nayaindia parliament security breach आरोपियों को विपक्ष से जोड़ने की बेचैनी
Politics

आरोपियों को विपक्ष से जोड़ने की बेचैनी

ByNI Political,
Share

जिस दिन से संसद की सुरक्षा में सेंध लगी है उस दिन से भाजपा के नेता और उसका आईटी सेल किसी तरह से आरोपियों को विपक्ष के साथ जोड़ने के लिए बेचैन है। संसद की सुरक्षा में सेंध लगा कर चार लोगों के अंदर जाने और दो लोगों के सदन में जाकर धुआं फैला देने के मामले में कायदे से सिर्फ दो पहलू उभरते हैं। पहला, संसद की सुरक्षा व्यवस्था का और दूसरा, आरोपियों द्वारा उठाए गए भ्रष्टाचार, महिला सुरक्षा, मणिपुर आदि के मुद्दों का। लेकिन दुर्भाग्य से इन दोनों मुद्दों पर भाजपा चुप है और इसकी बजाय आरोपियों को विपक्ष के साथ जोड़ने के लिए बेचैन है।

कितनी हैरानी की बात है कि भाजपा इस बात का प्रचार कर रही है एक आरोपी ललित झा की फोटो तृणमूल कांग्रेस के सांसद तापस रॉय के साथ है। सोचें, सरस्वती पूजा के दौरान खींची गई फोटो से भाजपा तृणमूल को कठघरे में खड़ा कर रही है, जबकि खुद भाजपा के सांसद प्रताप सिम्हा ने आरोपियों के संसद में जाने का पास बनवाया था! एक आरोपी महिला नीलम चूंकि किसान आंदोलन में शामिल थी इसलिए उसको विपक्ष के साथ जोड़ा जा रहा है। उसे हरियाणा के एक कांग्रेस नेता का करीबी बताया जा रहा है। राहुल गांधी ने कह दिया कि सुरक्षा में चूक अपनी जगह है लेकिन इसका असली कारण बेरोजगारी और महंगाई है तो भाजपा के लोगों ने कहना शुरू कर दिया कि अब यह संदेह मिट गया कि आरोपियों के पीछे कौन है। इस तरह की बातों से भाजपा ध्यान भटका रही है ताकि मुख्य मुद्दे पर बहस नहीं हो सके।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें