nayaindia President Draupadi addressed the nation राष्ट्रपति द्रौपदी ने देश को संबोधित किया
kishori-yojna
ताजा पोस्ट| नया इंडिया| President Draupadi addressed the nation राष्ट्रपति द्रौपदी ने देश को संबोधित किया

राष्ट्रपति द्रौपदी ने देश को संबोधित किया

नई दिल्ली। गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर बुधवार को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने देश को संबोधित किया। राष्ट्रपति के रूप में गणतंत्र दिवस पर राष्ट्र के नाम यह उनका पहला संबोधन था। उन्होंने कहा- 74वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर, देश और विदेश में रहने वाले आप सभी भारत के लोगों को, मैं हार्दिक बधाई देती हूं। जब हम गणतंत्र दिवस मनाते हैं, तब एक राष्ट्र के रूप में हमने मिल-जुल कर जो उपलब्धियां प्राप्त की हैं, उनका हम उत्सव मनाते हैं। राष्ट्रपति ने देश की विविधता का जिक्र करते हुए कहा कि इसने हमें विभाजित नहीं किया है, बल्कि हमें जोड़ा है।

राष्ट्रपति ने कहा कि भारत एक लोकतांत्रिक गणराज्य के रूप में सफल हुआ है। उन्होंने कहा- भारत एक गरीब और निरक्षर राष्ट्र की स्थिति से आगे बढ़ते हुए विश्व मंच पर एक आत्मविश्वास से भरे राष्ट्र का स्थान ले चुका है। संविधान निर्माताओं की सामूहिक बुद्धिमत्ता से मिले मार्गदर्शन के बिना यह प्रगति संभव नहीं थी। उन्होंने कहा- पिछले साल भारत दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया। यह उपलब्धि, आर्थिक अनिश्चितता से भरी वैश्विक पृष्ठभूमि में प्राप्त की गई है।

केंद्र सरकार की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा- सक्षम नेतृत्व और प्रभावी संघर्षशीलता के बल पर हम शीघ्र ही मंदी से बाहर आ गए, और अपनी विकास यात्रा को फिर से शुरू किया। राष्ट्रपति ने आगे कहा- राष्ट्रीय शिक्षा नीति शिक्षार्थियों को इक्कीसवीं सदी की चुनौतियों के लिए तैयार करते हुए हमारी सभ्यता पर आधारित ज्ञान को समकालीन जीवन के लिए प्रासंगिक बनाती है। हम विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अपनी उपलब्धियों पर गर्व का अनुभव कर सकते हैं। अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में, भारत गिने-चुने अग्रणी देशों में से एक रहा है।

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने कहा- महिला सशक्तिकरण तथा महिला और पुरुष के बीच समानता अब केवल नारे नहीं रह गए हैं। मेरे मन में कोई संदेह नहीं है कि महिलाएं ही आने वाले कल के भारत को स्वरूप देने के लिए अधिकतम योगदान देंगी। सशक्तिकरण की यही दृष्टि अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों सहित, कमजोर वर्गों के लोगों के लिए सरकार की कार्य-प्रणाली का मार्गदर्शन करती है। उन्होंने कहा- इस वर्ष भारत जी-20 देशों के समूह की अध्यक्षता कर रहा है। विश्व-बंधुत्व के अपने आदर्श के अनुरूप, हम सभी की शांति और समृद्धि के पक्षधर हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen − 11 =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
जी20: पुडुचेरी में ‘साइंस-20’ की बैठक
जी20: पुडुचेरी में ‘साइंस-20’ की बैठक