किसानों ने नेशनल हाइवे पर लगे साइन बोर्डो को खेती संबंधी पोस्टरों से ढका

कृषि कानून पर दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का 2 महीने से प्रदर्शन जारी है। इसी सिलसिले में किसानों ने हर जगह कृषि संबंधी अपने बैनर व पोस्टर लगाए हुए हैं।

कोरोना मरीजों के घर के बाहर पोस्टर लगाना मना है : दिल्ली सरकार

आम आदमी पार्टी सरकार ने मंगलवार को दिल्ली हाईकोर्ट में बताया कि उसने अपने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे घर में क्वारंटीन रह रहे कोविड-19 मरीजों के घर के बाहर पोस्टर न लगाएं।

राजस्थान कांग्रेस मुख्यालय के बाहर से हटाया गया पायलट का पोस्टर

राजस्थान में चल रहे राजनीतिक संकट के बीच प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट के पोस्टर को राज्य के पार्टी मुख्यालय के बाहर से हटा दिया गया।

मुलायम सिंह यादव की बायोपिक का पोस्टर रिलीज

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव की बायोपिक का पोस्टर रिलीज कर दिया गया है। बॉलीवुड में राजनेताओं पर आधारित बायोपिक फिल्मों का चलन जोरो पर है।

वाराणसी में लगे, ‘ओ कोरोना, कल आना’ के पोस्टर

आपको बॉलीवुड की हिट फिल्म ‘स्त्री’ का वो डायलॉग तो याद होगा, ‘ओ स्त्री, कल आना’। यही नारा अब वाराणसी में कोविड-19 के लिए उपयोग हो रहा है।

सपा ने लगाए बलात्कारी भाजपा नेताओं के पोस्टर

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) का विरोध करने वालों के पोस्टर शहर में लगाए जाने की हरकत का पलटवार करते हुए समाजवादी पार्टी के एक नेता ने सत्तारूढ़ दल के दो विवादास्पद नेताओं की तस्वीर वाले पोस्टर शहर में लगवा दिए

बिहार: तेजस्वी के ‘रथ’ को ‘राक्षस’ बताने वाले पोस्टर

बिहार में राजनीतिक दलों द्वारा प्रारंभ ‘पोस्टर वार’ थमने का नाम नहीं ले रहा है। पटना की सड़कों पर आज एक बार फिर राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव के बेरोजगारी हटाओ यात्रा पर कटाक्ष करते हुए पोस्टर लगाए गए हैं।

दिल्ली भाजपा कार्यालय में लगे हार स्वीकार के पोस्टर!

दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए वोटों की गिनती का रुझान साफ होते ही भाजपा ने हार मान ली है। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के दिल्ली प्रदेश कार्यालय पर एक पोस्टर लगाया गया है,

आजमगढ़ में लगे अखिलेश लापता के पोस्टर

समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव के लोकसभा क्षेत्र आजमगढ़ में उनके लापाता होने के पोस्टर लगाए गए हैं। इसके लिए कांग्रेस ने जिम्मेदारी ली है।

जामिया के बाहर डिटेंशन सेंटर के पोस्टर

नई दिल्ली। ‘हम लाठी डंडे खाएंगे पर कागज नहीं दिखाएंगे’, जामिया विश्वविद्यालय के बाहर शनिवार दोपहर जगह-जगह इसी तरह के नारे गूंजते रहे। लोगों में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर जितना भ्रम था, उससे ज्यादा डर एनआरसी को लेकर दिखाई दिया। जामिया विश्वविद्यालय के बाहर शनिवार को डिटेंशन सेंटर के कई पोस्टर लगे थे और कार्ड बोर्ड के जरिए डिटेंशन सेंटर का मॉडल बनाया गया था। डिटेंशन सेंटर के पोस्टर के जरिए प्रदर्शनकारियों को बताया गया कि एनआरसी से बाहर होने वालों को डिटेंशन सेंटर में किस प्रकार की प्रताड़ना से गुजरना पड़ता है। विभिन्न शिक्षण संस्थानों से जामिया पहुंचे छात्रों में से कुछ छात्रों ने जामिया विश्वविद्यालय के बाहर डिटेंशन सेंटर के पोस्टर व मॉडल बनाए और प्रदर्शित किए। डिटेंशन सेंटर के इन पोस्टर के साथ ही छात्रों ने एनआरसी व सीएए के खिलाफ पोस्टर और पेंटिंग्स भी बनाए। यहां लगाए गए डिटेंशन सेंटर के मॉडल्स के सामने डिटेंशन सेंटर की क्रूरता बयान करते कई पोस्टर्स थे। इन पोस्टर्स में लिखा था कि ‘जरा इतिहास में देखो डिटेंशन कैंप की हकीकत, आपका दिल दहल उठेगा’। डिटेंशन सेंटर के पोस्टर देखने दिनभर लोग आते रहे। जामिया के प्रदर्शन से जुड़े मीर ने बताया की विभिन्न छात्र व स्थानीय लोग… Continue reading जामिया के बाहर डिटेंशन सेंटर के पोस्टर

और लोड करें