nayaindia Vedpratap Vaidik death वरिष्ठ पत्रकार वेदप्रताप वैदिक का निधन, हिंदी प्रेमियों में शोक की लहर
सर्वजन पेंशन योजना
ताजा पोस्ट | देश | दिल्ली| नया इंडिया| Vedpratap Vaidik death वरिष्ठ पत्रकार वेदप्रताप वैदिक का निधन, हिंदी प्रेमियों में शोक की लहर

वरिष्ठ पत्रकार वेदप्रताप वैदिक का निधन, हिंदी प्रेमियों में शोक की लहर

नई दिल्ली। वरिष्ठ पत्रकार (Senior journalist) और अंतरराष्ट्रीय मामलों के जाने माने विशेषज्ञ वेदप्रताप वैदिक (Vedpratap Vaidik) का मंगलवार सुबह निधन हो गया। वह 78 साल के थे। उनके निजी सहायक मोहन ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि वैदिक सुबह गुड़गांव स्थित अपने घर में करीब साढ़े नौ बजे के आसपास शौचालय गए थे और वह वहीं बेहोश हो गए। शौचालय का दरवाजा तोड़ कर उन्हें बाहर निकाला गया और अस्पताल ले जाया गया जहां उनकी मृत्यु हो गई। उन्होंने बताया कि इससे पूर्व वैदिक पूरी तरह स्वस्थ थे और कल भी वह दिल्ली गए थे। डाक्टरों ने दिल का दौरा पड़ने को मृत्यु का संभावित कारण बताया है।

उनके परिवार में एक पुत्र और एक पुत्री हैं। उनकी पत्नी का पहले ही निधन हो गया था। वैदिक प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पीटीआई) की हिंदी समाचार एजेंसी ‘भाषा’ के संस्थापक-संपादक रहे थे। वह पहले टाइम्स समूह के समाचारपत्र नवभारत टाइम्स (Navbharat Times) में संपादक (विचार) रहने के साथ ही भारतीय भाषा सम्मेलन के अंतिम अध्यक्ष थे।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने उनके निधन पर शोक जताते हुए ट्वीट किया, श्री वेदप्रताप वैदिक जी एक प्रखर पत्रकार एवं स्तंभकार थे जो अपनी लेखनी से समसामयिक विषयों पर अपनी बेबाक़ राय रखते थे। राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय विषयों पर भी उनकी गहरी पकड़ थी। उनके निधन से हिन्दी पत्रकारिता में एक रिक्तता आयी है। उनके परिवार के प्रति मेरी संवेदनाएँ।ॐ शांति।’

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वैदिक जी के निधन का शोक जताते हुए ट्वीट किया, ‘ईश्वर से दिवंगत आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान और परिजनों को यह गहन दुःख सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना करता हूं।’ (भाषा)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

19 − 10 =

सर्वजन पेंशन योजना
सर्वजन पेंशन योजना
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
ईरान ने सीरियाई ठिकानों पर हमलों का जवाब देने का लिया संकल्प
ईरान ने सीरियाई ठिकानों पर हमलों का जवाब देने का लिया संकल्प