nayaindia Amit Shah: शेयर बाजार में गिरावट और चुनावी परिणाम
इंडिया ख़बर

Amit Shah: शेयर बाजार में गिरावट और चुनावी परिणाम

ByNI Desk,
Share
Image Credit: NDTV

केंद्रीय गृह मंत्री Amit Shah को यह लगता हैं की 4 जून के बाद बाजार में तेजी आ सकती हैं। जब 2024 के लोकसभा चुनाव के नतीजे घोषित किए जाएंगे। Amit Shah चुनाव परिणाम को लेकर शेयर बाजार में बेचैनी से बेपरवाह हैं। और एफआईआई की ओर से लगातार बिकवाली जारी रहने से सोमवार को शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 742 अंक गिरकर 71,922 पर पहुंच गया। साथ ही शुरुआती कारोबार में ऑटो, कंज्यूमर ड्यूरेबल्स और मेटल शेयरों में सबसे ज्यादा गिरावट नजर आई। निफ्टी भी 194 अंक फिसलकर 21,861 पर आ गया और जो दलाल स्ट्रीट पर कमजोर निवेशक धारणा को दर्शाता हैं।

चौथे चरण का मतदान अभी चल रहा हैं। Amit Shah ने गिरावट के लिए “अफवाहों” को जिम्मेदार बताया व एनडीटीवी से कहा की बाजार की चाल को चुनावों से जोड़ना बिल्कुल भी बुद्धिमानी नहीं हैं। और Amit Shah ने टीवी चैनल से कहा की 4 जून से पहले खरीदें, बाजार में तेजी आने वाली हैं।

फिलिपकैपिटल ने अपने नवीनतम नोट में एक मजबूत रैली की उम्मीद की हैं। यदि भाजपा के नेतृत्व वाला एनडीए बहुप्रचारित 400 से अधिक के लक्ष्य को हासिल कर लेता हैं। और अगर एनडीए के लिए 300-330 सीटें कम होने पर बाजार में अप्रत्याशित प्रतिक्रिया (गिरावट) होती हैं। तो हम इसे खरीदारी के अवसर के रूप में मानेंगे। घरेलू ब्रोकरेज ने अपने नोट में कहा की अगले चुनाव चरणों में मतदान का प्रतिशत और खराब होने से चुनाव परिणाम पर असर भी पड़ सकता हैं। और इक्विटी। इसलिए हम कड़ी नजर रखेंगे।

फिलिपकैपिटल ने कहा की पहले तीन चरणों में मतदान थोड़ा कम रहा। हालांकि यह कुछ निर्वाचन क्षेत्रों के परिणामों को प्रभावित भी कर सकता हैं। लेकिन इससे भाजपा के सत्ता में लौटने के व्यापक रूप से अपेक्षित परिणाम पर कोई भी असर पड़ने की संभावना नहीं लग रही हैं।

चरण 1 के लिए मतदान 66.1 प्रतिशत और चरण 2 के लिए 66.7 प्रतिशत रहा हैं। और चरण 3 में 64.6 प्रतिशत मतदान रहा। जबकि 2019 के चुनावों में राष्ट्रीय औसत 67.4 प्रतिशत रहा था। और बड़े राज्यों गुजरात, राजस्थान और तमिलनाडु में 2019 की रीडिंग की तुलना में कम मतदान हुआ। इसके बाद केरल और असम का स्थान रहा जबकि कर्नाटक में थोड़ा अधिक मतदान रहा।

अगर हम 2019 के घोषणापत्र और मोदी सरकार द्वारा पहले 100 दिनों में किए गए कार्यों को जोडे तो हमें बहुत सारे कनेक्शन मिलते हैं। और संक्षेप में, उन्होंने न केवल बातें कीं बल्कि चलकर भी चले मिरे। एसेट कैपिटल मार्केट्स ने एक हालिया नोट में कहा।

मिरे बीमा क्षेत्र में सुधारों को देखना जिसमें एक इकाई को समग्र बीमा लाइसेंस देना शामिल हैं। जो उन्हें जीवन और गैर-जीवन दोनों उत्पादों की पेशकश करने की अनुमति भी देता हैं। और सिंगापुर, मलेशिया और यूके जैसे देश ऐसी संस्थाओं को अनुमति देते हैं।

आयुष्मान भारत योजना वर्तमान में 100 मिलियन गरीब परिवारों को कवर करती हैं। और भाजपा ने अपने 2024 के घोषणापत्र में 70 वर्ष से ऊपर के प्रत्येक व्यक्ति को इस योजना के तहत शामिल करने का संकल्प लिया हैं। और मिरे ने कहा की मौजूदा योजना हर साल प्रति गरीब परिवार को 5 लाख रुपये का बीमा कवरेज प्रदान करती हैं। साथ ही आगामी जुलाई बजट में इस कवरेज राशि को 10 लाख रुपये तक बढ़ाया जा सकता हैं। और इसके लिए 50 अरब रुपये के अतिरिक्त परिव्यय की आवश्यकता हो सकती हैं।

मिरे को भारतीय रेलवे को आधुनिक और विश्व स्तरीय सुविधाओं से लैस करने के लिए अगले पांच वर्षों में लगभग 10-12 लाख करोड रुपये के निवेश की उम्मीद हैं। साथ ही बजट के साथ इस घोषणा की उम्मीद भी की जा सकती हैं।

यह भी पढ़ें: 

तेजस्वी के बयान का बड़ा मतलब

ममता का मछली का नैरेटिव कितना चलेगा?

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें