रविशंकर प्रसाद को हटाए जाने का रहस्य!

removal Ravi shankar prasad  : वैसे तो उम्र के फैक्टर के आधार पर थावरचंद गहलोत को हटाने की बात छोड़ दें तो बाकी किसी भी मंत्री को न तो हटाने का कारण समझ में आता है और न उन्हीं के जैसे दूसरे लोगों को मंत्री बनाने का कारण समझ में आता है, पर सबसे ज्यादा हैरानी रविशंकर प्रसाद को हटाए जाने पर है। यह बड़ा रहस्य है कि आखिर उनको क्यों हटाया गया। क्या इसलिए कि वे ट्विटर से उलझ गए थे और उसकी वजह से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सरकार की छवि प्रभावित हो रही थी? लेकिन ट्विटर और दूसरी सोशल मीडिया कंपनियों से उलझने का मैंडेट तो केंद्र सरकार का था ही तभी फरवरी में नए आईटी कानून बनाए गए थे, फिर इसमें रविशंकर प्रसाद की क्या गलती थी? यह भी पढ़ें: सबके लिए एक-जैसा कानून कब बनेगा? उलटे उनकी उपलब्धियां बड़ी हैं, जिनकी वजह से उनको छोटी-मोटी गलतियों के बावजूद सरकार में बनाए रखा जाना चाहिए था। जैसे वे मंत्री बनने से पहले अयोध्या मामले में रामलला के वकील थे। अगर अयोध्या में मंदिर बनने का रास्ता साफ हुआ है तो उसमें बड़ी भूमिका उनकी रही है। इसी तरह उनके कानून मंत्री रहते राफेल का मामला उठा और… Continue reading रविशंकर प्रसाद को हटाए जाने का रहस्य!

कई-कई राज्यमंत्री क्या करेंगे?

modi cabinet state minister :  जिस समय केंद्र और राज्यों की सरकारों में मंत्रियों की अधिकतम सीमा तय नहीं थी तब एक समय ऐसा आया था कि बिहार में लालू प्रसाद ने अपनी पत्नी राबड़ी देवी की सरकार में 90 मंत्री बनवा दिए थे। इस पर सफाई देते हुए उन्होंने कहा था कि कहीं भूतपूर्व न हो जाएं इसलिए अभूतपूर्व मंत्रिमंडल बनवा दिया है। क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी ऐसी चिंता थी, जो उन्होंने ऐसा अभूतपूर्व मंत्रिमंडल बनाया है? सात साल के शासन में यह उनका सबसे बड़ा मंत्रिमंडल है। केंद्र सरकार में प्रधानमंत्री सहित अधिकतम 81 मंत्री हो सकते हैं और इस बार सरकार में 77 मंत्री हैं। सोचें, 2019 में मोदी ने 57 सदस्यों का मंत्रिमंडल बनाया था, जो बाद में घट कर 53 सदस्यों का हो गया था। पिछले कई महीनों से वे इतने मंत्रियों से ही काम चला रहे थे और अब अचानक 77 मंत्री बना दिए हैं। हैरानी की बात यह है कि इसके बावजूद आधा दर्जन मंत्रियों के पास अतिरिक्त प्रभार हैं। इस बात का ठोस कारण नहीं है कि क्यों एक-एक कैबिनेट मंत्री के नीचे चार-चार राज्यमंत्री रखे गए हैं और कई कैबिनेट मंत्रियों के पास अतिरिक्त प्रभार रखा गया है! क्या जिनको… Continue reading कई-कई राज्यमंत्री क्या करेंगे?

बाहर के, नए चेहरों की भरमार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जो नया मंत्रिमंडल ( modi govt cabinet new ) बनाया है वह एक बेहद खास खूबी वाला है। इसमें दो-चार अपवादों को छोड़ कर लगभग सभी मंत्री नए और उनके प्रति निष्ठा रखने वाले हैं। ऐसे तमाम नेता, जिनसे किसी जमाने में भाजपा की पहचान होती थी या ऐसे नेता, जो कभी अटल बिहारी वाजपेयी के नवरत्नों में शामिल होते थे वे सब बाहर हो गए हैं। यही स्थिति पार्टी की भी है। लेकिन अभी सरकार की बात हो रही है तो उसी के चेहरों पर फोकस रहना चाहिए। सरकार में शामिल किए गए ज्यादातर नेता नए हैं, अपरिचित हैं या बाहरी हैं। इसमें संदेह नहीं है कि नए नेताओं को आगे किया जाना चाहिए क्योंकि उससे अगली पीढ़ी का नेतृत्व बनता है। लेकिन उसके लिए पहली शर्त नेता की योग्यता और उसकी लोकप्रियता होती है। जिन नए लोगों को मंत्री बनाया गया है उनमें से थोड़े से लोगों को छोड़ कर बाकियों के बारे में यह पक्के तौर पर नहीं कहा जा सकता है कि वे बहुत लोकप्रिय या भविष्य की संभावना वाले नेता हैं। यह भी पढ़ें: नया कैबिनेट, भाजपा-संघ को ठेंगा! इसमें भाजपा के लोगों की भी कमी है क्योंकि अनेक मंत्री ऐसे… Continue reading बाहर के, नए चेहरों की भरमार

हर्षवर्धन को बलि का बकरा बना गया: आईएएनएस-सी वोटर स्नैप पोल में 54 फीसदी लोगों ने कहा

नई दिल्ली | मोदी कैबिनेट के विस्तार में पूर्व स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ( Health Medical Minister Harshvardhan ) को कैबिनेट से बाहर किए जाने को कई लोगों ने नहीं स्वीकारा है। आईएएनएस सी वोटर स्नैप पोल के अनुसार, 54 प्रतिशत से अधिक लोगों का कहना है कि कोविड-19 महामारी के दौरान हुई कठिनाइयों के लिए हर्षवर्धन अकेले जिम्मेदार नहीं हैं। उन्हें सिर्फ बलि का बकरा बनाया जा रहा है। हालांकि, 29 प्रतिशत लोग हालांकि इस धारणा से असहमत भी थे। सर्वेक्षण के नमूना का आकार 1200 है और यह सभी क्षेत्रों में वयस्क उत्तरदाताओं के साथ साक्षात्कार पर आधारित है। पेट्रोल-डीजल में राहत की उम्मीद कम सर्वे में यह भी कहा गया है कि नए मंत्रियों के आने के बावजूद पेट्रोल और डीजल की कीमतों में किसी भी तरह की राहत की उम्मीद कम है। करीब 55 प्रतिशत लोगों ने कहा कि पेट्रोलियम मंत्री को हटाने और हरदीप पुरी को इस पद पर नियुक्त किए जाने से पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों पर रोक नहीं लगेगी जबकि 34 प्रतिशत मानते हैं कि इस मूल्यवृद्धि पर मंत्रिमंडल विस्तार से रोक सम्भव है। Bank Holidays : बैंकों में कल से 15 दिन तक अवकाश! आज ही निपटा लें बैंक से संबंधित… Continue reading हर्षवर्धन को बलि का बकरा बना गया: आईएएनएस-सी वोटर स्नैप पोल में 54 फीसदी लोगों ने कहा

मोदी मंत्रिमंडल का विस्तार आज!

modi cabinet expansion : नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी दूसरी सरकार का पहला विस्तार बुधवार को कर सकते हैं। जानकार सूत्रों के मुताबिक बुधवार को शाम छह बजे नए मंत्रियों को शपथ दिलाई जा सकती है। यह भी बताया जा रहा है कि कुछ मंत्रियों की छुट्टी हो सकती है और कुछ के विभाग बदले जा सकते हैं। मोदी मंत्रिमंडल में बदलाव की चर्चाओं को इस बात से भी बल मिला है कि कैबिनेट मंत्री थावरचंद गहलोत को कर्नाटक का राज्यपाल बना दिया गया है। बहरहाल, फेरबदल और विस्तार की चर्चाओं के बीच संभावित मंत्रियों का दिल्ली पहुंचना शुरू हो गया है। कांग्रेस छोड़ कर भाजपा में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया को अचानक दिल्ली बुला लिया गया है। वे इंदौर में महाकाल के दर्शन के लिए गए थे, जहां से उनको दिल्ली आने के लिए कहा गया। माना जा रहा है कि नए मंत्रियों की सूची में उनका नाम शामिल हैं। मध्य प्रदेश से उनके अलावा जबलपुर के सांसद राकेश सिंह का नाम भी शामिल बताया जा रहा है। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री नारायण राणे और असम के पूर्व मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल भी दिल्ली पहुंच चुके हैं। इन दोनों के भी मंत्री बनने की चर्चा है। modi cabinet expansion… Continue reading मोदी मंत्रिमंडल का विस्तार आज!

आठ राज्यों के राज्यपाल बदले

new governor appointed : नई दिल्ली। केंद्र सरकार की सिफारिश पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने एक साथ आठ राज्यों के राज्यपाल बदलने का आदेश जारी किया है। केंद्र सरकार में सामाजिक अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत को कर्नाटक का राज्यपाल बनाया गया है। वे वजूभाई वाला की जगह लेंगे। करीब एक साल से खाली मध्य प्रदेश के राजभवन में गुजरात भाजपा के नेता मंगुभाई छगनभाई पटेल को भेजा गया है। लालजी टंडन के निधन के बाद से उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल मध्य प्रदेश का कार्यभार संभाल रही थीं। Joe Biden ने लॉस एंजिल्स के मेयर Eric Garcetti को बनाया भारत में अमेरिका का नया राजदूत मोदी की नई कैबिनेट के 90 प्रतिशत मंत्री करोड़पति हैं, 42% पर आपराधिक मामले : ADR की रिपोर्ट राष्ट्रपति भवन की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गोवा के भाजपा नेता और पूर्व विधानसभा अध्यक्ष राजेंद्र विश्वनाथ अरलेकर को हिमाचल प्रदेश का राज्यपाल नियुक्त किया है। राष्ट्रपति ने आंध्र प्रदेश के भाजपा नेता डॉ. हरि बाबू कंभमपति को मिजोरम का राज्यपाल नियुक्त किए जाने को मंजूरी दी है। बयान में कहा गया है कि मिजोरम के राज्यपाल पीएस पिल्लै को वहां से हटा कर, गोवा का… Continue reading आठ राज्यों के राज्यपाल बदले

Cabinet Expansion in India : कैबिनेट के लिए दिलचस्प नामों की चर्चा

Cabinet Expansion in India : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी कैबिनेट का विस्तार पता नहीं कब करेंगे और करेंगे भी या नहीं लेकिन उससे पहले नामों को लेकर खूब चकल्लस चल रही है। चूंकि मोदी ने मीडिया को अपने प्रशासन से दूर रखा है इसलिए उनके किसी फैसले की अग्रिम जानकारी मीडिया को नहीं मिल पाती है। यूपीए की सरकार में तो हफ्तों पहले लोगों को पता चल जाता था कि कौन-कौन मंत्री बनेगा और कुछ पत्रकार तो मंत्रियों के विभाग भी तय भी कराने लगते थे। यह काम मोदी की सरकार में नहीं हो रहा है। फिर भी अंदाजे पर या इधर-उधर के नेताओं से बातें सुन कर कुछ नामों की अटकलें लगाई जा रही हैं। कुछ नाम तो मीडिया में बहुत चर्चा में आ चुके हैं लेकिन कुछ नामों की कम चर्चा हुई है और कुछ बेहद दिलचस्प नाम हैं। यह भी पढ़ें: महाराष्ट्र में चुनाव की क्या जल्दी है? यह भी पढ़ें: आय कर की नई साइट किसका फितूर! जैसे सबसे दिलचस्प और नया नाम मनोज सिन्हा का है। वे जम्मू कश्मीर के उप राज्यपाल हैं और उनके जिम्मे में राज्य में राजनीतिक प्रक्रिया की बहाली का जिम्मा है। लेकिन उत्तर प्रदेश में एके शर्मा को लेकर जो… Continue reading Cabinet Expansion in India : कैबिनेट के लिए दिलचस्प नामों की चर्चा

बिहार से बनेंगे सबसे ज्यादा मंत्री!

पता नहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी सरकार में विस्तार कब करेंगे, लेकिन जब भी करेंगे तो संभव है कि बिहार से सबसे ज्यादा मंत्री बनेंगे। भाजपा और उसकी सहयोगी पार्टियों से जुड़े जानकार नेताओं ने कैबिनेट विस्तार की नई तारीख बताई है। कहा जा रहा है कि 24 या 25 जून को कैबिनेट विस्तार होगा और उसी हिसाब से बिहार के नेता शपथ लेने की तैयारी कर रहे हैं। हालांकि अभी कुछ भी तय नहीं है। यह भी पढ़ें: लोजपा का नेता कौन- चिराग या पारस? जनता दल यू को सरकार में जगह मिलेगी या नहीं और  मिलेगी तो कितने मंत्रियों का कोटा तय होगा यह तय नहीं है पर जदयू से तीन नेता तैयारी में हैं। इसी तरह भाजपा से कम से कम दो और चिराग पासवान से अलग होकर बने लोजपा गुट से एक नेता मंत्री पद की शपथ लेने की तैयारी कर रहे हैं। यह भी पढ़ें: सपा का तालमेल छोटी पार्टियों के साथ नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यू ने 30 मई 2019 को भी तीन मंत्री पद की मांग की थी और अब भी कहा जा रहा है कि जदयू की मांग तीन मंत्री पद की है। अगर इस पर सहमति बनती है तो… Continue reading बिहार से बनेंगे सबसे ज्यादा मंत्री!

सुशील मोदी की मंत्री बनने की बेचैनी

बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी को जब इस बार राज्य सरकार में जगह नहीं मिली और पार्टी आलाकमान ने उनको राज्यसभा में भेजा तो वे इस तैयारी के साथ दिल्ली आए थे कि आते ही केंद्र में वित्त मंत्री बनेंगे। लेकिन छह महीने बाद भी मंत्री पद मृग मरीचिका की तरह दिख रही है। अभी सरकार में फेरबदल की सुगबुगाहट नहीं है और अगर मंत्रिमंडल में विस्तार होता भी है तो उन्हें कोई अहम पद मिलेगा, इसकी चर्चा नहीं है। सो, वे बुरी तरह से बेचैन और बौखलाए हुए से हैं। तभी वे लगातार ट्विट करके किसी तरह से पार्टी आलाकमान को खुश करने में लगे रहते हैं। उनके ट्विट का एकमात्र निशाना जेल में बंद लालू प्रसाद या एम्स में इलाज करा रहे बीमार लालू प्रसाद होते हैं। लालू प्रसाद के जमानत मिलने के बाद किए अपने बेसिरपैर के ट्विट के लिए वे निशाने पर आए थे। अब एक बार फिर वे निशाने पर हैं धानमंत्री नरेंद्र मोदी को खुश करने वाले ट्विट की वजह से। सुशील मोदी ने ट्विट किया कि पोलिया का टीका बनाने में दुनिया के 50 साल लग गए, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुशल नेतृत्व में भारत ने एक साल के अंदर… Continue reading सुशील मोदी की मंत्री बनने की बेचैनी

और लोड करें