Ujjain

मध्य प्रदेश: भलाई का जमाना ही नहीं है!! मेडिकल टीम ग्रामीणों को टीका लगाने पहुंची तो गांव वालों ने लाठी-डंडो से किया हमला..

किसी की भलाई करने चलो तो उल्टा ही होता है। पूरे देश में कोरोना का टीकाकरण जोरो-शोरों से हो रहा है। सरकार सभी से अपील कर रही है ज्यादा से ज्यादा संख्या में कोरोना वैक्सीनेशन करवाएं। इस बार कोरोना...

सोमवती अमावस्या पर क्षिप्रा तट पर श्रद्घालु नहीं लगा सकेंगे डुबकी

मध्य प्रदेश की धार्मिक नगरी उज्जैन में 20 अप्रैल को सोमवती और हरियाली अमावस्या के मौके पर श्रद्धालु क्षिप्रा नदी के सभी घाटों पर न तो स्नान कर सकेंगे

जंगल राज तब घोषित हो!

बधाई अपने डॉ. वेदप्रताप वैदिक को। उनके आह्वान को उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूरा किया।

कानून, अदालत पर लगे ताला

ईमानदारी से बताऊं मैंने तमिलनाडु के थाने में पिता-पुत्र की बर्बर पुलिसिया हत्या की खबरों को ज्यादा नहीं पढ़ा और न विकास दुबे और पुलिस के बीच हुई पहले व दूसरे इनकाउंटर की खबरों की बारीकी में गया।

यही जनता के मन की बात!

उत्तर प्रदेश के गैंगेस्टर और कानपुर में आठ पुलिसवालों की हत्या के आरोपी विकास दुबे को मार कर पुलिस ने क्या वहीं काम किया है

कानून व्यवस्था या बदले की कार्रवाई

देश में कानून का राज चलेगा या जंगल राज होगा? न्याय होगा या बदले की कार्रवाई होगी? इसके जवाब से तय होगा कि आने वाले दिनों में एक देश और सभ्य समाज के नाते भारत का भविष्य क्या होगा।

पुलिस की वहीं पुरानी कहानी

भारत के चाहे किसी राज्य की पुलिस हो उसके पास हर चीज के टेंपलेट बने हुए हैं। वह जिस बात को चाहे जस्टिफाई कर सकती है और बिल्कुल एक जैसे तर्क से।

उंगलियों के पोरों से बहती क्रांति के युग में

विकास दुबे को तो मारा जाना ही था। आज नहीं तो कल। अगर कोई इतने पुलिस वालों को मार देने की घटना का केंद्रीय पात्र हो तो वह कितने दिन अपनी जान बचा सकता है? जो भी ऐसा...

यूपी पुलिस पर कई सवाल

उत्तर प्रदेश में गैंगस्टर विकास दुबे की तलाश में पुलिस की दर्जनों टीमें लगाई गई हैं, सैकड़ों फोन नंबर्स को सर्विलांस पर लगाया गया है।

महाकाल मंदिर में पकड़ा गया विकास दुबे

उत्तर प्रदेश के कानपुर के कुख्यात अपराधी और पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोपी विकास दुबे को आज मध्यप्रदेश के उज्जैन में महाकाल मंदिर से गिरफ्तार कर लिया गया।
- Advertisement -spot_img

Latest News

आखिरकार हमने समझी पेड़-पौधों की कीमत, शुरुआत हुई बागेश्वर धाम से

बागेश्वर| कोरोना काल हमारे लिए सबसे बुरा दौर रहा है। लेकिन इसने हमें बहुत कुछ सिखा दिया है। कोरोना...
- Advertisement -spot_img