Corona crisis के बीच सरकार का बड़ा ऐलान,देशभर के सरकारी अस्पतालों में स्थापित किए जाएंगे 551 ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र

नई दिल्ली | अस्पतालों में ऑक्सीजन (Oxygen) की उपलब्धता बढ़ाने के प्रधानमंत्री के निर्देश के तहत, पीएम केयर्स फंड (PM Cares Fund) ने देश में सार्वजनिक स्वास्थ्य केंद्रों पर 551 समर्पित प्रेशर स्विंग ऐड्सॉप्र्शन ( PSA) चिकित्सा ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्रों (Oxygen production plant) की स्थापना के लिए धन आवंटन को सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है। प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने एक बयान में कहा, “प्रधानमंत्री ने निर्देश दिया है कि इन संयंत्रों को जल्द से जल्द शुरू किया जाए। उन्होंने कहा कि इन संयंत्रों से जिला स्तर पर ऑक्सीजन की उपलब्धता सुनिश्चित करने में काफी मदद मिलेगी। इसे भी पढ़ें – Uttar Pradesh : योगी सरकार बड़ा फैसला, Corona से मरने वालों का फ्री में होगा अंतिम संस्कार ये समर्पित संयंत्र विभिन्न राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में जिला मुख्यालयों पर चिन्हित सरकारी अस्पतालों में स्थापित किए जाएंगे। खरीद प्रक्रिया स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के माध्यम से की जाएगी। पीएम केयर्स फंड ने इस साल की शुरूआत में देश में सार्वजनिक स्वास्थ्य केंद्रों पर अतिरिक्त 162 समर्पित पीएसए मेडिकल ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र (Oxygen production plant) लगाने के लिए 201.58 करोड़ रुपये आवंटित किए थे। जिला मुख्यालयों के सरकारी अस्पतालों में पीएसए ऑक्सीजन (Oxygen) उत्पादन संयंत्र स्थापित करने का मुख्य उद्देश्य सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली… Continue reading Corona crisis के बीच सरकार का बड़ा ऐलान,देशभर के सरकारी अस्पतालों में स्थापित किए जाएंगे 551 ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र

प्रधानमंत्री के प्रधान सलाहकार का इस्तीफा

करीब 18 महीने पहले देश के सबसे शक्तिशाली अधिकारी यानी प्रधानमंत्री के प्रधान सलाहकार का पद संभालने वाले पीके सिन्हा ने इस्तीफा दे दिया है।

भारत-चीनः विचित्र स्थिति

चीन को लेकर भारत में अत्यंत विचित्र स्थिति है। आज के दिन यह पता लगाना मुश्किल है कि भारत चाहता क्या है ?

सैन्य कमांडरों की फिर हुई वार्ता

लद्दाख में भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर 15 जून की रात को हुई हिंसक झड़प के बाद बढ़े तनाव को कम करने के लिए एक बार फिर सैन्य कमांडरों की वार्ता होगी।

भारत दुविधा में क्यों?

गलवान घाटी की घटना के बाद चीन ने अपना रुख और सख्त कर दिया है। बल्कि पिछले हफ्ते तो चीन के विदेश और रक्षा मंत्रालयों- दोनों ने एक साथ भारत पर निशाना साधा। उन्होंने गलवान वैली में 15 जून को हुई हिंसक वारदात के लिए भारत को दोषी ठहराया।

चीन के साथ आखिर चल क्या रहा है?

इस बात को लेकर बड़ा संशय है कि आखिर चीन के साथ क्या चल रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में लंबी चर्चा की पर चीन का नाम नहीं लिया। उन्होंने पड़ोसी देश को सबक सिखाने की बात कही है।

चीन पर पवार केंद्र के साथ

महाराष्ट्र में कांग्रेस के साथ महाविकास अघाड़ी सरकार में शामिल एनसीपी के नेता शरद पवार ने खुल कर कांग्रेस पार्टी और राहुल गांधी से नाराजगी जाहिर की है।

भाजपा और कांग्रेस का आपसी दंगल

यह हमारे लोकतंत्र की मेहरबानी है कि इस संकट की घड़ी में चीन का मुकाबला करने की बजाय हमारे राजनीतिक दल एक-दूसरे के साथ दंगल में उलझे हुए हैं।

लोकतांत्रिक जवाबदेही से बेखबर?

भारतीय जनता पार्टी छह साल से सत्ता में है। इसके पहले भी 1998 से 2004 तक केंद्र की सत्ता में रह चुकी है।

पीएम के विश्व नेताओं के गले लगने का क्या फायदा?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुनिया के नेताओं के साथ निजी संबंध बनाए बताते हैं। आमतौर पर विश्व नेताओं के बीच कूटनीतिक संबंध होते हैं। वैचारिक रूप से नजदीक होने पर कुछ नेताओं में वैचारिक निकटता भी बन जाती है।

भारत और चीन अब आगे की सुध लें

भारत और चीन के कोर कमांडरों की बैठक में दोनों पक्षों ने अपनी-अपनी सेनाओं को पीछे हटाने पर सहमति व्यक्त की है। यह बैठक 10-11 घंटे तक चली। इस बैठक में क्या-क्या बातें तय हुई हैं, यह अभी विस्तार से पता नहीं चला है।

भारत का फिलहाल अपमानकाल

पिछले कुछ दिनों से भारत और चीन के बीच जिस तरह का सीमा विवाद चल रहा है उसे देखकर तमाम पुरानी यादें ताजी हो गई हैं।

अचानक बढ़ी रूस की अहमियत

भारत और चीन के बीच सीमा पर चल रहे टकराव और दोनों देशों की फौजों के बीच हुई हिंसक झड़प की वजह से अचानक रूस महत्वपूर्ण हो गया है।

भारत-चीन में रूस दखल नहीं देगा

भारत और चीन के बीच लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चल रहे गतिरोध को सुलझाने में रूस कोई दखल नहीं देगा। रूस ने कहा है कि यह दोनों देशों का आपसी मुद्दा है और वे इसे सुलझाने में सक्षम हैं।

चीन में मोदी के भाषण पर वाह!

सेना से सर्जिकल स्ट्राइक, एयर स्ट्राइक, पुलवामा कांड इन सब मुद्दों पर राहुल गांधी या कांग्रेस का कोई भी नेता बयान देता था या सवाल उठाता था तो भाजपा के नेता कहते थे कि राहुल के भाषण की पाकिस्तान में तारीफ हो रही है। भाजपा के पूर्व अध्यक्ष और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह सहित भाजपा के कई नेता अनेक बार कह चुके हैं कि आखिर ऐसा क्यों होता है कि कांग्रेस के नेता पाकिस्तान की जबान बोलते हैं। पर इस बार पासा पलट गया है। इस बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान की चीन में तारीफ हो रही है। तभी कांग्रेस पार्टी के नेता सवालिया लहजे में कह रहे हैं कि आखिर ऐसा क्यों है कि प्रधानमंत्री वहीं बात कह रहे हैं, जो चीन कह रहा है? यह सचाई है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन के साथ सीमा विवाद के मसले पर विचार के लिए बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में जो कहा उसकी चीन में जम कर तारीफ हुई है। प्रधानमंत्री ने विपक्ष और तमाम सामरिक विशेषज्ञों की बातों को खारिज करते हुए कहा कि न तो भारत की सीमा में कोई घुस आया है, न कोई सीमा में घुसा हुआ है और न कोई भारतीय चौकी किसी… Continue reading चीन में मोदी के भाषण पर वाह!

और लोड करें