अबकी बार बच  गया पाकिस्तान

आज के दिन पाकिस्तान की सांस अधर में लटकी हुई थी। यदि पेरिस स्थित वित्तीय कार्रवाई टास्क फोर्स एफएटीएफ आज पाकिस्तान को उसकी भूरी सूची में से निकालकर काली सूची में डाल देती तो उसकी नय्या डूब जाती।

पाकिस्तान को चार महीने की मोहलत

आतंकवादी संगठनों को होने वाली फंडिंग रोकने के लिए पाकिस्तान को चार महीने की और मोहलत मिल गई है। पेरिस में स्थित संस्था फाइनेंशिएल एक्शन टास्क फोर्स, एफएटीएफ ने पाकिस्तान को फरवरी 2020 तक एक और समय सीमा दी है।

आतंकवाद रोकने में विफल पाकिस्तान ‘ग्रे सूची’ में कायम

पेरिस। पाकिस्तान को एक बार फिर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर झटका लगा है। वित्तीय कार्रवाई कार्य बल (एफटीएफ) ने पाकिस्तान को आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई करने में नाकाम रहने चेतावनी के साथ उसे ग्रे सूची में कायम रखा है। इसे भी पढ़ेः थरूर ने पाकिस्तान को दिखाया आईना आतंकवाद को मुहैया कराए जाने वाले धन की निगरानी करने वाली अंतरराष्ट्रीय निगरानी संस्था ने शुक्रवार को पाकिस्तान को ‘ग्रे सूची’ में कायम रखा। एफएटीएफ की पांच दिवसीय सभा के बाद यह फैसला लिया गया। एफएटीएफ ने इस बात का जिक्र किया कि पाकिस्तान को लश्कर ए तैयबा और जैश ए मोहम्मद जैसे आतंकी संगठनों पर नकेल कसने के लिए दी गई 27 सूत्री कार्य योजना में वह सिर्फ पांच का ही हल करने में सक्षम रहा। इसे भी पढ़ेः पाकिस्तान फरवरी तक संदिग्धों की सूची में उल्लेखनीय है भारत में सिलसिलेवार हमलों के लिए ये दोनों आतंकी संगठन जिम्मेदार रहे हैं। इस घटनाक्रम से नजदीकी तौर पर जुड़े एक अधिकारी ने कहा कि एक बार फिर से आमराय से यह फैसला लिया गया कि एफएटीएफ पाकिस्तान को ग्रे सूची में बनाए रखेगा और पाकिस्तान को यह चेतावनी दी कि यदि उसने कार्रवाई योजना का पूरी तरह से पालन नहीं किया और महत्वपूर्ण… Continue reading आतंकवाद रोकने में विफल पाकिस्तान ‘ग्रे सूची’ में कायम

पाकिस्तान फरवरी तक संदिग्धों की सूची में

फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स, एफएटीएफ ने पाकिस्तान की उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। खबरों के मुताबिक एफएटीएफ ने आतंकी फंडिंग और धनशोधन रोकने में नाकाम रहने को लेकर फरवरी 2020 तक पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में ही रखने का फैसला किया है।

एफएटीएफ में पाकिस्तान को नहीं मिला किसी देश का साथ

पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय आतंकी वित्तपोषण की निगरानी संस्था एफएटीएफ द्वारा कड़ी कार्रवाई के कगार पर है और उसे ‘डार्क ग्रे’ सूची में डाला जा सकता है, जो सुधरने की अंतिम चेतावनी है।

एफएटीएफ का पाकिस्तान पर भारी दबाव : डोभाल

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने कहा है कि पेरिस में चल रहे दो दिवसीय वित्तीय कार्रवाई कार्य बल की बैठक में पाकिस्तान पर भारी दबाव है।

पाकिस्तान पर आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई करने का दबाव : डोभाल

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने आज पाकिस्तान पर आरोप लगाया कि वह सोची समझी नीति के तहत आतंकवाद को पाल-पोस रहा है लेकिन अंतर्राष्ट्रीय संस्था वित्तीय कार्रवाई बल (एफएटीएफ) के घेरे में आने के बाद से उस पर आतंकवाद के खिलाफ कदम उठाने का दबाव बढ रहा है।

आतंक पर रोक के लिए एफएटीएफ-संरा के बीच सहयोग जरूरी

भारत ने आतंकियों और आतंकी समूहों को अन्य देशों द्वारा प्रत्यक्ष या परोक्ष वित्त पोषण की कड़ी निंदा की है

और लोड करें