कट्टरपंथियों ने अफगानिस्तान में जारी किए ऐसे आदेश सुनकर आपको भी आ जाएगा गुस्सा…

अफगानिस्तान में तालिबान राजड कायम होने के बाद से लोगों का वहां से निकलने का सिलसिला शुरू …

तालिबान आया भारत के पक्ष में, कहा- पाकिस्तान ने दिया अखाद्य गेहूं, भारत कहीं बेहतर

इस महीने की शुरुआत में, भारत ने घोषणा की थी कि वह पाकिस्तान के रास्ते अफगानिस्तान को 50,000 मीट्रिक टन (एमटी) गेहूं भेजेगा।

पाकिस्तान को तालिबानी चुनौती

तालिबान खुद पाकिस्तान का बनाया हुआ है। जैसाकि अक्सर होता है, दहशतगर्द गुट अपने बनाने वाले के हाथ से ही निकल जाते हैँ।

जिसे पाला, उसी से खतरा!

इस बात पर यकीन करना बहुत से लोगों के लिए मुश्किल हो सकता है कि पाकिस्तान अब अफगान तालिबान से सचमुच परेशान है।

Afghanistan : अब मरे हुए लोगों से भी बदला ले रहा है तालिबान, जानें कैसे इस्लामिक परंपरा का भी…

हद तो तब हो गई जब तालिबानियों ने सैनिकों की कब्र तक को नहीं बख्शा. बताया गया है कि…

तालिबान का अत्याचार बरकरार, महिलाओं के खेल गतिविधियों पर लगाया प्रतिबंध

इस्लामिक अमीरात ने कहा कि वह इस्लामी मूल्यों और अफगान संस्कृति पर आधारित महिलाओं के खेल की अनुमति देगा। हम सभी पहलुओं में इस्लामी अमीरात की नीति का पालन करेंगे।

उपमहाद्वीप में भी उलटपुलट

भारतीय उपमहाद्वीप में अगस्त में सारी चीजें उलट-पलट हो गईं। तालिबान ने अफगानिस्तान की सत्ता पर कब्जा कर लिया, जिसे सीधे तौर पर पाकिस्तान और चीन का समर्थन है।

भारत के सराहनीय कदम के लिए पाकिस्तान ने खोले अपने सभी रास्ते, पाकिस्तानी सीमा से गुजरेगा भारत का काफिला

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने अफगानिस्तान अंतर-मंत्रालयी समन्वय प्रकोष्ठ (AICC) की बैठक के दौरान सभी मंत्रालयों को अफगानिस्तान को ज्यादा से ज्यादा सुविधा देने का निर्देश दिया है।

तालिबानी शासकों ने जारी किए नए दिशा-निर्देश, पाबंदी की जंजीरों में फिर जकड़ी महिलाएं, अब पहनना होगा हर वक्त हिजाब!

अब तालिबान की सरकार ने अफगान मीडिया के लिए कई नए दिशा-निर्देश जारी किए है। जिसमें महिलाओं को बंदिशों के बंधन में बांध दिया गया है। अब टेलीविजन एंकरों को हिजाब पहनने का सख्त निर्देश दिया गया है।

अमेरिका क्या तालिबान के साथ पंचायत कराएगा?

अफगानिस्तान को उसको हालात पर और दक्षिण एशिया के देशों खास कर भारत को खतरे में डाल कर वापस लौट गया अमेरिका अब एक बार फिर पंचायत कराने में जुटा है।

Afghanistan explosion : जुमे की नमाज की दौरान हुआ विस्फोट, मस्जिद के अंदर जमा थे लोग…

नंगरहार के मस्जिद में हुआ जोरदार विस्फोट, मस्जिद में नमाज पढ़ने के दौरान…

तालिबानः दिल्ली बैठकः कितनी सार्थक

दिल्ली में हुई अफगानिस्तान संबंधी अंतरराष्ट्रीय बैठक कुछ कमियों के बावजूद बहुत सार्थक रही। यदि इसमें चीन और पाकिस्तान भी भाग लेते तो बेहतर होता लेकिन उन्होंने जान-बूझकर अपने आप को अछूत बना लिया।

कूटनीति की ये बदहाली!

अफगानिस्तान की स्थिति ठीक तरह से भांपने में नाकामी ने इस मसले पर अंतराष्ट्रीय कूटनीति में भारत को लगभग अप्रासंगिकता की हद तक पहुंचा दिया है।

काबुल में आत्मघाती हमले में ढेर हुआ तालिबानी टॉप कमांडर मुखलिस, राष्ट्रपति भवन में जमाया था कब्जा

हमले में मुखलिस भी मारा गया है। मौलवी हमदुल्लाह मुखलिस उन तालिबानी कमांडरों में शामिल था, जो अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी के देश छोड़ते ही राष्ट्रपति भवन में घुसे थे।

तालिबान को मान्यता का सवाल

पाकिस्तान-जैसे देश भी उसकी मान्यता को अटकाए हुए हैं। सउदी अरब और यूएई जैसे देशों ने भी तालिबान सरकार को मान्यता अभी तक नहीं दी है जबकि पिछली तालिबान सरकार को उन्होंने सत्तारुढ़ होते ही मान्यता दे दी थी

और लोड करें