nayaindia 42 Killed In Fresh Sectarian Clashes Near South Sudan दक्षिण सूडान के पास ताज़ा सांप्रदायिक झड़पों में 42 लोग मारे गए
News

दक्षिण सूडान के पास ताज़ा सांप्रदायिक झड़पों में 42 लोग मारे गए

ByNI Desk,
Share

Sudan Sectarian Clashes :- अबेई प्रशासनिक क्षेत्र में पिछले हफ्ते पड़ोसी वार्रप राज्य के ट्विक समुदाय के सशस्त्र युवाओं और अबेई के नगोक डिंका के बीच हुई झड़पों के दौरान संयुक्त राष्ट्र के एक शांतिदूत सहित कम से कम 42 लोग मारे गए। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। श‍िन्हुआ समाचार एजेंसी ने बताया।अबेई विशेष प्रशासनिक क्षेत्र के महासचिव राउ मनिएल राउ ने रविवार को कहा कि ट्विक समुदाय के सशस्त्र युवाओं ने अपने आध्यात्मिक नेता गाई माचिएक के प्रति वफादार नुएर युवाओं के सहयोग से नाइनकुएक, मजबोंग और खादियन क्षेत्रों में हमले किए, इसमें 35 लोग घायल हो गए। मैनिएल ने एक साक्षात्कार में श‍िन्हुआ को बताया,”जैसा कि हम इन बर्बर समन्वित हमलों का सामना कर रहे हैं, अबेई विशेष प्रशासनिक क्षेत्र की सरकार हाल ही में राष्ट्रपति साल्वा कीर द्वारा न्गोक डिंका और ट्विक व उनके सहयोगी सशस्त्र युवाओं द्वारा के बीच संघर्ष को समाप्त करने के लिए जारी किए गए राष्ट्रपति आदेश की अवहेलना करने के प्रयास की कड़े शब्दों में निंदा करती है।

18 जनवरी को जारी राष्ट्रपति कीर के आदेश में सुरक्षा बलों से नगोक डिंका और ट्विक समुदायों के बीच संघर्ष को सुलझाने के लिए नुएर आध्यात्मिक नेता गाई माचीक और उनके वफादार नुएर युवाओं को वार्रप राज्य से बाहर निकालने का आह्वान किया गया था। आदेश में सुरक्षा बलों से दोनों युद्धरत समुदायों के राजनेताओं को बुलाने और गिरफ्तार करने का भी आह्वान किया गया, जो दोनों समुदायों के बीच हिंसा भड़काते दिखे। मैनियल ने ट्विक काउंटी और अबेई प्रशासनिक क्षेत्र के बीच सीमा पर तटस्थ सुरक्षा बलों की शीघ्र तैनाती का आह्वान किया। वॉर्रैप राज्य के ट्विक काउंटी के कमिश्नर साइमन अगुएक चान ने कहा कि उनके युवा अबेई प्रशासनिक क्षेत्र में हुई हिंसा में शामिल नहीं थे। अगुएक ने कहा कि लड़ाई अबेई के भीतर रहने वाले सशस्त्र नुएर युवाओं और स्थानीय नगोक डिंका युवाओं के बीच थी। उन्‍होंने कहा,”शनिवार को अबेई युवाओं के साथ लड़ने वाले नुएर सशस्त्र युवा वही हैं, जो ट्विक में लोगों को मार रहे हैं, उनके पास भारी मशीनगनें हैं और मेरा मानना ​​है कि वे संगठित बलों से हैं, क्योंकि उनके पास जो हथियार हैं वे नागरिकों के लिए नहीं हैं।

अबेई के लिए संयुक्त राष्ट्र अंतरिम सुरक्षा बल (यूएनआईएसएफए) ने शनिवार को अबेई प्रशासनिक क्षेत्र में हुए सशस्त्र हमलों की श्रृंखला की निंदा की, इसके परिणामस्वरूप घाना के एक संयुक्त राष्ट्र शांतिदूत की मौत हो गई। “मिशन इस बात की पुष्टि करता है कि न्यिनकुएक, माजबोंग और खादियन इलाकों में हुई अंतर-सांप्रदायिक झड़पों में लोग हताहत हुए और हिंसा में फंसे लोगों को सुरक्षा प्रदान करने के लिए नागरिकों को यूएनआईएसएफए ठिकानों पर पहुंचाया गया। इसमें कहा गया है कि अगोक मेंयूएनआईएसएफए बेस पर एक सशस्त्र समूह ने हमला किया था जिसे शांति सैनिकों ने खदेड़ दिया था। यूएनआईएसएफए ने इन हमलों के लिए जिम्मेदार परिस्थितियों की त्वरित और गहन जांच का आह्वान किया, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि सभी अपराधियों को जवाबदेह ठहराया जाए। नवंबर 2023 में, अबेई प्रशासनिक क्षेत्र में नगोक डिंका और ट्विक समुदायों के बीच घातक सांप्रदायिक लड़ाई में 32 लोग मारे गए थे। दोनों समुदाय वर्षों से अनीत सीमा क्षेत्र में भूमि की एक पट्टी के स्वामित्व के लिए प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं, जो दोनों समुदायों को अलग करती है। अबयेई प्रशासनिक क्षेत्र दक्षिण सूडान और उसके पड़ोसी सूडान के बीच एक विवादित क्षेत्र बना हुआ है, जहां प‍िछले साल 15 अप्रैल से संघर्ष जारी है। (आईएएनएस)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें