nayaindia Uttarkashi Tunnel Accident Next Two Hours Very Important उत्तरकाशी टनल हादसा : अगले दो घंटे काफी अहम, सुरंग में डाले जाएंगे बचे हुए दो पाइप
News

उत्तरकाशी टनल हादसा : अगले दो घंटे काफी अहम, सुरंग में डाले जाएंगे बचे हुए दो पाइप

ByNI Desk,
Share

Uttarkashi Tunnel Accident :- उत्तरकाशी के सिलक्यारा टनल हादसे के 13वें दिन शुक्रवार को सबसे बड़ी अपडेट सामने आई है। रेस्क्यू ऑपरेशन में जुड़ी टीमों को उम्मीद है कि अगले कुछ घंटे काफी अहम हैं। उम्मीद जताई जा रही है कि अगले कुछ घंटे में सुरंग के अंदर फंसे 41 मजदूरों को सुरक्षित बाहर निकाला जा सकता है। दरअसल, अभी तक 46 मीटर तक ड्रिलिंग करके पाइप डाल दिए गए हैं।

लेकिन, गुरुवार से रेस्क्यू ऑपरेशन में दिक्कतें आ रही हैं। केंद्रीय सड़क परिवहन राजमार्ग मंत्रालय के अपर सचिव महमूद अहमद के मुताबिक अगले दो घंटे में सुरंग के भीतर बचे हुए दो पाइप डाल दिए जाएंगे। ऑगर मशीन भी सही कर दिया गया है। उम्मीद है कि अगर सबकुछ सही तरीके से चला तो जल्द ही रेस्क्यू ऑपरेशन में बड़ी सफलता मिल सकती है। अगर टनल हादसे की बात करें तो 13 दिनों से लगातार रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। करीब 48 मीटर हिस्से में पाइप अंदर जा चुके हैं, आगे के 12 मीटर का हिस्सा काफी अहम है। गुरुवार को ऑगर मशीन आगे नहीं बढ़ पा रही थी। इसका कारण मशीन के रास्ते में लोहे की रॉड आना बताया गया। इस दौरान ऑगर मशीन भी खराब हो गई थी। दिल्ली से आई एक्सपर्ट की टीम ने मशीन सही किया। 

दोबारा ऑगर मशीन से ड्रिलिंग शुरू हुई तो मशीन का प्लेटफॉर्म ढह गया था। जिस कारण गुरुवार को रातभर ड्रीलिंग नहीं हो सकी। दूसरी तरफ मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बताया कि रेस्क्यू ऑपरेशन अंतिम चरण में है। पीएम मोदी लगातार मजदूरों के बारे में पूरी जानकारी ले रहे हैं। केंद्र और राज्य सरकार की सभी एजेंसियां मिलकर रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटी है। उम्मीद है कि जल्द ही यह ऑपरेशन पूरा होगा। सभी मजदूर बाहर आ जाएंगे। बड़ी बात यह है कि मजदूरों को बाहर निकालने के लिए एनडीआरएफ ने ट्रायल भी किया है। इस दौरान पहिए लगे स्ट्रेचर की टेस्टिंग भी की गई है। बता दें कि 12 नवंबर को दीपावली की सुबह से चारधाम रोड परियोजना के काम में लगे 41 श्रमिक मलबा आने के कारण सुरंग में फंसे हैं। इनको सकुशल बाहर निकालने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन चल रहा है। (आईएएनएस)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें