Naya India

कर्नाटक वक्फ बोर्ड ने रिहायशी इलाके में अवैध मस्जिद पर लगाया ताला

बेलागवी (कर्नाटक)। कर्नाटक (Karnataka) राज्य वक्फ बोर्ड (State Waqf Board) ने राज्य के बेलगावी जिले के सरथीनगर इलाके में अवैध रूप से बनी फातिमा मस्जिद (Fatima Masjid) पर ताला लगा दिया है। पुलिस विभाग ने मंगलवार को इमारत के चारों ओर सुरक्षा घेरा बढ़ा दिया। विवादित इमारत के सामने कर्नाटक स्टेट रिजर्व पुलिस (KSRP) की एक प्लाटून भी तैनात की गई है। इलाके के रिहायशी घरों को मस्जिद में बदलने पर बीजेपी नेताओं और हिंदू कार्यकर्ताओं ने आपत्ति जताई है। भाजपा और हिंदू कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया कि एक आवास को मस्जिद में बदल दिया गया है और उसे वक्फ बोर्ड (Waqf Board) को सौंप दिया जा रहा है। 

कार्यकर्ताओं ने इस संबंध में स्थानीय निवासियों के साथ बैठक की और भाजपा के पूर्व विधायक संजय पाटिल (Sanjay Patil) के नेतृत्व में इलाके से मस्जिद खाली कराने के लिए आंदोलन शुरू किया। पाटिल ने जिला प्रशासन और निगम से मस्जिद खाली करने की मांग की थी। स्थानीय लोगों के अनुसार, अधिकारियों ने विकास के नाम पर आंखें मूंद रखी हैं। इस संबंध में बेलगावी ग्रामीण निर्वाचन क्षेत्र के कांग्रेस विधायक लक्ष्मी हेब्बलकर (Lakshmi Hebbalkar) द्वारा उन पर दबाव डाला गया है। उनका कहना था कि एक साल से ज्यादा समय हो जाने के बाद भी शिकायत नहीं की गई है। श्रीराम सेना (Shri Ram Sena) ने मस्जिद खाली करने के लिए एक सप्ताह का समय दिया था। स्थानीय लोग बताते हैं कि मूल मालिक ने मौलाना अब्दुल कलाम एजुकेशनल एंड चैरिटेबल सोसाइटी (Abdul Kalam Educational and Charitable Society) को संपत्ति उपहार में दी थी। 

बाद में इसे मस्जिद में बदल दिया गया। इस संबंध में निगम ने निवास के लिए निर्धारित संपत्ति में निर्माण लाइसेंस (Construction License) के उल्लंघन और धार्मिक गतिविधियों को अंजाम देने के संबंध में नोटिस जारी किया है। मुस्लिम नेताओं का कहना है कि यह वक्फ बोर्ड की संपत्ति है। बेलगावी निगम के आयुक्त रुद्रेश घाली (Rudresh Ghali) ने इस संबंध में वक्फ बोर्ड को नोटिस जारी किया था। केपीसीसी के कार्यकारी अध्यक्ष सतीश जारकीहोली (Satish Jarkiholi) ने टिप्पणी की कि जैसे-जैसे चुनाव नजदीक आ रहे हैं, ये चीजें सामने आएंगी। उन्होंने बीजेपी पर परोक्ष रूप से हमला करते हुए कहा, हमने देखा है कि कैसे मेंगलुरु, उडुपी और कारवार में चीजें प्रतिकूल हो गईं। वे इसे यहां और अन्य जगहों पर भी करेंगे। लेकिन, इससे उन्हें मदद नहीं मिलेगी। सतीश जारकीहोली (Satish Jarkiholi) ने कहा, देश में चर्च और मस्जिद हजारों साल से हैं। अब विवाद पैदा करना जरूरी नहीं है। कोर्ट का आदेश होता तो अलग बात थी, बीजेपी नेताओं का मस्जिद खाली करने की मांग करना गलत है. हालांकि, वे चुनाव खत्म होने तक इसे जारी रखेंगे। फातिमा मस्जिद (Fatima Masjid) को पूरी तरह से खाली कराने के लिए हिंदू संगठनों ने अपना आंदोलन जारी रखने का फैसला किया है। इस मुद्दे से शहर में कानून व्यवस्था के बिगड़ने की संभावना है। (आईएएनएस)

Exit mobile version