संक्रमण में 21 फीसदी की कमी

एक हफ्ते में संक्रमण में 21 फीसदी की कमी जबकि मरने वालों की संख्या में नौ फीसदी की कमी।

कम हुई संक्रमितों की संख्या

संक्रमण से मरने वालों की संख्या में भी कमी। हालांकि एक्टिव केसेज में ज्यादा कमी नहीं हुई।

टेंशन के कारण  anti anxiety की गोलियों के कारण बढ़ रहा मेरा वजन – पारस छाबड़ा

उन्हें लीवर में संक्रमण है जिससे उनके शरीर में सूजन आ जाती है और वह चिंता-विरोधी गोलियां भी ले रहे हैं। जिससे उन्हें नींद आ रही है।

केरल से कहां गड़बड़ी हुई

केरल में कोरोना वायरस का संक्रमण बेकाबू हो गया है। पिछले पांच दिन से लगातार राज्य में 20 हजार से ज्यादा केस रोज आ रहे हैं। तीन दिन 22 हजार से ज्यादा केस आए और हर दिन औसतन सौ लोगों से ज्यादा की मौत हो रही है।

राहुल गांधी ने केरल के लोगों से कोविड दिशा निर्देशों का पालन करने की अपील की, कहा-संक्रमण के मामले बढ़ना…

केरल में कोरोना के बढ़ते मामले परेशानियों को बढ़ा रहे हैं. इसी संबंध में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों के बढ़ने पर चिंता व्यक्त की है. उऩ्होंने केरल में रहने वाले लोगों से अपील करते हुए कहा कि राज्य के लोगों से मैं अपील करता हूं कि वे कोरोना के संबंध में सावधानी बरतें साथ ही सुरक्षा उपायों और दिशा निर्देशों का पालन करें.

24 घंटे में सामने आए 41 हजार के करीब मरीज, 97.31 प्रतिशत रहा रिकवरी रेट

मंत्रालय ने बताया कि पिछले 24 घंटों में 1,365 मरीज संक्रमणमुक्त हुए हैं और शनिवार को 19,36,709 नमूनों की कोविड-19 संबंधी जांच की गयी.

टीका ही है बचाव

इस बीच राहत की कोई बात है, तो वो यही कि जो लोग संक्रमित हो रहे हैं, उनकी स्थिति उतनी गंभीर नहीं हो रही है, जैसा पहले हुआ था। पहले नए मामलों के साथ मृत्यु की जो दर थी, अभी वो उससे बहुत कम है। वैक्सीन के दोनों डोज ले चुके लोगों को शायद ही अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत पड़ रही है। Vaccine protection delta variant : ब्रिटेन दुनिया के उन देशों में है, जहां सबसे ज्यादा टीकाकरण हुआ है। इसके बावजूद अब अब देश पर कोविड-19 महामारी की तीसरी लहर का खतरा मंडराने लगा है। ब्रिटेन में ताजा लहर की वजह कोरोना वायरस का डेल्टा वैरिएंट बना है। और यही वजह है कि अब दुनिया ब्रिटेन को एक टेस्ट केस के रूप में देख रही है। विशेषज्ञ ये चेतावनी दे चुके हैं कि अब दुनिया भर में डेल्टा वैरिएंट की मुख्य वैरिएंट हो गया है। स्वाभाविक है कि ब्रिटेन में इसकी वजह से कैसे हालात बनते हैं, उसे देखने में पूरी दुनिया की दिलचस्पी है। गौरतलब है कि ब्रिटेन दुनिया का पहला देश बना है, जहां टीकाकरण की दर ऊंची है, फिर भी जहां कोरोना वायरस का सबसे अधिक संक्रामक माना जा रहा डेल्टा वैरिएंट तेजी से… Continue reading टीका ही है बचाव

कोविड खत्म नहीं हो रहा!

लगभग सौ देशों में डेल्टा वैरिएंट पंहुचने और ब्रिटेन से ले कर बांग्लादेश में पैनिक प्रमाण है कि कोरोना की महामारी लंबी चलेगी। नए-नए वैरिएंट और उनका तेजी से पूरी दुनिया में फैलना किसी के न समझ में आने वाली पहेली है। पहले का ब्रिटेन में मिला अल्फा वैरिएंट भी कोई 172 देशों में जा पहुंचा है। माना जा रहा था कि ऑस्ट्रेलिया, जापान में चाकचौबंद बंदोबस्तों से कोरोना लगभग खत्म। लेकिन दोनों अभी वायरस से जूझते हुए हैं। उत्तर कोरिया ने पूरी दुनिया में डंका बजाया था कि उसके यहां वायरस घुसा नहीं लेकिन इसी सप्ताह उसके तानाशाह राष्ट्रपति किम ने पगलाए-घबराए अंदाज में अधिकारियों पर ऐसी गाज गिराई, जिससे लग रहा है कि वहां महामारी ने बहुतों को मारा है। ध्यान रहे चीन इस देश का ग़ॉडफादर है। अपनी वैक्सीन-अपने तरीकों का बैकअप दे रखा है बावजूद इसके महामारी से फड़फड़ाए राष्ट्रपति किम! य​ह भी पढ़ें: यह अछूत होना नहीं तो क्या? ब्रिटेन में 67 प्रतिशत लोगों ने एक और 47 प्रतिशत ने दोनों टीके लगवा लिए हैं और कम संक्रमण व हर्ड इम्युनिटी से वहां महामारी पर पूरा कंट्रोल बनता लगता था लेकिन डेल्टा वैरिएंट के केसेज ने सब गड़बड़ा दिया है वैसे ही जैसे ऑस्ट्रेलिया में… Continue reading कोविड खत्म नहीं हो रहा!

अकेले वैक्सीन से नहीं रूकेगा कोरोना

इसमें संदेह नहीं है कि 21 जून के बाद भारत में वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ी है और हर दिन औसतन 50 लाख से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लग रही है। यह भी सही है कि कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी आई है और पिछले करीब एक हफ्ते से मरने वालों की संख्या भी एक हजार से नीचे है। लेकिन सवाल है कि क्या अकेले वैक्सीनेशन के सहारे कोरोना को रोका जा सकता है? इसका जवाब किसी के पास नहीं है क्योंकि वैक्सीनेशन के बाद दुनिया के दूसरे देशों की तरह भारत में इस बात का आकलन नहीं हो रहा है कि नए वैरिएंट्स पर यह कितना कारगर हो रहा है। हालांकि यह दावा किया जा रहा है कि भारत की वैक्सीन अल्फा और डेल्टा दोनों वैक्सीन पर कारगर हो रही है लेकिन हकीकत यह है कि डेल्टा वैरिएंट के ही कई नए स्ट्रेन आ गए हैं, जिनमें एक डेल्टा प्लस है। इसके बारे में अभी तक वस्तुनिष्ठ अध्ययन नहीं हो पाया है। य​ह भी पढ़ें: दुनिया के देशों में फिर तबाही शुरू अकेले वैक्सीन या कोरोना को संभालने का बेहतर प्रबंधन वायरस के संक्रमण को रोकने में कारगर नहीं है, इसकी मिसाल केरल में देखने को मिल रही है।… Continue reading अकेले वैक्सीन से नहीं रूकेगा कोरोना

दुनिया के देशों में फिर तबाही शुरू

भारत में जिस समय एक दिन में चार लाख केसेज आए थे उस दिन दुनिया में आठ लाख केस आ रहे थे यानी दुनिया में कितने केसेज आ रहे थे उनमें से आधे अकेले भारत में आ रहे थे।  लेकिन भारत में अब 40 हजार के आसपास केसेज रोज आ रहे हैं लेकिन दुनिया में चार लाख केस रोज आ रहे हैं। यानी भारत में जितने केस आ रहे हैं उससे दस गुना केसेज दुनिया में आ रहे हैं। इसका मतलब है कि भारत में पीक के मुकाबले केसेज की संख्या में दस गुना कमी आ गई है लेकिन दुनिया में अब भी उतने ही केस आ रहे हैं। यह चिंता की बात है। दुनिया में सर्वाधिक संक्रमित अमेरिका में अब केसेज काबू में हैं लेकिन ब्राजील, रूस, ब्रिटेन जैसे देशों में संकट कम नहीं हो रहा है। ब्रिटेन में तो बड़ी गिरावट के बाद फिर से संक्रमितों की संख्या में बेतहाशा बढ़ोतरी हो रही है। य​ह भी पढ़ें: यह अछूत होना नहीं तो क्या? सोचें, ब्रिटेन में 70 फीसदी लोगों को कम से कम एक डोज लग गई है और 50 फीसदी लोगों पूरी तरह से वैक्सीनेट हो चुके हैं इसके बावजूद वहां केसेज बढ़ रहे हैं। ब्रिटेन में… Continue reading दुनिया के देशों में फिर तबाही शुरू

अब कितना नोट छापे सरकार!

Indian Currency Rupees Status | केंद्र सरकार ने नोट छाप कर ढेर लगा दिया है, फिर भी आर्थिकी के कई जानकार चाहते हैं कि सरकार और नोट छापे। सरकार अगर ज्यादा नोट छापती है तो मुद्रा की कीमत और गिरेगी। इससे हो सकता है कि लोगों के पास नकदी ज्यादा आ जाए लेकिन यह क्रयशक्ति बढ़ने की गारंटी नहीं होगी क्योंकि ज्यादा नोट छाप कर बाजार में चलन में लाने का खतरा यह है कि मुद्रा का अवमूल्यन होगा और महंगाई बढ़ेगी क्योंकि बाजार में नकदी ज्यादा आने से उत्पादन नहीं बढ़ेगा लेकिन मांग जरूर बढ़ जाएगी। यह भी पढ़ें: सबको पीछे छोड़ देंगे हिमंता सरमा यह भी पढ़ें: बंगाल की चुनावी लड़ाई अब अदालत में बहरहाल, भारत में सरकार पहले से ही नोट छापे जा रही है। कोरोना वायरस (Corona Virus 2019 ) का संक्रमण शुरू होने के बाद सरकार ने खुद ही इसमें तेजी ला दी है। रिजर्व बैंक के आंकड़ों के मुताबिक जनवरी 2020 में देश में 21.79 लाख करोड़ रुपए की नकदी थी, जो मार्च 2021 में बढ़ कर 28.60 लाख करोड़ हो गई। सोचें, एक साल से कुछ ज्यादा समय में सात लाख करोड़ रुपए से ज्यादा की नकदी बाजार में आ गई। नवंबर 2016… Continue reading अब कितना नोट छापे सरकार!

क्या होता है लेप्टोस्पायरोसिस..मायानगरी पर क्यो छाया इसका साया, जानें इसके लक्षण और उपचार

मुंबई: महाराष्ट्र के मुंबई में कोरोना ने अपना बेइंतहा कहर बरसाया है। कोरोना के बाद बारिश ने मुंबई को खूब भिगोया है। कई निचले इलाके वाले मकानों में पानी भर जाने से उनको समस्या का सामना करना पड़ा। मानसून के आगमन पर मायानगरी पर खतरा मंडराता हुआ दिखाई दे रहा है। ऐसे में बृह्न्मुंबई म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन (BMC) ने गुरुवार को लेप्टोस्पायरोसिस को लेकर परामर्श जारी किया है।मौसम विभाग ने मायानगरी में भयंकर बारिश के आसार बताये है। अनुमान लगाया है कि मुंबई में मूसलाधार बारिश हो सकती है। नगर निगम ने लेप्टोस्पायरोसिस के मामलों के बढ़ने की चेतावनी जारी की है। लोग अगर पानी में उतरते हैं, या सड़कों भरे पानी में बगैर गम बूट पहने चलते हैं तो ऐसे लोगों को संक्रमण का ज्यादा खतरा है। अगर कोई जिसके पैरों में या शरीर के किसी हिस्से में चोट लगी हुई है और वो रुके हुए पानी में चलता है तो उसे लेप्टोस्पायरोसिस का मध्यम खतरा है। यह बारिश के पानी से होने वाला एक प्रकार का संक्रमण होता है। होता क्या है लेप्टोस्पायरोसिस ये एक तरह का दुर्लभ बैक्टीरियल संक्रमण होता है, लेप्टोस्पायरोसिस की बीमारी इंसानों में जानवरों के जरिये फैलता है, ऐसा तब होता है जब शरीर में… Continue reading क्या होता है लेप्टोस्पायरोसिस..मायानगरी पर क्यो छाया इसका साया, जानें इसके लक्षण और उपचार

क्या कोविड-19 की तीसरी लहर में फ्लु का टीका बच्चों पर होगा असरदार??

कोरोना की दूसरी लहर ने देश में बहुत उत्पात मचाया है। लेकिन अब राहत की खबर यह है कि कोरोना के मामले में गिरावट होनी शुरु हो गई है। लेकिन वैज्ञानिकों का यह मानना है कि भारत में कोरोना की तीसरी लहर आना तय है। विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना की तीसरी लहर सबसे अधिक प्रभाव बच्चों पर डालेगी। इससे पहले कई स्टडीज ने वायरस को बच्चों के लिए काफी कम घातक बताते हुए कहा था कि बच्चे ज्यादातर मामलों में वायरस फैलाने का काम कर सकते हैं लेकिन वे खुद सेफ रहेंगे। हालांकि अप्रैल-मई में आए कोरोना पीक के बाद से बच्चों में संक्रमण का ग्राफ बढ़ रहा है। इस बीच एक्सपर्ट दावा करते दिखे कि सामान्य फ्लू शॉट लेना भी कोरोना से उन्हें काफी हद तक बचा सकता है। ऐसे में कोरोना की तीसरी जब आएगी तो बच्चों में एंटीबॉडी विकसित हो जाएगी। इसे भी पढ़ें Rajasthan Board Exam 2021: राजस्थान में भी रद्द हो सकती हैं बोर्ड की परीक्षाएं, आज बैठक में CM Gehlot लेंगे बड़ा फैसला तीसरी लहर बच्चों के लिए अति भयावह कोरोना की तीसरी लहर की आशंका इसलिए भी ज्यादा भयावह लग रही है कि इसमें सबसे ज्यादा खतरा बच्चों को बताया जा रहा… Continue reading क्या कोविड-19 की तीसरी लहर में फ्लु का टीका बच्चों पर होगा असरदार??

Good News: वैज्ञानिकों ने कहा तीसरी लहर के बच्चों को प्रभावित करने के कोई प्रमाण नहीं, माहौल बनाने से बचना होगा

Corona Third News वैज्ञानिकों का कहना है कि अबतक इस बात का कोई प्रमाण नहीं मिलता है कि कोरोना महामारी की अगली या तीसरी लहर…

मध्य प्रदेश: भलाई का जमाना ही नहीं है!! मेडिकल टीम ग्रामीणों को टीका लगाने पहुंची तो गांव वालों ने लाठी-डंडो से किया हमला..

किसी की भलाई करने चलो तो उल्टा ही होता है। पूरे देश में कोरोना का टीकाकरण जोरो-शोरों से हो रहा है। सरकार सभी से अपील कर रही है ज्यादा से ज्यादा संख्या में कोरोना वैक्सीनेशन करवाएं। इस बार कोरोना का संक्रमण गांवों में फैला है और मौतें भी गांवों से ही ज्यादा सामने आ रही है। मध्यप्रदेश की स्वास्थ्य विभाग की टीम ने ग्रामीणों को टीका लगाने गई तो उन पर उल्टा पड़ गया। मध्य प्रदेश के उज्जैन में टीकाकरण करने पहुँची स्वास्थ विभाग की टीम पर ग्रामीणों ने लाठी-डंडों से हमला बोल दिया। इस घटना में टीम के साथ ग्रामीणों को समझाने पहुँचे सहायक सचिव के पति शकील गम्भीर रूप से घायल हो गए। उनके अलावा अन्य कई को भी चोटें आई हैं। यह वाकया उज्जैन के पारदी मोहल्ले की है। स्वास्थ्य विभाग की टीम में तहसीलदार, पटवारी, एएनएम व अन्य अधिकारी शामिल थे। टीम में शामिल एक ड्राइवर ने कहा कि करीब ढाई सौ ग्रामीणों ने लट्ठ, पाइप, तलवार से टीम पर धावा बोल दिया। इसे भी पढ़ें Salute to spirit of doctors : कोरोना काल में डॉक्टर्स बने भगवान, 24 घंटे में ब्लैक फंगस के किए 19 ऑपरेशन, सोशल मीडिया पर जमकर हो रही तारीफ कोरोना वैक्सीन लगवाने… Continue reading मध्य प्रदेश: भलाई का जमाना ही नहीं है!! मेडिकल टीम ग्रामीणों को टीका लगाने पहुंची तो गांव वालों ने लाठी-डंडो से किया हमला..

और लोड करें