों में ज्यादातर पंजाब और हरियाणा… Continue reading किसान इमरजेंसी का विरोध क्यों कर रहे हैं?

इमरजेंसी विरोधी दिवस मनाएंगे किसान नेता

चंडीगढ़। केंद्र सरकार के बनाए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ करीब सात महीने से आंदोलन कर रहे किसानों ने 26 जून को इमरजेंसी विरोधी दिवस मनाने का ऐलान किया है। आंदोलन का नेतृत्व कर रहे संयुक्त किसान मोर्चे की इस घोषणा से कांग्रेस पार्टी के नेता खासे खफा और निराश हुए हैं। गौरतलब है कि कांग्रेस पार्टी ने किसानों के इस आंदोलन का जम कर समर्थन किया है। भाजपा भी आरोप लगाती रही है कि आंदोलन कांग्रेस का खड़ा किया हुआ है। पर अब किसानों ने कांग्रेस के खिलाफ ही प्रदर्शन की योजना बनाई है। किसान आंदोलन को कांग्रेस का समर्थन होने के बावजूद संयुक्त किसान मोर्चा ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को तानाशाह शासक बताते हुए 26 जून को इमरजेंसी की बरसी पर पूरे देश में प्रदर्शन करने का ऐलान किया है। हालांकि इसको किसान आंदोलन के नेताओं की आपसी खींचतान का नतीजा भी बताया जा रहा है। यह भी कहा जा रहा है कि किसानों ने अपने आंदोलन को अराजनीतिक दिखाने के लिए यह पैंतरा चला है। इस बीच यह भी खबर है कि सरकार किसानों से बातचीत करके आंदोलन खत्म कराने का रास्ता निकालना चाहती है। बहरहाल, किसानों के इस ऐलान का हरियाणा के कांग्रेस नेताओं ने… Continue reading इमरजेंसी विरोधी दिवस मनाएंगे किसान नेता

Kisan Andolan: किसानों ने मनाया काला दिवस

नई दिल्ली। केंद्र सरकार के बनाए तीन कृषि कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों ने बुधवार को काला दिवस मनाया। बुधवार यानी 26 मई को किसान आंदोलन के छह महीने पूरे हुए। इस मौके पर किसानों ने काला दिवस मनाया और इस दौरान उन्होंने काले झंडे फहराए, सरकार विरोधी नारे लगाए, पुतले जलाए और प्रदर्शन किया। गाजीपुर में प्रदर्शन स्थल पर थोड़ी अराजकता भी हुई, जहां किसानों ने भारी संख्या में पुलिसकर्मियों की तैनाती के बीच प्रधानमंत्री का पुतला जलाया। इस दौरान हल्की झड़प हुई। काला दिवस मनाने के दौरान किसानों ने दिल्ली के तीन सीमा क्षेत्रों सिंघू, गाजीपुर और टिकरी पर काले झंडे लहराए और नेताओं के पुतले जलाए। दिल्ली पुलिस ने लोगों से कोरोना वायरस संक्रमण से हालात और लागू लॉकडाउन को देखते हुए इकट्ठा नहीं होने की अपील की थी। हालांकि इसके बावजूद बड़ी संख्या में लोग इकट्ठा हो गए थे। किसान नेताओं ने बताया कि प्रदर्शन की जगह पर ही नहीं, बल्कि हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश के गांवों में भी काले झंडे लगाए गए हैं। नेताओं ने कहा कि ग्रामीणों ने अपने घरों और गाड़ियों पर भी काले झंडे लगाए। भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने बुधवार की सुबह कहा था- हम… Continue reading Kisan Andolan: किसानों ने मनाया काला दिवस

और लोड करें