nayaindia डायबिटीज और हृदय की चिंताएं: 65 के बाद BMI का प्रभाव
जीवन मंत्र

वजन बढ़ने पर भी डायबिटीज से पीड़ित लोगों में मौत का जोखिम कम

ByNI Desk,
Share
डायबिटीज
Diabetes

नई दिल्ली। टाइप 2 डायबिटीज (Diabetes) से पीड़ित लोगों को हमेशा सही शारीरिक वजन बनाए रखने की सलाह दी जाती है। हालांकि, नई रिसर्च के अनुसार, अगर 65 साल से ज्यादा उम्र वाले लोगों का वजन थोड़ा बढ़ भी जाता है, तब भी हृदय रोग से मरने का जोखिम बहुत ज्यादा नहीं है। Diabetes Disease

यूके बायोबैंक के स्वास्थ्य डेटा पर आधारित निष्कर्ष बताते हैं कि 65 साल या उससे कम उम्र के वयस्कों के लिए, 23-25 की सामान्य सीमा के भीतर बॉडी मास इंडेक्स (BMI) बनाए रखना हृदय रोग से मरने के सबसे कम जोखिम से जुड़ा है।

लेकिन 65 वर्ष से ज्यादा उम्र वालों के लिए, 26-28 के बीएमआई के साथ मामूली रूप से थोड़ा ज्यादा वजन (Weight) होने से जोखिम बहुत ज्यादा नहीं है। चीन के जियानगयांग सेंट्रल हॉस्पिटल के डॉ. शाओयोंग जू (Shaoyong Ju) ने कहा रिसर्च में हमने बताया है कि टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों के लिए ऑप्टीमल बीएमआई कार्डियो-मेटाबोलिक रिस्क फैक्टर से उम्र के अनुसार अलग होता है।

जू ने कहा निष्कर्षों से पता चलता है कि वृद्ध व्यक्तियों के लिए जिनका वजन सामान्य से अधिक है, लेकिन वे मोटे नहीं हैं, उनके लिए वजन कम करने के बजाय वजन बनाए रखना हृदय रोग से मरने के जोखिम को कम करने का व्यावहारिक तरीका हो सकता है।

हृदय रोगों (Heart Disease) के जोखिम को कम करने के लिए सही वजन बनाए रखना महत्वपूर्ण है, खास तौर से टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों के लिए। शोधकर्ताओं ने टाइप 2 डायबिटीज के पिछले निदान वाले 22,874 यूके बायोबैंक प्रतिभागियों में बीएमआई (BMI) और हृदय मृत्यु के जोखिम के बीच उम्र के अंतर का पता लगाया। सभी प्रतिभागियों की औसत उम्र 59 वर्ष थी और लगभग 59 प्रतिशत महिलाएं थीं।

शोधकर्ताओं ने दो आयु समूहों बुजुर्ग (65 वर्ष से ज्यादा) और मध्यम आयु वर्ग (65 वर्ष या उससे कम उम्र) में डेटा का विश्लेषण किया। लेखकों का कहना है कि भविष्य में, जोखिम को और अधिक कम करने के लिए सेंट्रल ओबेसिटी (Central Obesity) के उपायों का उपयोग किया जाएगा।

यह भी पढ़ें:

मधुमेह रोगियों में स्ट्रोक का खतरा बढ़ा सकता है हाई ब्लड प्रेशर

भारत में अनिद्रा की समस्या से जूझ रहे लोगों की संख्या बढ़ी

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें