nayaindia opposition विपक्षी एकता की परीक्षा भी
kishori-yojna
हरिशंकर व्यास कॉलम | गपशप| नया इंडिया| opposition विपक्षी एकता की परीक्षा भी

विपक्षी एकता की परीक्षा भी

पूर्वोत्तर के तीन छोटे राज्यों की राजनीति से विपक्षी एकता की परीक्षा होनी है। त्रिपुरा में कांग्रेस के साथ तालमेल की घोषणा खुद सीपीएम के महासचिव सीताराम येचुरी ने की है। अब प्रद्योत देबबर्मा की पार्टी तिपरा मोथा से तालमेल की बात हो रही है। ममता बनर्जी ने भी अपनी राष्ट्रीय महत्वाकांक्षा के लिए त्रिपुरा में पार्टी खड़ी की है और इधर उधर के कुछ विधायक उनके साथ जुड़े भी लेकिन उनका अभियान फुस्स हो गया है। अगर वे आगे की राजनीति में भाजपा से लड़ने के विपक्षी अभियान में शामिल होना चाहती हैं तो उनको शुरुआत त्रिपुरा से ही करनी होगी। अगर वे लेफ्ट के साथ नहीं जा सकती हैं तो उनको त्रिपुरा में चुनाव से दूरी बनानी चाहिए। वे पश्चिम बंगाल की सत्ता में हैं और साधन संपन्न हैं। अगर वे पूरी ताकत से चुनाव  लड़ती हैं तो इससे सीपीएम गठबंधन को नुकसान होगा और भाजपा को फायदा होगा।

इसी तरह मेघालय में ममता बनर्जी ने पूरी कांग्रेस पार्टी को तोड़ दिया। कांग्रेस के 14 में से 13 विधायकों को उन्होंने तृणमूल कांग्रेस में शामिल कराया, जिससे तृणमूल कांग्रेस राज्य की मुख्य विपक्षी पार्टी बन गई। अब उनकी पार्टी के विधायक भी पाला बदल कर मुख्यमंत्री कोनरेड संगमा की पार्टी एनपीपी के साथ जा रहे हैं। सो, यह देखना दिलचस्प होगा कि त्रिपुरा में सीपीएम से तालमेल कर रही कांग्रेस पार्टी मेघालय में क्या करती है? मेघालय में पिछली बार कांग्रेस ने 21 सीटें जीती थीं और कोनरेड संगमा की एनपीपी को 20 सीट मिली थी। भाजपा सिर्फ दो सीट जीत पाई थी। लेकिन जोड़ तोड़ के दम पर एनपीपी, यूडीपी, भाजपा और निर्दलियों की सरकार बन गई। बाद में कांग्रेस के कई विधायकों ने पार्टी छोड़ी और अंत में बचे हुए 14 में से 13 विधायक मुकुल संगमा के साथ तृणमूल में चले गए। पिछली बार कांग्रेस 28 फीसदी से ज्यादा वोट मिले थे। अभी भाजपा से अलग होकर लड़ रहे कोनरेड संगमा मजबूत दिख रहे हैं लेकिन अगर कांग्रेस और तृणमूल तालमेल करके लड़ते हैं तो मेघालय में नतीजा अलग हो सकता है।

सबसे दिलचस्प चुनाव नगालैंड का होगा। वहां एनडीपीपी, एनपीएफ, भाजपा तीनों एक साथ हैं। पर एनपीएफ के नेता टीआर जेलियांग को पता है कि किस तरह से नेफ्यू रियो ने उनकी पार्टी को तोड़ा है। सो, यह देखना दिलचस्प होगा कि नगालैंड पीपुल्स पार्टी के नेता नेफ्यू रियो किस तरह से चुनाव लड़ते हैं और एनडीपीपी व भाजपा के बीच सीटों का तालमेल कैसा होता है। अगर एनडीपीपी और भाजपा तालमेल करते हैं तो भाजपा को कितनी सीटें मिलती हैं यह भी देखने वाली बात होगी। उसके 12 विधायक हैं, जबकि एनडीपीपी के 42 विधायक हैं। एनडीपीपी के लिए भाजपा को 12 से ज्यादा सीटें देने में मुश्किल आएगी। सो, तालमेल के रास्ते में एक बड़ी बाधा है। अगर सरकार में शामिल सभी पार्टियां अलग अलग लड़ती हैं तो कांग्रेस, जदयू, एनपीएफ आदि पार्टियों के साथ मिल कर लड़ने की संभावना है। बहरहाल, ये तीनों छोटे राज्य हैं, लेकिन अगर विपक्षी पार्टियां इन राज्यों में अपने अपने हितों के किनारे रख कर तालमेल कर लेती हैं तो आगे के चुनाव में भी विपक्ष के साथ आने की संभावना बनेगी।

Tags :

By हरिशंकर व्यास

भारत की हिंदी पत्रकारिता में मौलिक चिंतन, बेबाक-बेधड़क लेखन का इकलौता सशक्त नाम। मौलिक चिंतक-बेबाक लेखक-बहुप्रयोगी पत्रकार और संपादक। सन् 1977 से अब तक के पत्रकारीय सफर के सर्वाधिक अनुभवी और लगातार लिखने वाले संपादक।  ‘जनसत्ता’ में लेखन के साथ राजनीति की अंतरकथा, खुलासे वाले ‘गपशप’ कॉलम को 1983 में लिखना शुरू किया तो ‘जनसत्ता’, ‘पंजाब केसरी’, ‘द पॉयनियर’ आदि से ‘नया इंडिया’ में लगातार कोई चालीस साल से चला आ रहा कॉलम लेखन। नई सदी के पहले दशक में ईटीवी चैनल पर ‘सेंट्रल हॉल’ प्रोग्राम शुरू किया तो सप्ताह में पांच दिन के सिलसिले में कोई नौ साल चला! प्रोग्राम की लोकप्रियता-तटस्थ प्रतिष्ठा थी जो 2014 में चुनाव प्रचार के प्रारंभ में नरेंद्र मोदी का सर्वप्रथम इंटरव्यू सेंट्रल हॉल प्रोग्राम में था। आजाद भारत के 14 में से 11 प्रधानमंत्रियों की सरकारों को बारीकी-बेबाकी से कवर करते हुए हर सरकार के सच्चाई से खुलासे में हरिशंकर व्यास ने नियंताओं-सत्तावानों के इंटरव्यू, विश्लेषण और विचार लेखन के अलावा राष्ट्र, समाज, धर्म, आर्थिकी, यात्रा संस्मरण, कला, फिल्म, संगीत आदि पर जो लिखा है उनके संकलन में कई पुस्तकें जल्द प्रकाश्य। संवाद परिक्रमा फीचर एजेंसी, ‘जनसत्ता’, ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, ‘राजनीति संवाद परिक्रमा’, ‘नया इंडिया’ समाचार पत्र-पत्रिकाओं में नींव से निर्माण में अहम भूमिका व लेखन-संपादन का चालीस साला कर्मयोग। इलेक्ट्रोनिक मीडिया में नब्बे के दशक की एटीएन, दूरदर्शन चैनलों पर ‘कारोबारनामा’, ढेरों डॉक्यूमेंटरी के बाद इंटरनेट पर हिंदी को स्थापित करने के लिए नब्बे के दशक में भारतीय भाषाओं के बहुभाषी ‘नेटजॉल.काम’ पोर्टल की परिकल्पना और लांच।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

11 + seven =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
टिकाऊ भविष्य का बजट: मोदी
टिकाऊ भविष्य का बजट: मोदी