nayaindia Chaudhary Charan Singh Birth Anniversary जाट विवाद के बीच चरण सिंह की जयंती
Politics

जाट विवाद के बीच चरण सिंह की जयंती

ByNI Political,
Share

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 23 दिसंबर को पूर्व प्रधानमंत्री और महान किसान नेता चौधरी चरण सिंह की जयंती के मौके पर उन्हें याद करते हुए ट्विट किया तो कई लोगों ने ध्यान दिलाया कि प्रधानमंत्री ने मई में चौधरी साहेब की पुण्यतिथि पर उनको श्रदधांजलि नहीं दी थी। यह अपनी सुविधा के हिसाब से नेताओं को याद करने या भूल जाने का मामला है। लेकिन जाट को लेकर चल रहे विवाद के बीच चौधरी चऱण सिंह की जयंती आई है और तभी सभी पार्टियों ने बढ़ चढ़ कर इसमें हिस्सा लिया। सबने अलग अलग तरीके से उनकी जयंती मनाई। गौरतलब है कि पिछले दिनों उप राष्ट्रपति जगदीप धनकड़ ने अपनी मिमिक्री किए जाने को जाट समाज के अपमान से जोड़ा और भाजपा ने पूरे देश में इसका मुद्दा बनाया।

उसके बाद ओलंपिक पदक जीतने वाली साक्षी मलिक ने महिला पहलवानों के यौन शोषण के आरोपी भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह का विरोध करते हुए कुश्ती छोड़ने का ऐलान किया तो यह चर्चा शुरू हुई कि क्या इससे जाट समाज और स्त्री जाति का अपमान नहीं हो रहा है? साक्षी मलिक के साथ बजरंग पूनिया और विनेश फोगाट भी मौजूद थे। अब भाजपा विरोधी पार्टियां इस बहाने जाट समाज के अपमान का मुद्दा बना रही हैं। इस विवाद के बीच ही चौधरी चरण सिंह की जयंती मनाई गई। सभी पार्टियों ने इस मौके का इस्तेमाल किया जाटों के साथ साथ व्यापक किसान समाज तक पहुंच बनाने के लिए इस मौके का इस्तेमाल किया है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें