nayaindia विज्ञापन होर्डिंग हादसे में 16 मौतों पर एजेंसी निदेशक Bhavesh Bhinde...
इंडिया ख़बर

विज्ञापन होर्डिंग हादसे में 16 मौतों पर एजेंसी निदेशक Bhavesh Bhinde गिरफ्तार

ByNI Desk,
Share
Image Credit: Times Now Navbharat

मुंबई पुलिस ने गुरुवार को विज्ञापन एजेंसी एगो मीडिया प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक Bhavesh Bhinde को गिरफ्तार किया जो उस बिलबोर्ड की मालिक हैं। और जो 13 मई को घाटकोपर में गिर गया जिस वजह से 16 लोगों की मौत हो गई थी और 74 अन्य लोग घायल हो गए।

Bhavesh Bhinde की कंपनी ने घाटकोपर पूर्व के पंत नगर में 120×120 फुट का विज्ञापन होर्डिंग लगाया था। जो 13 मई को बेमौसम बारिश और तेज हवाओं की चपेट में आने के बाद ढह गया। और विशाल होर्डिंग एक व्यस्त पेट्रोल पंप पर गिर गया, जिसके पास फंस गया इसकी चपेट में 100 लोग आए। जिनमें से 16 की मौत हो चुकी हैं।

40×40 फीट का यह होर्डिंग 10 साल की लीज पर यहां लगाया गया था। और कंपनी ने इसे भारत का सबसे बड़ा वाणिज्यिक होर्डिंग घोषित करने के लिए लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में आवेदन भी किया था।

सोमवार को हुई घटना के बाद पंत नगर पुलिस ने Bhavesh Bhinde पर धारा 304 (गैर इरादतन हत्या), 337 (दूसरों के जीवन या निजी सुरक्षा को खतरे में डालने वाले कृत्य से चोट पहुंचाना) और 338 (किसी के जीवन या व्यक्तिगत सुरक्षा को खतरे में डालने वाले कृत्य से गंभीर चोट पहुंचाना) के तहत मामला दर्ज किया। साथ ही (दूसरों की सुरक्षा) और भारतीय दंड संहिता की धारा 34 (सामान्य इरादा)।

Bhavesh Bhinde का पता लगाने के लिए मुंबई और गुजरात की 10 से अधिक पुलिस टीमें बनाई गईं जो शहर से भाग गए थे। और विशेष रूप से भिंडे के खिलाफ मुलुंड में दो अन्य मामले भी दर्ज किए गए हैं। बलात्कार, छेड़छाड और धोखाधड़ी के लिए।

इसी साल जनवरी में Bhavesh Bhinde के ऑफिस की एक महिला ने उनके खिलाफ रेप और छेड़छाड करने का मामला भी दर्ज कराया था। लेकिन Bhavesh Bhinde को बॉम्बे हाई कोर्ट से जमानत मिल गई और इसलिए उन्हें मुलुंड पुलिस ने गिरफ्तार नहीं किया और हालांकि उनके खिलाफ आरोप पत्र दायर किया गया हैं। दूसरा मामला 2016 में इसी थाने में दर्ज किया गया था।

इनके अलावा Bhavesh Bhinde के खिलाफ 2009 से पहले मुंबई नगर निगम अधिनियम 1888 के तहत जुर्माने के 21 मामले दर्ज हैं। और भिंडे ने 2009 में मुलुंड के निर्वाचन क्षेत्र से उम्मीदवार के रूप में विधानसभा चुनाव भी लड़ा था।

यह भी पढ़ें :- 

कोवैक्सीन के भी कई साइड इफेक्ट्स

विकल्प नहीं पर मुद्दे है और मार्केटिंग फेल!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें