nayaindia Revanth Reddy Will Take Oath As Telangana Chief Minister On December 7 रेवंत रेड्डी 7 दिसंबर को तेलंगाना के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे
News

रेवंत रेड्डी 7 दिसंबर को तेलंगाना के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे

ByNI Desk,
Share

Revanth Reddy :- कांग्रेस ने कौतूहल खत्म करते हुए मंगलवार को अनुमुला रेवंत रेड्डी को तेलंगाना का मुख्यमंत्री नामित किया। यह घोषणा एआईसीसी महासचिव के.सी. वेणुगोपाल ने मंगलवार शाम को राष्ट्रीय राजधानी में की। उन्होंने कहा, रेवंत रेड्डी 7 दिसंबर को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। उन्होंने अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) के अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे, पार्टी नेताओं सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी और अन्य के प्रति आभार प्रकट करने के लिए ‘एक्स’ का सहारा लिया। वह तेलंगाना के दूसरे मुख्यमंत्री होंगे और के.चंद्रशेखर राव की जगह लेंगे, जिनकी पार्टी बीआरएस राज्य में दो कार्यकाल तक शासन करने के बाद 30 नवंबर को हुए चुनाव में कांग्रेस से सत्ता की लड़ाई हार गई। दिल्ली में पार्टी की घोषणा के तुरंत बाद रेवंत रेड्डी एक होटल से अपने आवास के लिए रवाना हो गए, जहां वह 3 दिसंबर से सभी विधायकों के साथ रह रहे थे।

वह मंगलवार रात को राष्ट्रीय राजधानी के लिए रवाना होंगे। वरिष्ठ नेता उत्तम कुमार रेड्डी और मल्लू भट्टी विक्रमार्क, जो मुख्यमंत्री पद की दौड़ में थे, अभी भी एआईसीसी के तेलंगाना प्रभारी महासचिव माणिकराव ठाकरे और कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डी.के. शिवकुमार के साथ दिल्ली में डेरा डाले हुए हैं। संभावना है कि पार्टी के केंद्रीय नेता रेवंत रेड्डी से परामर्श करने के बाद राज्य मंत्रिमंडल की संरचना पर मुहर लगाएंगे। वेणुगोपाल ने एआईसीसी मुख्यालय में संवाददाताओं से कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष ने तेलंगाना कांग्रेस विधायक दल के नेता के रूप में रेवंत रेड्डी को नामित करने का फैसला किया। वेणुगोपाल ने कहा कि रेवंत रेड्डी ऊर्जावान नेता हैं, जिन्होंने उत्तम कुमार रेड्डी और मल्लू भट्टी विक्रमार्क जैसे अन्य वरिष्ठ नेताओं के साथ मिलकर राज्य में बड़े पैमाने पर प्रचार किया। उन्होंने कहा एआईसीसी को पूरा यकीन है कि नई सरकार की पहली और सबसे महत्वपूर्ण प्राथमिकता तेलंगाना के लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करना है, खासकर हमने लोगों को जो गारंटी दी है।

उन्होंने कहा, “यह एक स्वच्छ और बहुत ऊर्जावान और सक्षम सरकार होने जा रही है जो तेलंगाना के लोगों को अधिकतम शासन प्रदान करने जा रही है। वेणुगोपाल ने उप मुख्यमंत्री और मंत्रियों के बारे में सवालों के जवाब टालते हुए कहा कि पार्टी सभी वरिष्ठ नेताओं को सम्‍मान देगी। उन्होंने कहा यह एक टीम होगी, वन-मैन शो नहीं होगा। यह घोषणा कांग्रेस के नवनिर्वाचित विधायकों द्वारा सीएलपी के नेता की नियुक्ति के लिए एआईसीसी अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को अधिकृत किए जाने के एक दिन बाद हुई। खड़गे ने पार्टी सांसद राहुल गांधी और वेणुगोपाल से परामर्श के बाद और एआईसीसी पर्यवेक्षक डी.के. शिवकुमार द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट को ध्यान में रखते हुए यह निर्णय लिया। शिवकुमार सोमवार को हैदराबाद में विधायकों की बैठक में भी मौजूद थे। रेवंत रेड्डी इस समय तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस कमेटी (टीपीसीसी) के अध्यक्ष हैं।

उन्होंने पार्टी के चुनाव अभियान का नेतृत्व किया। 30 नवंबर को हुए चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने 119 सदस्यीय विधानसभा में 64 सीटें हासिल करके भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) से सत्ता छीन ली। 3 दिसंबर को नतीजे घोषित होने के तुरंत बाद सभी नवनिर्वाचित विधायकों को गाचीबोवली के एला होटल में भेज दिया गया था। हालांकि सोमवार सुबह हुई बैठक में एआईसीसी अध्यक्ष को नेता का नाम तय करने के लिए अधिकृत किया गया, लेकिन सर्वसम्मति नहीं बन पाने के कारण निर्णय में देरी हुई। बैठक के बाद शिवकुमार और अन्य एआईसीसी पर्यवेक्षकों ने व्यक्तिगत विधायकों की राय ली थी।

हालांकि मुख्यमंत्री के शपथ ग्रहण की तैयारी सोमवार शाम राजभवन में की गई थी, लेकिन पार्टी की ओर से कोई घोषणा नहीं होने के कारण योजना रोकनी पड़ी। शिवकुमार सोमवार रात दिल्ली के लिए रवाना हुए थे। उत्तम कुमार रेड्डी और विक्रमार्क को भी मंगलवार को दिल्ली बुलाया गया था। उन्होंने शिवकुमार, वेणुगोपाल और अन्य केंद्रीय नेताओं से मुलाकात की और कथित तौर पर उन्हें आश्‍वासन दिया कि वे पार्टी नेतृत्व के निर्णय के अनुसार चलेंगे। चूंकि नवनिर्वाचित विधायकों का बहुमत रेवंत रेड्डी के पक्ष में बताया जा रहा था और राहुल गांधी ने भी शीर्ष पद के लिए उनका समर्थन किया था, इसलिए पार्टी अध्यक्ष ने उन्‍हें तेलंगाना का मुख्‍यमंत्री नामित किया। (आईएएनएस)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें