Naya India

केजरीवाल की एनआईए जांच?

ईडी की पूछताछ

नई दिल्ली। जेल में बंद दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं। दिल्ली के उप राज्यपाल विनय कुमार सक्सेना ने दिल्ली मुख्यमंत्री केजरीवाल के खिलाफ राष्ट्रीय जांच एजेंसी यानी एनआईए की जांच की सिफारिश की है। उन्होंने कहा है कि केजरीवाल ने प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन ‘सिख फॉर जस्टिस’ से राजनीतिक चंदा लिया है। उप राज्यपाल ने केजरीवाल के खिलाफ एनआईए जांच की सिफारिश ‘वर्ल्ड हिंदू फेडरेशन’ के राष्ट्रीय महासचिव आशू मोंगिया की शिकायत पर की है।

असल में उप राज्यपाल के पास ‘वर्ल्ड हिंदू फेडरेशन’ के राष्ट्रीय महासचिव आशू मोंगिया की शिकायत आई थी, जिसमें कहा गया था कि अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी ने 2014 से 2022 के बीच खालिस्तानी आतंकवादी समूहों से 1.6 करोड़ डॉलर यानी 133 करोड़ रुपए लिए थे, ताकि देवेंद्र पाल भुल्लर की रिहाई कराई जा सके। इस शिकायत के आधार पर उप राज्यपाल ने एनआईए जांच की सिफारिश की है।

आशू मोंगिया ने उप राज्यपाल को जो चिट्ठी भेजी थी उसमें सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर आप के पूर्व कार्यकर्ता डॉ. मुनीष कुमार रायजादा के कुछ पोस्ट का प्रिंटआउट, एक चिट्ठी और एक पेनड्राइव भी थी। अपनी शिकायत में आशू मोंगिया ने पेनड्राइव के एक वीडियो का जिक्र किया था, जिसमें खालिस्तानी आतंकवादी और ‘सिख फॉर जस्टिस’ का संस्थापक गुरपतवंत सिंह पन्नू ने यह दावा किया था कि अरविंद केजरीवाल की पार्टी आप ने 2014 से 2022 के बीच खालिस्तानी समूहों से 1.6 करोड़ डॉलर यानी 133.60 करोड़ रुपए की फंडिंग ली।

इस इंटरव्यू में यह दावा भी किया गया था कि 2014 में केजरीवाल ने न्यूयॉर्क के गुरुद्वारा रिचमंड हिल में खालिस्तान समर्थक सिखों से मुलाकात की थी। इस मीटिंग में केजरीवाल ने वादा किया था कि अगर आप को खालिस्तानी समूहों से फंडिंग मिलती रहेगी तो वे देवेंद्र पाल भुल्लर की रिहाई में मदद करेंगे। शिकायत में यह भी लिखा है कि मुनीष कुमार रायजादा, जो कि 2014 में आप कार्यकर्ता थे, उन्होंने एक्स पर कई ट्विट्स में न्यूयॉर्क के रिचमंड हिल गुरुद्वारे में अरविंद केजरीवाल और सिख नेताओं की मुलाकात की तस्वीरें शेयर की थीं। मुनीष ने अपने ट्विट्स में यह भी कहा था कि पब्लिक मीटिंग्स के अलावा इस गुरुद्वारे में केजरीवाल ने खालिस्तान समर्थक सिख नेताओं से अकेले में भी मुलाकात की थी।

चिट्ठी में यह भी लिखा है कि केजरीवाल ने तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को चिट्‌ठी लिख कर भुल्लर के लिए दया की मांग की थी। इस मामले में अरविंद केजरीवाल की तरफ से इकबाल सिंह के नाम लिखी एक चिट्‌ठी को भी शामिल किया गया है। 27 जनवरी 2014 को लिखी इस चिट्‌ठी में उन्होंने लिखा है कि उनकी सरकार इस मुद्दे के प्रति संवेदनशील है और वे पूरी कोशिश करेंगे कि न्याय मिले। उप मुख्यमंत्री कार्यालय ने केंद्रीय गृह मंत्रालय के नाम लिखे पत्र में लिखा है कि उन्हें जो शिकायत मिली है उसमें अपील की गई है कि आम आदमी पार्टी पर लगे इन आरोपों की गहराई से जांच की जाए।

Exit mobile version