Shivsena

  • महाराष्ट्र में कमाल का संयोग

    महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और उनके गुट के 15 अन्य विधायक क्या अयोग्य घोषित होंगे? यह लाख टके सवाल है, जिसका जवाब किसी को पता नहीं है। हालांकि कायदे से ऐसा होना नहीं चाहिए क्योंकि विधानसभा के स्पीकर राहुल नार्वेकर भाजपा के नेता हैं और एकनाथ शिंदे भाजपा के समर्थन से मुख्यमंत्री बने हैं। इसके बावजूद इस बात की चर्चा है कि उनकी सदस्यता जा सकती है और इसलिए भाजपा ने पहले ही एनसीपी के नेता अजित पवार को गठबंधन में शामिल कराया है और उनको उप मुख्यमंत्री बनाया है। सवाल है कि शिंदे और उनके गुट के 15...

  • एक विधानसभा, तीन मुख्य विपक्षी पार्टियां

    महाराष्ट्र में राजनीतिक प्रयोगों का राज्य बन गया है। चाहे सुबह छह बजे मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री को शपथ दिलाने का मामला हो या शिव सेना, एनसीपी और कांग्रेस की सरकार का बनना हो या शिव सेना का टूटना और एकनाथ शिंदे का मुख्यमंत्री बनना हो या अब अजित पवार का भी उप मुख्यमंत्री बनना हो, सारे नए प्रयोग हुए हैं। इसी में एक बात और हुई है, जिसकी ओर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। एक विधानसभा में तीन अलग अलग पार्टियां मुख्य विपक्षी पार्टी बनी हैं। ऐसा संभवतः किसी और राज्य में नहीं हुआ हो कि एक विधानसभा...

  • पवार के अभियान में शिव सेना साथ है

    एनसीपी को टूटने से बचाने और अजित पवार की राजनीतिक हैसियत कम करने के शरद पवार के अभियान में शिव सेना भी साथ है। शिव सेना के नेता लगातार शरद पवार के साथ हैं और अजित पवार को निशाना बनाते रहे हैं। शिव सेना के राज्यसभा सांसद संजय राउत के साथ तो अजित पवार की जुबानी जंग भी हुई। अब एक बार फिर शिव सेना के उद्धव ठाकरे गुट के मुखपत्र ‘सामना’ में पवार परिवार के झगड़े को लेकर टिप्पणी की गई है। एक तरह से सामना ने स्पष्ट कर दिया है कि अजित पवार कुछ भी कहें वे शरद...

  • अब महाराष्ट्र में क्या कहानी होगी?

    पिछले तीन-चार महीने से भाजपा के नेता और सोशल मीडिया में उसके समर्थक दावा कर रहे थे कि बिहार में महाराष्ट्र की कहानी दोहराई जाएगी। यानी जैसे महाराष्ट्र में महाविकास अघाड़ी सरकार का नेतृत्व कर रहे शिव सेना को तोड़ कर भाजपा ने उसी के नेता के नेतृत्व में सरकार बना दी वैसा ही कुछ बिहार में होगा। महागठबंधन सरकार का नेतृत्व कर रहे जदयू को तोड़ कर  भाजपा के साथ नई सरकार बनाने की बात हो रही थी। बिहार में तो ऐसा कुछ नहीं हुआ उलटे महाराष्ट्र में भाजपा के सामने नई मुश्किल खड़ी हो गई। उसके नेता इस...

  • एमवीए में बेहतर तालमेल की जरूरत

    महाराष्ट्र चार-पांच उन राज्यों में है, जिन्हें लेकर भाजपा में सबसे ज्यादा चिंता है। महाराष्ट्र में विपक्षी गठबंधन बहुत मजबूत है और उसके मुकाबले भाजपा अपने गठबंधन को लेकर बहुत भरोसे में नहीं है। लेकिन ऐसा लग रहा है कि विपक्षी गठबंधन यानी महा विकास अघाड़ी की तीनों पार्टियों में बेहतर तालमेल नहीं बन पा रहा है। अघाड़ी ने अपनी ताकत दिखाने के लिए रविवार को संभाजीनगर में बड़ी रैली की योजना बनाई तो कांग्रेस पार्टी उस रैली में शामिल नहीं हुई। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले को रैली में हिस्सा लेना था। पहले भी नाना पटोले शिव सेना...

  • निष्पक्षता पर गहराते प्रश्न

    महाराष्ट्र चार-पांच उन राज्यों में है, जिन्हें लेकर भाजपा में सबसे ज्यादा चिंता है। महाराष्ट्र में विपक्षी गठबंधन बहुत मजबूत है और उसके मुकाबले भाजपा अपने गठबंधन को लेकर बहुत भरोसे में नहीं है। लेकिन ऐसा लग रहा है कि विपक्षी गठबंधन यानी महा विकास अघाड़ी की तीनों पार्टियों में बेहतर तालमेल नहीं बन पा रहा है। अघाड़ी ने अपनी ताकत दिखाने के लिए रविवार को संभाजीनगर में बड़ी रैली की योजना बनाई तो कांग्रेस पार्टी उस रैली में शामिल नहीं हुई। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले को रैली में हिस्सा लेना था। पहले भी नाना पटोले शिव सेना...

  • संगठन नहीं सांसद, विधायक ही पार्टी हैं!

    महाराष्ट्र चार-पांच उन राज्यों में है, जिन्हें लेकर भाजपा में सबसे ज्यादा चिंता है। महाराष्ट्र में विपक्षी गठबंधन बहुत मजबूत है और उसके मुकाबले भाजपा अपने गठबंधन को लेकर बहुत भरोसे में नहीं है। लेकिन ऐसा लग रहा है कि विपक्षी गठबंधन यानी महा विकास अघाड़ी की तीनों पार्टियों में बेहतर तालमेल नहीं बन पा रहा है। अघाड़ी ने अपनी ताकत दिखाने के लिए रविवार को संभाजीनगर में बड़ी रैली की योजना बनाई तो कांग्रेस पार्टी उस रैली में शामिल नहीं हुई। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले को रैली में हिस्सा लेना था। पहले भी नाना पटोले शिव सेना...

  • महाराष्ट्र में दोनों गुटों में टकराव बढ़ा

    महाराष्ट्र चार-पांच उन राज्यों में है, जिन्हें लेकर भाजपा में सबसे ज्यादा चिंता है। महाराष्ट्र में विपक्षी गठबंधन बहुत मजबूत है और उसके मुकाबले भाजपा अपने गठबंधन को लेकर बहुत भरोसे में नहीं है। लेकिन ऐसा लग रहा है कि विपक्षी गठबंधन यानी महा विकास अघाड़ी की तीनों पार्टियों में बेहतर तालमेल नहीं बन पा रहा है। अघाड़ी ने अपनी ताकत दिखाने के लिए रविवार को संभाजीनगर में बड़ी रैली की योजना बनाई तो कांग्रेस पार्टी उस रैली में शामिल नहीं हुई। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले को रैली में हिस्सा लेना था। पहले भी नाना पटोले शिव सेना...

  • उद्धव जैसा हस्र किसी का हो सकता है

    महाराष्ट्र चार-पांच उन राज्यों में है, जिन्हें लेकर भाजपा में सबसे ज्यादा चिंता है। महाराष्ट्र में विपक्षी गठबंधन बहुत मजबूत है और उसके मुकाबले भाजपा अपने गठबंधन को लेकर बहुत भरोसे में नहीं है। लेकिन ऐसा लग रहा है कि विपक्षी गठबंधन यानी महा विकास अघाड़ी की तीनों पार्टियों में बेहतर तालमेल नहीं बन पा रहा है। अघाड़ी ने अपनी ताकत दिखाने के लिए रविवार को संभाजीनगर में बड़ी रैली की योजना बनाई तो कांग्रेस पार्टी उस रैली में शामिल नहीं हुई। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले को रैली में हिस्सा लेना था। पहले भी नाना पटोले शिव सेना...

  • शिंदे गुट के विधायकों, सांसदों की उम्मीद

    महाराष्ट्र चार-पांच उन राज्यों में है, जिन्हें लेकर भाजपा में सबसे ज्यादा चिंता है। महाराष्ट्र में विपक्षी गठबंधन बहुत मजबूत है और उसके मुकाबले भाजपा अपने गठबंधन को लेकर बहुत भरोसे में नहीं है। लेकिन ऐसा लग रहा है कि विपक्षी गठबंधन यानी महा विकास अघाड़ी की तीनों पार्टियों में बेहतर तालमेल नहीं बन पा रहा है। अघाड़ी ने अपनी ताकत दिखाने के लिए रविवार को संभाजीनगर में बड़ी रैली की योजना बनाई तो कांग्रेस पार्टी उस रैली में शामिल नहीं हुई। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले को रैली में हिस्सा लेना था। पहले भी नाना पटोले शिव सेना...

  • उद्धव की नहीं शिंदे की हुई शिव सेना

    महाराष्ट्र चार-पांच उन राज्यों में है, जिन्हें लेकर भाजपा में सबसे ज्यादा चिंता है। महाराष्ट्र में विपक्षी गठबंधन बहुत मजबूत है और उसके मुकाबले भाजपा अपने गठबंधन को लेकर बहुत भरोसे में नहीं है। लेकिन ऐसा लग रहा है कि विपक्षी गठबंधन यानी महा विकास अघाड़ी की तीनों पार्टियों में बेहतर तालमेल नहीं बन पा रहा है। अघाड़ी ने अपनी ताकत दिखाने के लिए रविवार को संभाजीनगर में बड़ी रैली की योजना बनाई तो कांग्रेस पार्टी उस रैली में शामिल नहीं हुई। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले को रैली में हिस्सा लेना था। पहले भी नाना पटोले शिव सेना...

  • और लोड करें