मध्य प्रदेश: भलाई का जमाना ही नहीं है!! मेडिकल टीम ग्रामीणों को टीका लगाने पहुंची तो गांव वालों ने लाठी-डंडो से किया हमला..

किसी की भलाई करने चलो तो उल्टा ही होता है। पूरे देश में कोरोना का टीकाकरण जोरो-शोरों से हो रहा है। सरकार सभी से अपील कर रही है ज्यादा से ज्यादा संख्या में कोरोना वैक्सीनेशन करवाएं। इस बार कोरोना का संक्रमण गांवों में फैला है और मौतें भी गांवों से ही ज्यादा सामने आ रही है। मध्यप्रदेश की स्वास्थ्य विभाग की टीम ने ग्रामीणों को टीका लगाने गई तो उन पर उल्टा पड़ गया। मध्य प्रदेश के उज्जैन में टीकाकरण करने पहुँची स्वास्थ विभाग की टीम पर ग्रामीणों ने लाठी-डंडों से हमला बोल दिया। इस घटना में टीम के साथ ग्रामीणों को समझाने पहुँचे सहायक सचिव के पति शकील गम्भीर रूप से घायल हो गए। उनके अलावा अन्य कई को भी चोटें आई हैं। यह वाकया उज्जैन के पारदी मोहल्ले की है। स्वास्थ्य विभाग की टीम में तहसीलदार, पटवारी, एएनएम व अन्य अधिकारी शामिल थे। टीम में शामिल एक ड्राइवर ने कहा कि करीब ढाई सौ ग्रामीणों ने लट्ठ, पाइप, तलवार से टीम पर धावा बोल दिया। इसे भी पढ़ें Salute to spirit of doctors : कोरोना काल में डॉक्टर्स बने भगवान, 24 घंटे में ब्लैक फंगस के किए 19 ऑपरेशन, सोशल मीडिया पर जमकर हो रही तारीफ कोरोना वैक्सीन लगवाने… Continue reading मध्य प्रदेश: भलाई का जमाना ही नहीं है!! मेडिकल टीम ग्रामीणों को टीका लगाने पहुंची तो गांव वालों ने लाठी-डंडो से किया हमला..

सोमवती अमावस्या पर क्षिप्रा तट पर श्रद्घालु नहीं लगा सकेंगे डुबकी

मध्य प्रदेश की धार्मिक नगरी उज्जैन में 20 अप्रैल को सोमवती और हरियाली अमावस्या के मौके पर श्रद्धालु क्षिप्रा नदी के सभी घाटों पर न तो स्नान कर सकेंगे

जंगल राज तब घोषित हो!

बधाई अपने डॉ. वेदप्रताप वैदिक को। उनके आह्वान को उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूरा किया।

कानून, अदालत पर लगे ताला

ईमानदारी से बताऊं मैंने तमिलनाडु के थाने में पिता-पुत्र की बर्बर पुलिसिया हत्या की खबरों को ज्यादा नहीं पढ़ा और न विकास दुबे और पुलिस के बीच हुई पहले व दूसरे इनकाउंटर की खबरों की बारीकी में गया।

यही जनता के मन की बात!

उत्तर प्रदेश के गैंगेस्टर और कानपुर में आठ पुलिसवालों की हत्या के आरोपी विकास दुबे को मार कर पुलिस ने क्या वहीं काम किया है

कानून व्यवस्था या बदले की कार्रवाई

देश में कानून का राज चलेगा या जंगल राज होगा? न्याय होगा या बदले की कार्रवाई होगी? इसके जवाब से तय होगा कि आने वाले दिनों में एक देश और सभ्य समाज के नाते भारत का भविष्य क्या होगा।

पुलिस की वहीं पुरानी कहानी

भारत के चाहे किसी राज्य की पुलिस हो उसके पास हर चीज के टेंपलेट बने हुए हैं। वह जिस बात को चाहे जस्टिफाई कर सकती है और बिल्कुल एक जैसे तर्क से।

उंगलियों के पोरों से बहती क्रांति के युग में

विकास दुबे को तो मारा जाना ही था। आज नहीं तो कल। अगर कोई इतने पुलिस वालों को मार देने की घटना का केंद्रीय पात्र हो तो वह कितने दिन अपनी जान बचा सकता है? जो भी ऐसा करेगा, भरेगा। इसमें कौन-सा मानव-अधिकार? अगर अपराधियों के मानवाधिकार हैं तो सुरक्षाकर्मियों के भी मानवाधिकार हैं। इसलिए एक ऐसे व्यक्ति के अंत पर दीदे बहाने का कोई मतलब नहीं है, जो अलग-अलग राजनीतिकों और प्रशासनिक अफ़सरों के बूते इतना बेख़ौफ़ हो गया था कि सारी व्यवस्था को अपने ठेंगे पर रख कर घूम रहा था। अगर बिकारू जैसे बित्ते भर के गांव से निकल कर दस बरस के भीतर कोई विकास दुबे अरबपति भी बन जाए और उसका गब्बरपन भी सारी हदें पार करने लगे तो आख़िर एक-न-एक दिन तो उसका यह अंजाम होना ही था। इसलिए जिन्हें अब उससे ज़रा सहानुभूति जैसी हो रही है, मुझे उन पर तरस आ रहा है। उसके लिए मन गीला करने वाले उससे कम बड़े खलनायक नहीं हैं। वह किसी के आंसुओं का हक़दार नहीं है। आंसू तो बहने चाहिए उस व्यवस्था पर, जो विकास दुबेओं को जन्म देती है, पालती-पोसती है, इस्तेमाल करती है और चूस लेने के बाद थोथे की तरह उड़ा देती… Continue reading उंगलियों के पोरों से बहती क्रांति के युग में

यूपी पुलिस पर कई सवाल

उत्तर प्रदेश में गैंगस्टर विकास दुबे की तलाश में पुलिस की दर्जनों टीमें लगाई गई हैं, सैकड़ों फोन नंबर्स को सर्विलांस पर लगाया गया है।

महाकाल मंदिर में पकड़ा गया विकास दुबे

उत्तर प्रदेश के कानपुर के कुख्यात अपराधी और पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोपी विकास दुबे को आज मध्यप्रदेश के उज्जैन में महाकाल मंदिर से गिरफ्तार कर लिया गया।

विकास दुबे के मामले में अब कमलनाथ ने उठाए सवाल

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने उत्तरप्रदेश के कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे की उज्जैन में गिरफ्तारी पर सवाल उठाते हुए आज कहा कि इस मामले की उच्च स्तरीय जांच होना चाहिए।

किसी भी अधिकारी को बख्शा नहीं जाएगा: शिवराज

उत्तर प्रदेश के कानपुर में आठ पुलिस जवानों की हत्या के आरोपी को मध्य प्रदेश की पुलिस ने उज्जैन से गिरफ्तार किया है। इसकी गिरफ्तारी पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने

उज्जैन में कोरोना संक्रमितों की संख्या हुयी 550

मध्यप्रदेश के उज्जैन जिले में दो कोरोना संक्रमितों की मौत हो गयी और 25 पॉजिटिव रिपोर्ट मिलने के साथ ही कोरोना संक्रमितों की संख्या 550 हो गयी।

उज्जैन में कोरोना की रोकथाम के लिये सीमा सील

मध्यप्रदेश के उज्जैन जिले में कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिये राजस्थान से लगने वाली सीमा के साथ-साथ 97 गांवों की सीमा को सील कर दिया गया है।

उज्जैन में भी लगा कर्फ्यू

उज्जैन। मध्य प्रदेश के उज्जैन में एक शख्स की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद यहां भी बुधवार से कर्फ्यू लगा दिया गया है। इस तरह अब राज्य के चार जिलों में कर्फ्यू है। कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ऐलान पर बीती रात से पूरे देश में लॉक डाउन है। इसका असर मध्य प्रदेश में भी है। वहीं राज्य के जिन जिलों में कोरोना के संक्रमित मरीजों के नमूनों की पॉजिटिव रिपोर्ट आ रही है, वहां कर्फ्यू लगाया जा रहा है। इसी क्रम में उज्जैन के एक व्यक्ति के नमूनों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर जिलाधिकारी शशांक मिश्रा ने बुधवार से जिले में कर्फ्यू लगाने के आदेश जारी कर दिए हैं। राज्य में अब कर्फ्यू वाले जिलों की संख्या बढ़कर चार हो गई है। उज्जैन से पहले भोपाल, जबलपुर व ग्वालियर में कर्फ्यू लगाया जा चुका है।

और लोड करें