nayaindia karnataka assembly election BJP कर्नाटक में भाजपा सर्वाधिक दुविधा में
रियल पालिटिक्स

कर्नाटक में भाजपा सर्वाधिक दुविधा में

ByNI Political,
Share

कर्नाटक में दो महीने में चुनाव की घोषणा होने वाली है। अप्रैल-मई में राज्य में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं और भारतीय जनता पार्टी सबसे अधिक दुविधा में दिख रही है। पार्टी कुछ  भी तय नहीं कर पा रही है। छह महीने से ज्यादा समय से प्रदेश अध्यक्ष बदले जाने की चर्चा है लेकिन वह बदलाव नहीं हुआ। उससे भी ज्यादा समय से राज्य सरकार में फेरबदल की चर्चा है लेकिन वह भी नहीं हो पाया है। मुख्यमंत्री पिछले दो महीने में कम से कम तीन बार कह चुके हैं कि जल्दी ही वे नए मंत्रियों को शामिल करेंगे। वे बार बार दिल्ली के चक्कर काट रहे हैं और यह भी संकेत दे चुके हैं कि नए मंत्रियों के नाम पर पार्टी आलाकमान की सहमति मिल गई है। फिर भी मंत्रिमंडल का विस्तार नहीं हो रहा है और बीवाई विजयेंद्र से लेकर रमेश जरकिहोली और केएस ईश्वरप्पा जैसे नेता परेशान हो रहे हैं।

मुख्यमंत्री बदले जाने की चर्चा बंद हो गई है लेकिन यह चर्चा शुरू हो गई है कि अगर भाजपा चुनाव जीत जाती है तो बसवराज बोम्मई मुख्यमंत्री नहीं बनेंगे। इससे लिंगायत समुदाय में कंफ्यूजन है। कहा जा रहा है कि चुनाव में अगर भाजपा जीतती है तो गुजरात की तरह पूरी सरकार बदली जा सकती है यानी सारे नए लोग मुख्यमंत्री और मंत्री बनेंगे।  भाजपा ने जिस अंदाज में वोक्कालिगा वोट के लिए जोड़-तोड़ शुरू किया है उससे भी पार्टी के कोर मतदाता समूह यानी लिंगायत में दुविधा है। दूसरी ओर यह चर्चा भी शुरू हो गई है कि राज्य में गुजरात का फॉर्मूला लागू किया जा सकता है। यानी एक तिहाई विधायकों की टिकट कट सकती है। इससे विधायकों में भगदड़ मची हुई है। कुल मिला कर चुनाव से पहले सब कुछ बिखरा हुआ दिख रहा है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे का इंतजार हो रहा है। कहा जा रहा है कि उसके बाद सब कुछ स्थिर होगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें