UP police

  • हाथरस हादसे में छह गिरफ्तार

    लखनऊ। उत्तर प्रदेश के हाथरस में एक बाबा के सत्संग में हुई भगदड़ के तीन दिन बाद बुधवार को पुलिस ने छह लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने सत्संग के मुख्य आयोजक की गिरफ्तारी का वारंट जारी किया है और उसके बारे में जानकारी देने पर एक लाख रुपए के इनाम की घोषणा की है। इस बीच मामले की जांच के लिए बनाए गए न्यायिक आयोग की बुधवार को पहली बैठक हुई। बैठक के बाद आयोग के अध्यक्ष बृजेश श्रीवास्तव ने कहा कि जरुरत हुई तो पुलिस और मीडिया के लोगों के बयान भी दर्ज किए जाएंगे। उन्होंने कहा...

  • पाकिस्तान के लिए जासूसी के आरोप में दो गिरफ्तार

    लखनऊ। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के लिए जासूसी करने के आरोप में उत्तर प्रदेश की आतंकवाद रोधी दस्ते यानी यूपी एटीएस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है। इन पर आतंकवादी गतिविधियों के लिए वित्तीय मदद जुटाने का भी आरोप है। पकड़े गए लोगों में से एक रामपुर का रहने वाला अमृत गिल उर्फ अमृतपाल सिंह है और दूसरा गाजियाबाद के फरीदनगर का रहने वाला रियाजुद्दीन है। इनके पास से तीन मोबाइल बरामद हुए हैं। दोनों लोगों के खिलाफ लखनऊ के एटीएस थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है। एटीएस ने रविवार को बताया कि पहले रियाजुद्दीन, इजहारुल और...

  • यूपी में फिर कामचलाऊ पुलिस प्रमुख

    ऐसा लग रहा है कि कामचलाऊ या ठेके पर रखे गए अधिकारियों के सहारे प्रशासन चलाने का केंद्र सरकार का फॉर्मूला उत्तर प्रदेश सरकार को भी पसंद आ रहा है। ध्यान रहे केंद्र सरकार ज्यादातर शीर्ष व संवेदनशील पदों पर रिटायर अधिकारियों को कांट्रैक्ट पर रख कर काम चला रही है। ताजा मामला प्रधानमंत्री की सुरक्षा देखने वाली एजेंसी एसपीजी के प्रमुख का है। 1987 बैच के आईपीएस अधिकारी अरुण कुमार सिंह को रिटायर होने से एक दिन पहले कांट्रैक्ट पर एसपीजी प्रमुख नियुक्त किया गया है। बहरहाल, इसी फॉर्मूले पर काम करते हुए उत्तर प्रदेश सरकार पिछले काफी समय...

  • ऐसे तो पुलिस की क्या साख रहेगी?

    क्या अतीक और उसके भाई अशरफ़ की मेडिकल जाँच सुरक्षित माहौल में प्रयागराज के जेल में नहीं हो सकती थी? यदि उनकी मेडिकल जाँच के लिये उनको अस्पताल ले जाना ही था तो एक कड़ा सुरक्षा घेरा क्यों नहीं बनाया गया?  ऐसी क्या मजबूरी थी कि इस जाँच को रात में ही होना था? इस जाँच की सूचना मीडिया को किस ने दी और क्यों दी? ये सूचना इन युवकों तक कैसे पहुँची? कानून-व्यवस्था- हत्यारे युवकों को सीधे न्यायिक हिरासत में क्यों भेजा गया? पुलिस रिमांड क्यों नहीं लिया गया? कुख्यात अपराधी अतीक अहमद के बेटे असद अहमद के एनकाउंटर...

  • अतीक को लाने ले जाने का खेल!

    राजनीतिक घटनाक्रम से अलग एक दूसरा खेल चल रहा है। उत्तर प्रदेश के माफिया डॉन और पूर्व सांसद अतीक अहमद को गुजरात के साबरमती से उत्तर प्रदेश के प्रयागराज लाने और प्रयागराज से वापस साबरमती ले जाने का खेल चल रहा है। 20 दिन में दूसरी बार अतीक को साबरमती से प्रयागराज लाया गया है। पहले मार्च के आखिरी हफ्ते में जब राहुल गांधी को सजा हुई थी और सदस्यता गई थी उस समय चार दिन तक यह ड्रामा चला था। पहली बार सड़क के रास्ते 25 घंटे में अतीक अहमद को साबरमती से प्रयागराज ले जाया गया था। पूरे...

  • लोकगीत से सरकार का डरना!

    राजनीतिक घटनाक्रम से अलग एक दूसरा खेल चल रहा है। उत्तर प्रदेश के माफिया डॉन और पूर्व सांसद अतीक अहमद को गुजरात के साबरमती से उत्तर प्रदेश के प्रयागराज लाने और प्रयागराज से वापस साबरमती ले जाने का खेल चल रहा है। 20 दिन में दूसरी बार अतीक को साबरमती से प्रयागराज लाया गया है। पहले मार्च के आखिरी हफ्ते में जब राहुल गांधी को सजा हुई थी और सदस्यता गई थी उस समय चार दिन तक यह ड्रामा चला था। पहली बार सड़क के रास्ते 25 घंटे में अतीक अहमद को साबरमती से प्रयागराज ले जाया गया था। पूरे...

  • पुलिस में नौकरी पाने वाले रहे अलर्ट, UP पुलिस में कॉन्स्टेबल के 37000 पदों पर जल्द होने जा रही भर्ती

    राजनीतिक घटनाक्रम से अलग एक दूसरा खेल चल रहा है। उत्तर प्रदेश के माफिया डॉन और पूर्व सांसद अतीक अहमद को गुजरात के साबरमती से उत्तर प्रदेश के प्रयागराज लाने और प्रयागराज से वापस साबरमती ले जाने का खेल चल रहा है। 20 दिन में दूसरी बार अतीक को साबरमती से प्रयागराज लाया गया है। पहले मार्च के आखिरी हफ्ते में जब राहुल गांधी को सजा हुई थी और सदस्यता गई थी उस समय चार दिन तक यह ड्रामा चला था। पहली बार सड़क के रास्ते 25 घंटे में अतीक अहमद को साबरमती से प्रयागराज ले जाया गया था। पूरे...

  • और लोड करें