महाकाल नगरी उज्जैन में उमड़ी बाबा के श्रद्धालुओं की भीड़, आज शाम निकाली जाएगी सावन की तीसरी सवारी..

आज सावन के तीसरे सोमवार पर महाकाल मदिर के पट तड़के 2:30 बजे खोल दिए गए। महाकाल मंदिर में सुबह 4:30 बजे विशेष भस्म आरती होती है। कहा जाता है कि शमशान घाट की चिता से ताजा भस्म लाकर बाबा का श्रंगार किया जाता है। इस आरती में बाबा महाकाल को बेल पत्रों की माला अर्पित की गई और उनका भांग, चंदन, फल, वस्र आदि से शृंगार किया गया। इस दौरान नंदी हॉल को भी फूलों से सजाया गया।

Rajasthan: भोलेनाथ का अद्भुत मंदिर, जहां शिव जलहरी में से भूगर्भ का वर्षा जल करता है भगवान शंकर का अभिषेक

जयपुर | भारत में शिव मंदिर तो बहुत है, लेकिन राजस्थान के प्राचीन शिव मंदिरों में भगवान भोलेनाथ का एक मंदिर ऐसा भी है जहां शिवलिंग सावन के महीने में बारिश के दौरान पानी में पूरी तरह से डूबा रहता है। इस पौराणिक मंदिर में भगवान शिव की जलहरी भूमि 22 फीट गहरी है। ये भी पढ़ें:- भगवान शिव का रहस्यमयी शिवलिंग जो बिजली गिरने से होता है खंडित, मक्खन लगाते ही पाता है वास्तविक स्वरूप भगवान भोलेनाथ का ये पौराणिक मंदिर राजस्थान की राजधानी जयपुर के आमेर में स्थित है। आमेर में सागर रोड स्थित अंबिकेश्वर महादेव (Ambikeshwar Mahadev Mandir) के नाम से विख्यात भोलेनाथ का ये मंदिर लगभग 5 हजार साल पूर्व का माना जाता है। इतिहासकारों के अनुसार, अंबिकेश्वर महादेव को कच्छावा वंश का कुल देवता भी बताया जाता है। ये भी पढ़ें:- पाकिस्तान के बाद अब यहां भी मंदिरों और हिंदुओं के घरों में तोड़फोड़, देखें वीडियो… शिवलिंग पर ऊपर से जल चढ़ानें पर नहीं जाता भूमि में मंदिर की ये खास विशेषता है कि बारिश में शिव जलहरी में से भूगर्भ का वर्षा जल मंदिर में ऊपर तक भर जाता है लेकिन, ऊपर से जल चढ़ाने पर वह भूगर्भ में नहीं जाता। बारिश के दिनों में जलमग्न… Continue reading Rajasthan: भोलेनाथ का अद्भुत मंदिर, जहां शिव जलहरी में से भूगर्भ का वर्षा जल करता है भगवान शंकर का अभिषेक

sawan 2021 : जानिए अनंत शिव के डमरू, नाग और चंद्रमा के पीछे की अनंत कहानियां..

भगवान शिव खुद में संपूर्ण सृष्टि के तीनों गुण रज, तम और सत को अपने अंदर समान रूप से समाहित किये हुये है। ये तीनों गुण तीन शुल के रूप में  भगवान शिव अपने साथ धारण किये रहते है। जिसे हम सभी त्रिशुल के नाम से जानते है।

भगवान शिव का रहस्यमयी शिवलिंग जो बिजली गिरने से होता है खंडित, मक्खन लगाते ही पाता है वास्तविक स्वरूप

नई दिल्ली | Bijli Mahadev Mysterious Shivling :भगवान शिव की महिमा अपरमपार है। भगवान भोलेनाथ मृत्युलोक के देवता है। तभी तो कहा जाता है कि कण-कण में शिव हैं। दुनियाभर में भगवान भोलेनाथ के मंदिर तो बहुत है, लेकिन भगवान भोलेनाथ का एक ऐसा अद्भुत और अलौकिक मंदिर भी है जो हिमाचल की वादियों में स्थित है। इस मंदिर में एक ऐसा चमत्कार होता है जिसे देखकर हर कोई हैरान रह जाता है। इस मंदिर का नाम ‘बिजली महादेव’ मंदिर (Bijli Mahadev Temple) है। इस मंदिर में शिवलिंग पर हर 12 साल के बाद आसमानी बिजली गिरती है। ये भी पढ़ें:-  Unique Temple: दुनिया का एक मात्र मंदिर जहां शिवलिंग की नहीं, भोले नाथ के अंगूठे की होती है पूजा मक्खन से जोड़ा जाता है शिवलिंग ‘बिजली महादेव’ (Bijli Mahadev) का यह मंदिर हिमाचल के कुल्लू में स्थित है। शिवजी का यह अनोखा मंदिर व्यास और पार्वती नदी के संगम के पास ही एक पहाड़ पर बना हुआ है। कहा जाता है की यहां 12 साल में आसमानी बिजली गिरती है और शिवलिंग चकनाचूर हो जाता है। कई टुकड़ों में बिखरे शिवलिंग को पुजारी मक्खन से जोड़ते हैं, तो यह फिर से अपने पुराने स्वरूप में आ जाता है। कुलांत राक्षस… Continue reading भगवान शिव का रहस्यमयी शिवलिंग जो बिजली गिरने से होता है खंडित, मक्खन लगाते ही पाता है वास्तविक स्वरूप

अगर चाहिए मनचाहा पति-पत्नि तो सावन में जरूर करें ये काम, हो जाएगी चट मंगनी पट ब्याह…

Trick For Marriage in Sawan : हिंदू धर्म में सावन के महीने को काफी महत्व दिया जाता है. मान्यता के इस महीने में भगवान शिव की अराधना करने से लोगों के हर इच्छा पूरी होती है. शास्त्रों में भी सावन के महत्व के बारे में काफी कुछ कहा गया है. बहुत कम ही लोग जानते होंगे कि सावन का महीना महिलाओं के लिए भी काफी महत्व रखता है. खासकर कुंवारे लड़के-लड़कियां जिन्हें अपने पसंद का जीवन साथी नहीं मिल रहा है, वे इस महीने में भगवान शिव की पूजा और कुछ विशेष काम कर अपना मनपसंद साथी पा सकते हैं. कहा जाता है कि सच्चे मन से सावन में शिव की पूजा करने वाली कुंवारे लड़के-लड़कियों को उनकी मनोकामना के अनुरूप जीवनसाथी की प्राप्ति होती है. तो आइए जानते हैं कि वे कौन से 7 काम हैं जिसे कर लड़कियां अपनी इच्छा के अनुरूप जीवनसाथी की तलाश सकती हैं. ऐसे करें मां पार्वती की पूजा Trick For Marriage in Sawan : कुंवारी लड़के-लड़कियों को चाहिए कि सावन के महीने में ज्यादातर दिनों में पीले वस्त्रों को धारण करें. इसके साथ हीं भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा के दौरान उन्हें गेंदा फूल की माला चढ़ाएं. इस दौरान कम से… Continue reading अगर चाहिए मनचाहा पति-पत्नि तो सावन में जरूर करें ये काम, हो जाएगी चट मंगनी पट ब्याह…

Uttarakhand : कोरोना काल के बाद खोला गया धरती का पहला शिव मंदिर, कारोबारियों के चेहरे पर आई राहत की सांस

अल्मोड़ा |  पिछले वर्ष 2020 से देशभर के सभी मंदिर बंद है। गत लर्ष से लॉकडाउन का दौर ज़ारी है। कुछ समय के लिए मंदिर और सभी पयर्टन स्थल खोले भी गए थे लेकिन कोरोना फिर अपना भयावह रूप लेकर आया और सभी दर्शनीय स्थल बंद करने पड़े। लेकिन अब कोरोना की दूसरी लहर कम हो रही है। और उत्तराखंड में सभी मंदिर धीरे-धीरे खुल रहे है। हाल ही में महादेव का प्रसिद्ध मंदिर जागेश्वर धाम ( Uttarakhand Almoda Jageshwar Dham ) भक्तों और पुजारियों के लिए खोल दिया गया है। जागेश्वर धाम विश्व प्रसिद्ध है और यहां हर वर्ष लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ता है। कुछ समय पहले जब लॉकडाउन में रियायत मिली तो यात्रा आदि से जुड़े प्रतिबंधों और गाइडलाइनों के चलते श्रद्धालुओं की संख्या काफी कम ही दिखाई दी। कोरोना के बुरे माहौल के बाद अब सभी जगह खुशियां लौटने लगी है। इस मंदिर में कुछ पाबंदिया अभी भी लगी है। कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए भक्तों को मंदिर में जाने की अनुमति मिलेगी। मंदिर के खुलते ही भक्तों और पुजारियों द्वारा कोरोना की भयावह महामारी से निजात दिलाने की प्रार्थना की गई। also read: Char Dham Yatra Start : इस तारीख से श्रद्धालुओं… Continue reading Uttarakhand : कोरोना काल के बाद खोला गया धरती का पहला शिव मंदिर, कारोबारियों के चेहरे पर आई राहत की सांस

Instgram ने अब भगवान शिव के हाथों में पकड़ा दिये Wine और Mobile, BJP विधायक ने दर्ज कराया केस

नई दिल्ली |  भारत में इन दिनों सोशल साइट्स पर एक के बाद एक विवाद होते जा रहे हैं. ताजा मामला सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम से जुड़ा हुआ है. भारतीय जनता पार्टी के एक नेता ने सरकार के खिलाफ मामला दर्ज कराया है. बीजेपी ने इंस्टाग्राम कर आरोप लगाते हुए कहा है कि इन दिनों इंस्टाग्राम पर भगवान शिव से संबंधित स्टीकर जारी किए गए हैं. जिनमें भगवान शिव के हाथ में वाइन दिखाया गया है. भाजपा नेता ने दिल्ली के पार्लियामेंट स्ट्रीट पुलिस स्टेशन में या मामला दर्ज कराया है. उनका कहना है कि इंस्टाग्राम जानबूझकर हिंदू देवी देवताओं का अपमान कर रहा है. उन्होंने कहा कि लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचाना सही नहीं है. एक हाथ में वाइन तो दूसरे हाथों में मोबाइल बता दें कि इन दिनों इंस्टाग्राम पर कई स्टिकर अपलोड किया गया है. यदि आप इंस्टाग्राम पर शिव कीवर्ड सर्च करें तो आपको एक तस्वीर दिखाई देगी जिसमें भगवान शिव के हाथ में वाइन का ग्लास तो दूसरे हाथों में फोन नजर आएगा. पुलिस में केस दर्ज करने के साथ बीजेपी नेता मनीष सिंह ने पुलिस को इंस्टाग्राम पर कुछ ऐसे ही स्टिकरो के स्क्रीनशॉट भी दिए हैं. इसे भी पढ़ें-  ssr case : सुशांत… Continue reading Instgram ने अब भगवान शिव के हाथों में पकड़ा दिये Wine और Mobile, BJP विधायक ने दर्ज कराया केस

 Unique Temple: दुनिया का एक मात्र मंदिर जहां शिवलिंग की नहीं, भोले नाथ के अंगूठे की होती है पूजा

जयपुर। देवों के देव महादेव (Lord Shiva) के सभी मंदिरों में उनके शिवलिंग की पूजा का विधान है. लेकिन राजस्थान के माउंटआबू (Mount Abu) में अचलगढ़ (Achalgarh) दुनिया की एकमात्र ऐसी जगह है, जहां भगवान शिव के अंगूठे की पूजा होती है। यहां भगवान शिव के अंगूठे के निशान मंदिर में आज भी दिखाई देते हैं। यहां भगवान शिव के छोटे-बड़े 108 मंदिर है।यही कारण है कि इस स्थान को अर्धकाशी भी कहा जाता है। ये भी पढ़ें:- यहां पहाड़ पर साक्षात लेटे हुए हैं हनुमान जी, बूढ़े ब्राह्मण की सच्ची भक्ति का फल है यह मंदिर राजस्थान के पर्यटन स्थल माउंटआबू की पहाड़ियों पर स्थित अचलगढ़ मंदिर पौराणिक मंदिर है। 15वीं शताब्दी में बना अचलेश्वर मंदिर (Achleshwar Mahadev Temple ) में भगवान शिव के पैरों के निशान आज भी मौजूद है। यहां भगवान भोलेनाथ अंगूठे के रुप में विराजते हैं और शिवरात्रि व सावन के महीने में इस रूप के दर्शन का विशेष महत्व है। इस मंदिर में महाशिवरात्रि, सोमवार के दिन, सावन महीने में जो भी भगवान शिव के दरबार में आता है, भगवान भोलेनाथ उसकी सभी मुराद पूरी करते हैं। दिन में 3 बार रंग बदलता है शिवलिंग इस मंदिर की एक और खासियत ये है कि… Continue reading  Unique Temple: दुनिया का एक मात्र मंदिर जहां शिवलिंग की नहीं, भोले नाथ के अंगूठे की होती है पूजा

मध्य प्रदेश के इस मंदिर में हनुमान जी का अद्भुत मंदिर, एक दिन में तीन बार रूप बदलती है प्रतिमा

धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक हनुमान जी भगवान शिव का अंशावतार है। इसकारण हनुमान जी भी शिवजी की ही तरह जल्दी प्रसन्न होने वाले देवता हैं। बालाजी महाराज भगवान श्री राम के सबसे बड़े भक्त है। ऐसा कहते है कि भगवान श्रीराम की सच्चे मन से पुजा करने से राम जी के साथ-साथ हनुमान जी भी अतिप्रसन्न होते है। साथ ही ये भी मान्यता है कि हनुमान जी इस कलयुग में सबसे ज्यादा जाग्रत और साक्षात देव हैं और कलयुग में हनुमान जी की भक्ति लोगों को दुख और संकट से बचाने में सक्षम है। पौराणिक मान्याताओं के अनुसार जब भगवान राम अपने धाम की प्रस्थान कर रहे थे तब श्री राम ने हनुमान जी को यह आशीर्वाद दिया था। यही कारण है कि देशभर में हनुमान जी के ऐसे कई प्रसिद्ध मंदिर है जहां उनके अद्भुत रूपों के दर्शन होते हैं। लेकिन क्या आपने कभी ऐसे मंदिर के बारे में सुना है जहां की प्रतिमा एक दिन में ही तीन बार अपना रूप बदलती हो। इसे भी पढ़ें Positive Story: 31 लोगों के परिवार में 26 को हुआ था कोरोना, संक्रमित होने वालों में 87 वर्ष के बुजुर्ग भी शामिल, सभी ने दी कोरोना को मात  हनुमान जी का अद्भुत और… Continue reading मध्य प्रदेश के इस मंदिर में हनुमान जी का अद्भुत मंदिर, एक दिन में तीन बार रूप बदलती है प्रतिमा

Death Mystery :  जानें,  मौत के उन 8 संकेतों को जो पहले ही कर देते हैं इशारा

इस दुनिया में कुछ भी हमेशा के लिए नहीं है. लोग मौत का नाम सुनते ही डरने लगते हैं. लेकिन ये वो सच्चाई है जिससे बचा नहीं जा सकता है. मौत को लेकर कई मान्यता है. वैज्ञानिकों में भी अक्सर इस विषय में मतभेद होता दिखाई देता है,  भारत में ज्योतिष शास्त्र को को मानने वालों के कोई कमी नहीं है. ऐसे में ज्योतिष शास्त्र की मानें तो इंसानों के मौत आने से पहले उनके सामने कई प्रकार के संकेत मिलने शुरू हो जाते हैं.  मौत कब आएगी और किसको अपने साथ लेकर जाएगी इसका किसी को पता नहीं है. शास्त्रों के अनुसार हमारे जीवन में बहुत सारे ऐसे संकेत होते रहते है, जिन्हें लोग समझ नहीं पाते हैं.  आपको बता दें, कि शास्त्रों के अनुसार भगवान शिव ने माता पार्वती को मनुष्य की मृत्यु आने से पहले आने वाले संकेतों के बारे में बताया है.  जिसमें उन्होंने मृत्यु के 8 बड़े संकेतों की व्याख्या की है. यदि आपके जीवन में यहां बताए गए 8 संकेत कभी भी दिखाई दे, तो इसे नजरअंदाज ना करें. ऐसा होने पर तुरंत खुद को सचेत हो जाए. क्या आपको पता है, कि भगवान शिव शंकर ने माता पार्वती को मृत्यु के 8 कौन… Continue reading Death Mystery : जानें, मौत के उन 8 संकेतों को जो पहले ही कर देते हैं इशारा

RAJASTHAN : जानिए राजस्थान के उस श्रापित गांव के बारे में, जहां एक साधु के श्राप से आज भी एक महिला पत्थर की मुरत बन बैठी है..

भारतीय मंदिरो की बात हो और रहस्यों की बात ना हो ऐसा हो ही नहीं सकते है। भारतीय मंदिर और रहस्य का पुराना रिश्ता है। भारतीय मंदिर और रहस्य का रिश्ता ठीक उसी तरह जुडा है जैसे परिवार में मां बाप और बेटे का होता है। भारत में ऐसे तो अनेकों मंदिर है और इन मंदिर में अनेकों राज दफ्न है। कुछ रहस्य ऐसे जिनका आज तक पर्दाफाश नहीं हुआ है। आज हम बात करेंगे राजस्थान के एक ऐसे मंदिर की जो एक इंसान को पत्थर बना देती है। राजस्थान की रेतीली धरती में कई राज दफन है। कई रहस्य ऐसे है जिनको सुनकर पसीने छूट जाते है। कुलधरा गांव और भानगढ़ का किला इनमें से एक है। लेकिन आज हम बात करेंगे बाड़मेर में स्थित किराडू का मंदिर । इस मंदिर को खजुराहा के मंदिर नाम से भी जाना जाता है। यह मंदिर प्रेमियों को बड़ा आकर्षित करते है। इसे भी पढ़ें Corona के कहर के बीच Online Shopping से इस कम्पनी को रिकॉर्ड मुनाफा तपस्वी के श्राप से लोग पत्थर बन गये इस मंदिर के बारे में ऐसी मान्यता है कि यहां शाम ढ़लने के बाद जो भी रह जाता है वह या तो पत्थर बन जाता है या… Continue reading RAJASTHAN : जानिए राजस्थान के उस श्रापित गांव के बारे में, जहां एक साधु के श्राप से आज भी एक महिला पत्थर की मुरत बन बैठी है..

चैत्र नवरात्र 2021 : जानें मां दुर्गा की आठवीं शक्ति कैसे कहलाईं गौरी, महागौरी के साथ सिंह ने भी की कठोर तपस्या

माँ दुर्गाजी की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है। दुर्गापूजा के आठवें दिन महागौरी की उपासना का विधान है। इनकी शक्ति अमोघ और फलदायिनी है। इनकी उपासना से भक्तों के सभी कष्ठ दूर हो जाते है। पूर्वसंचित पाप भी खत्म हो जाते हैं। भविष्य में पाप-संताप, दैन्य-दुःख उसके पास कभी नहीं जाते। वह सभी प्रकार से पवित्र और अक्षय पुण्यों का अधिकारी हो जाता है। नवरात्र के नौ दिनों का पावन पर्व का अंतिम पड़ाव महागौरी की पूजा पर खत्म होता है।  नवरात्र के नौ दिनों में प्रति दिन देवी दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है लेकिन नवरात्र के आठवें और नौवें दिन देवी दुर्गा के नौ रूपों के प्रतीक में कन्या पूजन का भी विधान है जो इस पर्व के महत्व को और भी बढ़ा देता है। महागौरी को भगवान गणेश की माता के रूप में भी जाना जाता है। आइये आज नवरात्र के अंतिम दिन महागौरी की पूजा और कथा के बारे में जानते है….. इसे भी पढ़ें चैत्र नवरात्र 2021: मां दुर्गा की सातवीं शक्ति देवी कालरात्री ने किया रक्तबीज का वध महागौरी का स्वरूप मां गौरी का रंग अतयंत गौरा है। इस गौरता की उपमा शंख, चंद्र और कुंद के फूल से दी गई… Continue reading चैत्र नवरात्र 2021 : जानें मां दुर्गा की आठवीं शक्ति कैसे कहलाईं गौरी, महागौरी के साथ सिंह ने भी की कठोर तपस्या

चैत्र नवरात्र 2021: मां दुर्गा का प्रथम स्वरूप भगवान शंकर की अर्द्धांगिनी क्यों कहलाती है शैलपुत्री

आज से चैत्र नवरात्र प्रारंभ हो गये हैं.  जो 21 अप्रैल को समाप्त होंगे. नवरात्र के साथ ही भारतीय नववर्ष भी प्रारंभ हो रहा है. नवरात्रों के नौ दिनों तक मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है. नवरात्र के पहले दिन माता शैलपुत्री की पूजा होती है. मान्यता है कि माता की पूजा करने से सभी रोगों को नाश हो जाता है. शैलपुत्री  के बारे में जो जानकारी मिलती है उससे पता चलता है कि वे पर्वतराज हिमालय की पुत्री हैं.  हिमालय पर्वत अडिगता ओर दृढ़ता का परिचायक है.  जब हम भक्ति का रास्ता चुनते हैं तो हमारे मन में भी भगवान के लिए इसी तरह का अडिग विश्वास होना चाहिए, विश्वास से ही हम अपने लक्ष्य तक पहुंच सकते हैं. आज हम बात करेंगे मां दुर्गा के रूप शैलपुत्री की एक कथा के बारे में…. इसे भी पढ़ें माता का अनोखा मंदिर जहां खीरा चढ़ाने पर पूरी होती हैं सभी मुरादें, रेंगकर करने होते है दर्शन वन्दे वांच्छितलाभाय चंद्रार्धकृतशेखराम्‌ । वृषारूढ़ां शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम्‌ ॥ शैलपुत्री का स्वरूप हिमालय के वहां पुत्री के रूप में जन्म लेने के कारण उनका नामकरण हुआ शैलपुत्री। इनका वाहन वृषभ है, इसलिए यह देवी वृषारूढ़ा के नाम से भी जानी जाती… Continue reading चैत्र नवरात्र 2021: मां दुर्गा का प्रथम स्वरूप भगवान शंकर की अर्द्धांगिनी क्यों कहलाती है शैलपुत्री

Monday Special: भगवान शिव से जुड़े अनोखे तथ्य, आइये जानते हैं भगवान शिव की संतानों के बारे में…

सोमवार का दिन भगवान शिव की पूजा की लिए विशेष माना जाता है. मान्यता है कि इस दिन भगवान शिव को आसानी से प्रसन्न किया जा सकता है. ऐसे तो भगवान शिव के अनेक नाम हैं, लेकिन महादेव के नाम से शिव पूरे विश्व में प्रसिद्ध हैं. आज हम बात करेंगे भगवान शिव की संतानों की. पुराणों में भगवान शिव की दो संतानों का उल्लेख किया गया है गणेश और कार्तिकेय. लेकिन इसके अलावे भी शंकर भगवान की 8 संतानें थी. शिव की अन्य संतानों के बारे में बहुत कम लोग ही जानते हैं. शिव पुराण और अन्य धार्मिक ग्रंथों में इस बात का प्रमाण मिलता है कि भगवान शिव की और भी संतानें थी. आइये जानें, महादेव की 8 संतानों के बारे में….. भगवान गणेश भगवान गणेश माता पार्वती और शिवजी के पुत्र हैं. पुराणों में गणेश जी के जन्म से जुड़ी अनेक कथाएं मिलती हैं. गणेश जी के जन्म के बारे में कोई जानकारी कहीं नहीं मिलती है. मान्यता है कि यह एक रहस्य है. वहीं कुछ लोग ये मानते हैं कि गणेश जी का जन्म माता पार्वती के शरीर के मैल से हुआ था. भगवान कार्तिकेय हिन्दु धर्म के पौराणिक इतिहास का अपना एक अलग ही महत्व… Continue reading Monday Special: भगवान शिव से जुड़े अनोखे तथ्य, आइये जानते हैं भगवान शिव की संतानों के बारे में…

29 अप्रैल को ही खुलेंगे केदारनाथ मंदिर के कपाट

उत्तराखंड के गढ़वाल हिमालय में स्थित भगवान शिव के धाम केदारनाथ मंदिर के कपाट पूर्व निर्धारित तिथि 29 अप्रैल को ही खोले जाएगे।

और लोड करें