Naya India

India ने मालदीव में अनधिकृत सैन्य उड़ान के आरोपों को किया खारिज

Image Credit: Telegraph India

India ने मालदीव के रक्षा मंत्री घासन मौमून के आरोपों को खारिज कर दिया की मालदीव में तैनात भारतीय सैन्य हेलीकॉप्टर पायलटों ने 2019 में एक अनधिकृत ऑपरेशन किया।

India ने कहा की मालदीव में भारतीय विमानन प्लेटफॉर्म हमेशा सहमत प्रक्रियाओं और उचित प्राधिकरण के साथ के अनुसार ही काम करते हैं। और उन्होंने कहा की थिमाराफुशी में आपातकालीन लैंडिंग एक अनदेखी आवश्यकता के कारण हुई। और माले में एक संवाददाता सम्मेलन में मौमून ने कहा की उन्हें विमानन प्लेटफार्मों में से एक के अनधिकृत उड़ान भरने के बारे में पता था।

साथ ही मंत्री ने आरोप लगाया की 2019 में पूर्व राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह के प्रशासन के दौरान India सैन्य हेलीकॉप्टर पायलटों ने मालदीव की अनुमति के बिना उड़ान भरी थी। और उन्होंने कहा की इस मामले की समीक्षा राष्ट्रीय सुरक्षा सेवाओं पर संसद की समिति (241 समिति) द्वारा की गई थी। जब वह एक विधायक थे।

मालदीव नेशनल डिफेंस फोर्स (एमएनडीएफ) के प्रमुख मेजर जनरल इब्राहिम हिल्मी प्रेस कॉन्फ्रेंस में थे। उन्होंने आरोप लगाया की अनधिकृत उड़ान हुई थी और जिसमें भारतीय सैन्य कर्मियों ने था एटोल के थिमाराफुशी द्वीप में हेलीकॉप्टर को उतारा था। जो राजधानी माले से 222 किमी दक्षिण में।

इस आरोप को खारिज करते हुए भारत ने कहा की मालदीव में India विमानन प्लेटफार्मों ने हमेशा सहमत प्रक्रियाओं के अनुसार और एमएनडीएफ से उचित प्राधिकरण के साथ ही काम किया हैं। और 09 अक्टूबर 2019 को प्रेस कॉन्फ्रेंस में संदर्भित विशिष्ट उड़ान भी एमएनडीएफ की मंजूरी के साथ ही की गई थी।

India ने कहा की एक अनदेखी आवश्यकता के कारण थिमाराफुशी में आपातकालीन लैंडिंग आवश्यक हो गई थी। जिसे प्लेटफॉर्म और चालक दल की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एयर ट्रैफिक कंट्रोल (एटीसी) से आवश्यक ऑन-ग्राउंड मंजूरी लेने के बाद में किया गया था।

India उच्च आयोग का बयान, राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज्जू की मांग के बाद भारत ने मालदीव से 76 सैन्य कर्मियों की वापसी पूरी होने के कुछ समय बाद आया। और पिछले साल नवंबर में सत्ता में आए चीन समर्थक नेता मुइज्जू ने अपने देश से भारतीय सैन्य टुकड़ियों की वापसी के लिए 10 मई की समय सीमा भी तय की थी।

समय सीमा का सम्मान करते हुए भारत ने मालदीव से अपने सभी सैन्यकर्मियों को वापस बुला लिया और वह मानवीय सहायता और आपदा प्रतिक्रिया गतिविधियों के लिए द्वीप समूह में दो भारतीय हेलीकॉप्टर और साथ ही एक डोर्नियर विमान के संचालन में शामिल हुए थे।

यह भी पढ़ें: 

Amit Shah: शेयर बाजार में गिरावट और चुनावी परिणाम

PM Modi का वाराणसी से नामांकन, चार प्रमुख प्रस्तावकों ने दिया समर्थन

Exit mobile version