केंद्र के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे अरविंद केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, केंद्र सरकार के खिलाफ जंतर-मंतर पर विरोध-प्रदर्शन करेंगे। यह विरोध केंद्र द्वारा संसद में प्रस्तुत किए गए राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (संशोधन) अधिनियम-2021 को लेकर है।

पंजाब के कांग्रेसी सांसदों का दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरना जारी

तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग कर रहे आंदोलनकारी किसानों का समर्थन कर रहे पंजाब के कई कांग्रेस सांसदों ने आज दूसरे दिन भी जंतर-मंतर पर अपना धरना जारी रखा।

कृषि बिलों पर पंजाब के मुख्यमंत्री का जंतर मंतर पर धरना

पंजाब के किसानों की लड़ाई को दिल्ली तक लाने और माल गाड़ियों के निलंबन के चलते राज्य में आपूर्ति के संकट को उजागर करने के लिए, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने आज जंतर-मंतर पर कांग्रेस सांसदों और विधायकों के साथ धरना दिया।

शाहीन बाग धरने के खिलाफ प्रदर्शन

नई दिल्ली। शाहीन बाग में संशोधित नागरिकता कानून, सीएए के विरोध में डेढ़ महीने से ज्यादा समय से चल रहे प्रदर्शन की वजह से परेशान हो रहे आम लोगों का धैर्य अब जवाब दे रहा है। रविवार को बड़ी संख्या में लोगों ने इस धरने के खिलाफ प्रदर्शन किया। लोगों ने शाहीन बाग की सड़कों को खाली करने के लिए नारेबाजी की। लोगों के प्रदर्शन को देखते हुए इलाके में भारी पुलिस बल की तैनाती की गई है। प्रदर्शन के दौरान मौके पर डीसीपी चिन्मय बिस्वाल भी पहुंचे और उन्होंने लोगों को समझाने का प्रयास किया। हालांकि बाद में चुनाव आयोग ने चिन्मय बिस्वाल का हटा दिया। गौरतलब है कि शाहीन बाग इलाके में जारी धरना प्रदर्शन 50 दिनों से चल रहा है जिसकी वजह से नोएडा की ओर जाने वाला रास्ता बंद है। रास्ता बंद होने की वजह से लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। यह मामला हाई कोर्ट तक भी पहुंच गया है। रविवार को हुए प्रदर्शन से एक दिन पहले शनिवार को धरने की जगह के पास एक शख्स ने फायरिंग की थी। पुलिस की पूछताछ में आरोपी शख्स ने अपना नाम कपिल गुर्जर बताया। वह पूर्वी दिल्ली के दल्लूपुरा का रहने वाला… Continue reading शाहीन बाग धरने के खिलाफ प्रदर्शन

मैं, शाहीन बाग़ नहीं, भारत माता के साथ हूं

अब तक शाहीन बाग़ दृढ़ था, मगर शांत था; असहमत था, मगर अहिंसक था। लेकिन गुरुवार को, महात्मा गांधी की 72वीं पुण्यतिथि पर, शाहीन बाग़ में गोली चल गई। किस ने चलाई, किस पर चलाई, इस झमेले को छोड़ भी दें तो मसला इसलिए संजीदा है कि आख़िर यह गोड़से-सोच बनी कैसे कि धैर्य के साथ चल रहे गांधी-शैली के धरना-प्रदर्शन पर कोई गोली चला दे? 46 दिनों से मुख्यतः महिलाओं द्वारा चलाए जा रहे एक शांत आंदोलन से आख़िर किन लोगों के दिल इतने अशांत हो गए हैं कि बात गोली तक पहुंच गई? गोली चलाने वाला कच्ची उम्र का है, नाबालिग है, ग्याहवीं कक्षा में पढ़ता है। उसके बाल-मन को गांधी के बजाय गोड़से की दिशा देने वाले कौन हैं? किन प्रतिमाओं से प्रेरित हो कर उसके हाथों ने पिस्तौल थामी? हमारे जनतंत्र की ज़मीन में इस ज़हर की बुआई करने वाले कौन हैं? भारत की तरुणाई के मन में ऐसी नफ़रत ठूंसने का काम कौन-सी शक्तियां कर रही हैं? कहीं सामुदायिक लामबंदी की यह सियासत एक-न-एक दिन पूरे मुल्क़ को गृह-युद्ध जैसे हालात के हवाले कर देने की कूवत तो नहीं रखती है? शाहीन बाग़ ‘पाकिस्तान’ है या नहीं, मैं कैसे कहूं? लेकिन मेरे गृह मंत्री अमित… Continue reading मैं, शाहीन बाग़ नहीं, भारत माता के साथ हूं

सीएए के विरोध में जंतर-मंतर पर जुटे शाहीन बाग के प्रदर्शनकारी

नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन कर रही शाहीन बाग की महिलाएं बुधवार को जंतर मंतर पर जमा हुईं। यहां प्रदर्शनकारी महिलाओं ने जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के छात्रों के

जनसंख्या नियंत्रण कानून नहीं बना तो देश में हो सकते हैं गृह युद्ध के हालात: गिरिराज सिंह

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा है कि देश में जनसंख्या नियंत्रण कानून नहीं बना तो गृहयुद्ध जैसे हालात हो सकते हैं। आज जनसंख्या समाधान फाउंडेशन की महिला कार्यकर्ताओं ने बड़ी संख्या में जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग को लेकर इंडिया गेट से जंतर मंतर तक पैदल मार्च निकाला और सिंह ने इसमें हिस्सा लेने वालों को संबोधित करते हुए कहा कि आबादी का बढ़ना एक विस्फोट की तरह है और तकनीकी रूप से भले हमारी जनसंख्या 130 करोड़ है, लेकिन सच्चाई यही है कि यह 150 करोड़ से अधिक है। सिंह ने कहा कि जब तक जनसंख्या नियंत्रण कानून नहीं बनेगा, तब तक सभी सुविधाओं के लिए लोगों को तरसना पड़ेगा और न ही युवाओं के लिए नए रोजगार पैदा होंगे। देश की बढ़ती जनसंख्या चिंता का विषय है। जनसंख्या समाधान फाउंडेशन के अध्यक्ष अनिल चौधरी ने कहा कि जनसंख्या के बढ़ने के कारण देश में गरीबी, अशिक्षा, बेरोजगारी, आदि समस्याएं बढ़ रही हैं। उन्होंने कहा, हमारा फाउंडेशन सभी नागरिकों के लिए अधिकतम दो बच्चों का कानून लागू करने की मांग उठा रहा है। यह भी पढ़े:- एनआरसी हिंदुस्तान की मांग : गिरिराज इसी क्रम में 9 अगस्त 2018 को भारत के राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को… Continue reading जनसंख्या नियंत्रण कानून नहीं बना तो देश में हो सकते हैं गृह युद्ध के हालात: गिरिराज सिंह

और लोड करें