nayaindia farmers protest राज्यों में किसान ट्रैक्टर रैलियां
Trending

राज्यों में किसान ट्रैक्टर रैलियां

ByNI Desk,
Share
farmers protest
farmers protest

चंडीगढ़/लखनऊ। कृषि क्षेत्र को डब्ल्यूटीओ समझौते से बाहर करने की मांग में किसानों ने सोमवार को पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में कई स्थानों पर ट्रैक्टर रैलियां निकालीं और पुतले फूंके।रैलियों के कारण कई स्थानों पर यातायात बाधित हुआ और किसानों ने विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के पुतले भी जलाए। ध्यान रहे संयुक्त अरब अमीरात में डब्ल्यूटीओ का 13वां मंत्रिस्तरीय सम्मेलन हो रहा है। farmers protest12321001

साल 2020-21 के किसानों आंदोलन का नेतृत्व करने वाले कई कृषि संघों के समूह संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) के आह्वान पर प्रदर्शनकारियों ने पंजाब और हरियाणा में कई स्थानों पर राजमार्गों के किनारे अपने ट्रैक्टर खड़े कर दिए।हरियाणा से लगी पंजाब की सीमा पर खनौरी और शंभू बिंदुओं पर भी डब्ल्यूटीओ के पुतले जलाए गए, जहां संयुक्त किसान मोर्चा (गैर-राजनीतिक) और किसान मजदूर मोर्चा (केएमएम) के नेतृत्व में हजारों किसान दिल्ली मार्च को सुरक्षा बलों द्वारा रोके जाने के बाद डेरा डाले हुए हैं। farmers protest

किसान नेताओं ने दावा किया कि डब्ल्यूटीओ का उद्देश्य कृषि सब्सिडी समाप्त करना है और यदि भारत ने इसका पालन किया, तो यह “आत्मघाती” होगा।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में, भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के आह्वान पर ट्रैक्टर रैलियां निकली।  भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार किसानों की वास्तविक मांगों को नजरअंदाज कर रही है। उन्होंने फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की कानूनी गारंटी सहित विभिन्न मांगों के लिए केंद्र पर दबाव बनाने को लेकर पंजाब-हरियाणा सीमा बिंदुओं पर डेरा डाले किसानों के खिलाफ “अत्याचार” की निंदा की।

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में हाईवे पर किसानों के ट्रैक्टर मार्च से कई जगहों पर यातायात बाधित हुआ। उन्होंने दिल्ली-देहरादून राष्ट्रीय राजमार्ग पर बाई लेन को भी अवरुद्ध कर दिया।पंजाब के होशियारपुर में, किसानों ने जालंधर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग सहित कई स्थानों पर अपने ट्रैक्टर खड़े किए। दोआबा किसान समिति के प्रदेश अध्यक्ष जंगवीर सिंह चौहान के नेतृत्व में किसानों ने टांडा के बिजली घर चौक पर भी अपने ट्रैक्टर सड़क पर खड़े कर दिए। farmers protest

भारतीय किसान यूनियन (राजेवाल), बीकेयू (कादियान), बीकेयू (एकता उगराहां) जैसे कई अन्य कृषि संगठनों के सदस्यों ने भी प्रदर्शन किया और होशियारपुर-फगवाड़ा रोड, नसराला-तारागढ़ रोड, दोसरका-फतेहपुर रोड, बुल्लोवाल-एलोवाल रोड और भूंगा-हरियाणा रोड पर अपने ट्रैक्टर खड़े किए। farmers protest

प्रदर्शनकारियों ने एमएसपी के लिए कानूनी गारंटी, कर्ज माफी, स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करने और किसानों के लिए पेंशन की भी मांग की।अमृतसर में, किसानों ने अजनाला, जंडियाला गुरु, रय्या और ब्यास में राजमार्गों के किनारे अपने वाहन खड़े किए। लुधियाना में, एसकेएम से जुड़े किसानों ने डब्ल्यूटीओ के खिलाफ अपना विरोध दर्ज कराने के लिए लुधियाना-चंडीगढ़ रोड पर राजमार्ग के किनारे अपने ट्रैक्टर खड़े किए।हरियाणा के हिसार में किसानों ने राज्य और राष्ट्रीय राजमार्गों पर 50 स्थानों पर अपने ट्रैक्टर खड़े करके विरोध प्रदर्शन किया।

यह भी पढें

घोटालों वालों का गठबंधन है ‘इंडिया’ : शाह

ज्ञानवापी मस्जिद में पूजा जारी रहेगी

ईडी के आगे केजरीवाल पेश नहीं हुए

झारखंड में कांग्रेस सांसद भाजपा में शामिल

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें