nayaindia parliament security breach सुरक्षा क्यों भंग हुई?
Editorial

सुरक्षा क्यों भंग हुई?

ByNI Editorial,
Share

कुछ नौजवानों ने संसद की सुरक्षा को भंग करने की योजना बनाई। वे इसमें सफल भी हो गए। यह देश की कानून-व्यवस्था मशीनरी पर एक प्रतिकूल टिप्पणी है कि इतनी आसानी से सबसे बड़े स्थलों और सबसे बड़े मौकों पर सुरक्षा व्यवस्था में सेंध लग जाती है।

संसद की सुरक्षा-व्यवस्था संसद पर 22 साल पहले हुए भीषण हमले की बरसी के दिन भंग हुई। यह बात आसानी से गले नहीं उतरती कि सुरक्षा में ऐसी लापरवाही कैसे हो सकती है। खासकर यह देखते हुए कि खालिस्तानी उग्रवादी गुरपतवंत सिंह पन्नूं ने धमकी दे रखी थी कि 13 दिसंबर या उससे पहले फिर संसद को निशाना बनाया जाएगा। अब तक जितनी जानकारियां सामने हैं, उनसे ऐसा कोई संकेत नहीं मिलता कि जिन लोगों ने संसद में घुसपैठ की, उनका पन्नूं या किसी अन्य राजनीतिक संगठन से संबंध है। पुलिस के हवाले से मीडिया में आई सूचनाओं के मुताबिक संसद की सुरक्षा-व्यवस्था भंग करने में शामिल सभी छह लोग देश के अलग-अलग हिस्सों के हैं। उनमें समान पहलू सिर्फ यह है कि वे पढ़े-लिखे हैं जिन्हें अपनी योग्यता के अऩुरूप काम नहीं मिला, वे बेरोजगारी से परेशान रहे, और सभी शहीद भगत सिंह के प्रशंसक हैं। वे सभी सोशल मीडिया के जरिए संपर्क में आए और देश के मौजूदा हालात से अपने असंतोष को जताने के लिए उन्होंने संसद की सुरक्षा को भंग करने की योजना बनाई। वे इसमें सफल भी हो गए।

यह देश की कानून-व्यवस्था मशीनरी पर एक प्रतिकूल टिप्पणी है कि इतनी आसानी से सबसे बड़े स्थलों और सबसे बड़े मौकों पर सुरक्षा व्यवस्था में सेंध लग जाती है। अभी एक महीना नहीं गुजरा, जब अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में क्रिकेट विश्व कप के फाइनल मैच के दौरान एक ऑस्ट्रेलियाई नौजवान फिलस्तीन की आजादी के समर्थन में संदेश देने के लिए तमाम सुरक्षा-व्यवस्था को धता बताते हुए मैदान में घुस गया। ऐसा उस रोज हुआ, जिस दिन खुद प्रधानमंत्री मोदी वहां पहुंचने वाले थे। बहरहाल, संसद पर हुई घटना के साथ एक दूसरा पहलू भी जुड़ा है। इसका संबंध सामाजिक और आर्थिक सुरक्षाओं से है। ये घटना “विकसित भारत” के तमाम शोर के बीच जमीनी स्तर पर रोजमर्रा की बढ़ती मुश्किलों की ओर ध्यान खींचती है। ये मुश्किलें अब कई लोगों- खासकर नौजवानों में असंतोष पैदा कर रही हैं। यह साफ है कि इस हकीकत का सही नजरिए से सामना किए बगैर बाकी सुरक्षाओं को सुनिश्चित करना कठिन हो जाएगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

  • चीन- रूस की धुरी

    रूस के चीन के करीब जाने से यूरेशिया का शक्ति संतुलन बदल रहा है। इससे नए समीकरण बनने की संभावना...

  • निर्वाचन आयोग पर सवाल

    विपक्षी दायरे में आयोग की निष्पक्षता पर संदेह गहराता जा रहा है। आम चुनाव के दौर समय ऐसी धारणाएं लोकतंत्र...

  • विषमता की ऐसी खाई

    भारत में घरेलू कर्ज जीडीपी के 40 प्रतिशत से भी ज्यादा हो गया है। यह नया रिकॉर्ड है। साथ ही...

  • इजराइल ने क्या पाया?

    हफ्ते भर पहले इजराइल ने सीरिया स्थित ईरानी दूतावास पर हमला कर उसके कई प्रमुख जनरलों को मार डाला। समझा...

Naya India स्क्रॉल करें