काबुल हमले की इस आतंकी संघठन ने तस्वीर शेयर करते हुए ली जिम्मेवारी, भारत का आया ये रिएक्शन …

भारत ने अफगानिस्तान की राजधानी काबुल स्थित हवाई अड्डा के बाहर हुए बम विस्फोट की घटनाओं की कड़े शब्दों में निंदा की है. भारत सरकार की ओर से आधिकारिक तौर….

काबुल एयरपोर्ट हमले के बाद आया बाइडन का रिएक्शन, कहा- हम तुम्हें पकड़कर इसकी सजा देंगे

राष्ट्रपति ने कहा कि काबुल में हामिद करज़ई अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे और उसके पास एक होटल पर हुए भयावह हमले के पीछे ISIS का हाथ है.

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा- तय समयसीमा के बाद भी अफगानिस्तान में रुकेंगे सैनिक

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा है कि वे अफगानिस्तान में तब तक सैनिकों को रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं, जब तक प्रत्येक अमेरिकी नागरिक को सुरक्षित बाहर नहीं निकाल लिया जाता. उन्होंने साफतौर….

जब स्वार्थ सर्वोपरि हों

विश्व व्यापार संगठन की इस हफ्ते हुई बैठक में कोविड-19 वैक्सीन के उत्पादन को पेटेंट मुक्त करने की कोशिशें नाकाम रहीं। जेनेवा में हुई बैठक में विभिन्न देशों के बीच सहमति नहीं बन पाई। कोरोना वैक्सीन को पेटेंट मुक्त करने का प्रस्ताव सबसे पहले भारत और दक्षिण अफ्रीका ने रखा था।

अजब- गजब: चुनाव हारने के बाद पाकिस्तान शिफ्ट हो गए डोनाल्ड ट्रंप !

इस्लामाबाद । पाकिस्तान में इन दिनों सोशल मीडिया में एक व्यक्ति छाया हुआ है. बताया जा रहा है कि यह आदमी पूरी तरह से अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की तरह दिखता है. हालांकि एक नजर में इस व्यक्ति को देखकर कोई भी धोखा खा सकता है. लेकिन इस के पहनावे को देखकर यह स्पष्ट हो जाता है किया व्यक्ति डोनाल्ड ट्रंप तो नहीं हो सकता. बता दें कि सोशल मीडिया में वायरल हो रहे इस व्यक्ति का नाम सलीम है. लेकिन उसकी तस्वीरें वायरल होने के बाद लोग अब इसे ट्रंप के नाम से पुकारने लगे हैं. अमेरिका का राष्ट्रपति जैसा देख कर खुश है सलीम दुनिया भर में भले ही डोनाल्ड ट्रंप की छवि विवादित रही है. इसके बाद भी सलीम अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की तरह दिखने को लेकर काफी खुश है. उसका कहना है कि मुझे खुद नहीं पता था कि मैं किसी बड़ी शख्सियत के जैसे दिखता है. सलीम ने बताया कि उसने आज तक डोनाल्ड ट्रंप की तस्वीर नहीं देखी थी लेकिन जब लोगों ने उसे ट्रंप कहकर पुकारना शुरू कर दिया तो फिर उसने घरवालों को यह बात बताई. इसके बाद घर वालों ने उसे डोनाल्ड ट्रंप की तस्वीर दिखाई… Continue reading अजब- गजब: चुनाव हारने के बाद पाकिस्तान शिफ्ट हो गए डोनाल्ड ट्रंप !

स्वास्थ्य पर करो राजनीति, बनाओ मुद्दा

एक दशक से ज्यादा समय तक बीएसपी की राजनीति के बाद नरेंद्र मोदी ने विकास और अच्छे दिन का वादा किया। उन्होंने गुजरात मॉडल पूरे देश में बेचा। लेकिन उसमें भी स्वास्थ्य प्राथमिकता नहीं था। गुजरात की अपनी स्वास्थ्य व्यवस्था कैसी है इसकी पोल कोरोना वायरस की महामारी के समय हाई कोर्ट में हुई सुनवाइयों से खुल गई है। यह भी पढ़ें: विपक्ष में क्या हाशिए में होगी कांग्रेस? कोरोना वायरस की महामारी ने पूरी दुनिया के राजनीतिक विमर्श को बदल दिया है। अब दुनिया की राजनीति स्वास्थ्य और चिकित्सा के ईर्द-गिर्द घूम रही हैं। दशकों या सदियों तक मुख्यधारा में उपेक्षित रहा स्वास्थ्य का क्षेत्र ही अब राजनीति का केंद्र है। दुनिया के सभ्य और विकसित देशों में तो फिर भी लोगों का स्वास्थ्य राजनीतिक विमर्श का हिस्सा रहा है लेकिन विकासशाली और अविकसित देशों में यह कभी भी राजनीतिक विमर्श का केंद्र नहीं रहा। भारत में पिछले तीन दशक में राजनीति जरूर बदली है लेकिन एकाध राज्यों को छोड़ दें तो राष्ट्रीय स्तर पर स्वास्थ्य का मुद्दा चर्चा का केंद्र नहीं रहा है। पार्टियां लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध करने के वादे नहीं करती हैं और न स्वास्थ्य पर खर्च बढ़ाने का वादा किया जाता है। तीन दशक… Continue reading स्वास्थ्य पर करो राजनीति, बनाओ मुद्दा

भारत क्यों नहीं चीन से सवाल पूछता?

कोरोना वायरस की उत्पत्ति की जांच की जरूरत से भारत सरकार ने सहमति जताई है। अमेरिका में सबसे पहले इसकी मांग उठी और अब यूरोप, ब्रिटेन से लेकर ऑस्ट्रेलिया तक से इसकी मांग उठ रही है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अपनी खुफिया एजेंसियों को 90 दिन में इसकी जांच करने और रिपोर्ट देने को कहा है। भारत ने इससे सहमति जताई है लेकिन उसके बाद चुप्पी साध ली है। भारत की ओर चीन का नाम नहीं लिया जा रहा है और उससे सवाल पूछा जा रहा है। अब सवाल है कि अमेरिका सवाल पूछ रहा है लेकिन पड़ोसी और प्रतिद्वंद्वी होने के बावजूद भारत सवाल नहीं पूछ रहा है, ऐसा क्यों? इसका जवाब भाजपा के सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी ने दिया है। स्वामी ने कहा है कि अमेरिका ने चीन के वुहान इंस्टीच्यूट ऑफ वायरोलॉजी की रिसर्च को फंडिंग दी थी इसलिए वह सवाल पूछ रहा है लेकिन भारत में इसका उलटा हुआ है। स्वामी का कहना है कि चीन के वुहान इंस्टीच्यूट ने वायरस पर रिसर्च के लिए भारत की संस्था टाटा इंस्टीच्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च यानी टीआईएफआर को फंड किया था और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मौजूदा मुख्य वैज्ञानिक सलाहकारा विजय राघवन भी नगालैंड के वुहान प्रोजेक्ट से… Continue reading भारत क्यों नहीं चीन से सवाल पूछता?

Corona Crisis: अमेरिका ने फिर दिखाया कि वह दोस्त नहीं एक व्यापारी देश है, भारत सरकार को भी मिला सबक

New DelhI: भारत में कोरोना से स्थिति किसी से भी छिपी हुई नहीं है. भारत की मदद के लिए दुनिया के कई देशों ने हाथ बढ़ाएं हैं.. यहां तक कि भारत का प्रतिद्वंदी माना जाने वाले देश चीन ने भी भारत हर संभव मदद पहुंचाने की पेशकश की है. रिस से लेकर प्रांस ने भी मदद के हाथ बढ़ाएं हैं. लेकिन ऐसे बुरे हालातों में अमेरिका ने एक बार फिर यह साबित कर दिया है कि वह किसी का दोस्त नहीं बल्कि एक व्यापारी देश है. दरअसल, भारत में कोरोना से जो स्थिति उत्पन्न हुई है उसका सिर्फ एक ही इलाज कोरोना वैक्सीन दिखाई दे रहा है. लेकिन कोरोना वैक्सीन तैयार करने वाली कंपनियों को भी अब कच्चे माल में कमी हो रही है.  ऐसे में जब भारत ने अमेरिका का रुख किया तो अमेरिका ने मदद से साफ इनकार कर दिया है. क्या कहा अमेरिका ने भारत में कोरोना वैक्सीन तैयार कर रही कंपनियों ने सरकार के समक्ष अपनी परेशानियां रखी कि उन्हें कच्चा माल उपलब्ध नहीं हो पा रहा है. ऐसे में तो भारत सरकार ने मदद के लिए अमेरिका की ओर देखा.  लेकिन अमेरिका ने यह कहते हुए साफ मना कर दिया कि अभी के हालातों में… Continue reading Corona Crisis: अमेरिका ने फिर दिखाया कि वह दोस्त नहीं एक व्यापारी देश है, भारत सरकार को भी मिला सबक

पुतिन है हत्यारा: बाइडेन

अमेरिका और रूस के संबंधों में बड़ा तनाव आ गया है। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को हत्यारा कह दिया है

चीन के प्रति अमेरिका का बदला रुख

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने चीन के राष्ट्रपति शी जिनफिंग से दो घंटे तक बातचीत की। इसे लेकर कई किस्म की खबरें आईं।

बात हुई, उत्साह गायब

लंबे इंतजार के बाद आखिरकार अमेरिका के नए राष्ट्रपति जो बाइडेन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फोन किया। लेकिन इसको लेकर भारत सरकार में ज्यादा उत्साह नहीं देखा गया है।

अमेरिका वापस आ गया है!

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने दो रोज पहले अपनी विदेश नीति के बारे में पहला भाषण दिया। इससे साफ संकेत मिला कि बाइडेन के कार्यकाल में पिछले प्रशासन की तुलना में कई चीजें बदलेंगी।

कैसे साथ आएंगे सहयोगी?

डॉनल्ड ट्रंप के जमाने में अमेरिका को दीर्घकालिक महत्त्व का सबसे बड़ा अंतरराष्ट्रीय नुकसान शायद यह हुआ कि उसने अपने सहयोगी देशों का भरोसा खो दिया। अब दोबारा पहले की तरह ये देश उसका अनुयायी बनेंगे, इसकी संभावना उज्ज्वल नहीं दिखती।

जी-20 शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे ट्रंप

व्हाइट हाउस ने घोषणा की है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप आज और कल वर्चुअल तरीके से होने वाले जी-20 शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे।

सोनिया और राहुल ने बाइडेन-हैरिस को दी चुनाव जीतने पर बधाई

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पार्टी की ओर से 46 वें अमेरिकी राष्ट्रपति चुने गए जो बाइडेन और उप-राष्ट्रपति चुनीं गईं कमला हैरिस को बधाई और शुभकामनाएं दी हैं।

और लोड करें